करंट टॉपिक्स

राज्य शिक्षा मंत्री भावेश कलिता ने किया विद्या भारती “MyNEP”  प्रतियोगिता का उद्घाटन

Spread the love

गुवाहाटी. विद्या भारती द्वारा आयोजित मेरी शिक्षा मेरा भारत शीर्षक “MyNEP” प्रतियोगिता का असम में राज्य शिक्षा मंत्री भावेश कलिता द्वारा अधिकारिक रूप से उद्घाटन किया गया.

राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 पर एक राष्ट्रव्यापी जागरूकता अभियान के तहत राष्ट्रीय शिक्षा नीति के सुधारों के दायरे, पैमाने और प्रभाव पर व्यापक चर्चा के अलावा, प्रतियोगिता भी शामिल होगी. 25 सितंबर पं दीनदयाल उपाध्याय जयन्ती से लेकर 2 अक्तूबर गांधी जयन्ती तक ऑनलाइन माध्यम में MyNEP पर आधारित लोकप्रिय एवं आकर्षक प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी.

My-NEP प्रतियोगिता 13 भाषाओं, चार उप-विषयों पर आयोजित की जाएगी, जैसे भारत केन्द्रित, समग्र शिक्षा, ज्ञान आधारित समाज और गुणवत्ता शिक्षा. प्रतियोगिता को तीन श्रेणियों में बाँटा गया हैं, कक्षा 9-12 की पहली श्रेणी, दूसरी स्नातक श्रेणी और तीसरी नागरिक श्रेणी. प्रत्येक श्रेणी में विजेताओं को महत्वपूर्ण एवं आकर्षक पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे, प्रत्येक प्रतियोगी को एक भागीदारी प्रमाणपत्र प्राप्त होगा. My-NEP प्रतियोगिता के तहत हस्तनिर्मित पेंटिंग, मीम-मेकिंग, प्रधानमंत्री को पत्र-लेखन, भाषण प्रतियोगिता, निबंध लेखन प्रतियोगिता, लघु फिल्म निर्देशन (निर्माण), डिजिटल डिजाइनिंग और ट्विटर थ्रेड जैसी प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी. श्रेणी-विशिष्ट प्रतियोगिताओं के अलावा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विभिन्न पहलुओं पर एक इंटरेक्टिव (ज्ञानवर्धक) क्विज़ भी ऑनलाइन माध्यम द्वारा आयोजित किया जाएगा. विजेताओं के नामों की घोषणा “05 अक्तूबर 2020” को की जाएगी.

भावेश कलिता ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश के साथ साथ असम को भी आगे बढ़ाने में मददगार साबित होगी. मूल्य आधारित शिक्षा के साथ ही मातृभाषा में शिक्षा प्राप्त कर अपने मूल से जुड़े रहकर भारत की विशेषता को विश्व पटल पर लाने में देश की भावी पीढ़ी समर्थ होगी.

कार्यक्रम में विद्या भारती पूर्वोत्तर क्षेत्र के मंत्री, साँचीराम ने कहा कि विदेशों से आयातित शिक्षा व्यवस्था ने अपने देश का बंटाधार किया है तथा देश की जड़ों को खोखला करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के लागू होने से नुकसान की भरपाई होने की उम्मीद की जा सकती है.

सम्मानित अतिथि विद्या भारती के राष्ट्रीय सचिव तथा पूर्वोत्तर क्षेत्र संगठन मंत्री ब्रह्माजी राव ने असम में चल रहे शंकरदेव शिशु निकेतनों की प्रशंसा की. असम के निकेतनों के माध्यम से शिक्षा के क्षेत्र में चलाए चलाए जा रहे मौन आन्दोलन से विद्यार्थियों को मूल्य आधारित शिक्षा प्रदान करने का उल्लेख करते हुए नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के सफल होने की आशा प्रकट की.

मुख्य वक्ता अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सह राष्ट्रीय मंत्री श्रीनिवास जी ने कहा कि ज्ञान आधारित समाज के निर्माण में जो संकल्पना होनी चाहिए, वह सारी चीजें इस नई शिक्षा नीति में समाहित हैं और यही भारत को विकसित राष्ट्र के रूप में खड़ा करेगा. नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति समाज की आकांक्षाओं का प्रतिफलन है. इसके माध्यम से हम भारत केन्द्रित शिक्षा सफल होने की उम्मीद कर सकते हैं.

विद्या भारती उत्तर असम प्रान्त के संगठन मंत्री हेमन्त धिं मजूमदार ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से होने वाले लाभ की व्याख्या की. इस नीति के लागू होने से आने वाले दिनों में असम के साथ-साथ पूर्वोत्तर क्षेत्र भी उन्नति की राह पर अग्रसर होगा.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *