करंट टॉपिक्स

स्वावलंबन – लॉकडाउन में स्टीविया का बाजार घटा तो शुरू की गिलोय व तुलसी की खेती

Spread the love

भोपाल. कोरोना संकट काल में लॉकडाउन के कारण सब बाजार, कारखाने बंद हो गए. लोग घरों में बंद होने को मजबूर हो गए. ऐसे में देवांशी ने औषधीय खेती की ओर कदम बढ़ाया. कटनी जिले के ढीमरखेड़ा विकासखंड के मंगेली गांव में 55 एकड़ क्षेत्र में देवांशी ने गिलोय और तुलसी की खेती शुरू की. उनके हौसले और कड़े परिश्रम से तुलसी व गिलोय की खेती जल्द फलने-फूलने लगी. देवांशी के अनुसार स्वास्थ्य और खेती दोनों की उन्नति का क्षेत्र है, इसमें कैरियर भी है और इंकम भी, अगर दोनों सेक्टर को मिलाकर खेती में काम किया जाए तो समाज को सहजता से जरूरत की औषधि उपलब्ध होगी.

देवांशी ने बताया कि मल्टीनेशनल कंपनी का काम छोड़कर खेती करना ज्यादा अच्छा लगा. कोरोना और लॉकडाउन के बाद लगा कि इम्यूनिटी बढ़ाने वाली औषधी खेती ज्यादा बेहतर है. गिलोय और तुलसी की खेती शुरू की. दोनों जल्दी खराब नहीं होती और ये ऐसी खेती है कि ज्यादा देखभाल भी नहीं करना पड़ता. साथ ही अब वो अरोमा और दूसरे हर्बल्स की खेती भी कर रही है.

बैंगलोर में मीडिया साइकोलॉजी और लिटरेचर से ट्रिपल मेजर की पढ़ाई करने के बाद ब्रिटिश काउंसिल के साथ काम करने वाली देवांशी ने दो साल पहले खेती की राह अपनाई थी. पहले स्टीविया और दूसरी औषधि की खेती शुरू की. परंतु एक साल बाद ही कोरोना और लॉकडाउन की वजह से समस्याएं बढ़ गई. स्टीविया का बाजार कम होने लगा. लेकिन देवांशी ने चुनौती में हार नहीं मानी और गिलोय, तुलसी व अन्य औषधीय पौधों की खेती शुरू की.

देवांशी अब परंपरागत किसानों के लिए मिसाल बनकर उभरी हैं. वे किसानों को बताती हैं कि कैसे धान और गेहूं की खेती के साथ कुछ औषधीय खेती से किसान अपनी आय बढ़ा सकते हैं.

दो साल से औषधि की खेती करने वाली देवांशी नए- नए प्रयोग भी करती रहती हैं. वो औषधि खेती के लिए सीजनली प्रयोग अधिक करती है. उनका मानना है कि खेती के लिए कुछ भी नया प्रयोग करते हुए समय कैसे निकल जाता है, पता ही नहीं चलता. शुरूआती दौर में खेती को आय से जोड़कर नहीं देखना चाहिए. हो सकता है नुकसान हो, लेकिन आगे बढ़ते रहने से लाभ भी होगा. उनका कहना है कि छोटे किसान औषधि खेती से ज्यादा लाभ अर्जित कर सकते हैं. जैसे गेहूं व धान के साथ औषधि लगाएं तो गिलोय फेंसिंग में ही चढ़ जाएगा.

देवांशी जैविक खेती को भी बढ़ावा देती है. उन्होंने तुलसी हार्वेस्टिंग शुरू किया है, लगा कि लेमन ग्रास खराब होने वाली है तो तेल निकाल कर रख लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.