You Are Here: Home » Posts tagged "अयोध्या"

    फेक न्यूज़ – अयोध्या में भूख से साधु की मृत्यु की झूठी खबर फैलाई, पोर्टल संचालक के खिलाफ एफआईआर दर्ज

    सोशल मीडिया व पोर्टल पर भ्रामक समाचार चलाने वाले अन्य लोग अभी बचे हुए लखनऊ. फेक न्यूज़ इंडस्ट्री चलाने वाले कोरोना महामारी के दौरान भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे. अयोध्या में एक साधु की मृत्यु पर फेक न्यूज़ इंडस्ट्री के कर्ताधर्ता सक्रिय हो गए और खबर यह फैलाई कि साधु की भूख से मृत्यु हुई है. कुछ ने तो यहां तक लिख दिया कि साधु का पार्थिव देह का संस्कार भी नहीं किया गया, लेकिन जब सच्चाई सामने आई तो फेक न्य ...

    Read more

    ‘रामो विग्रहवान धर्म:’ – भगवान श्रीराम धर्म के साक्षात् साकार रूप हैं

    श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र का आधिकारिक प्रतीक चिन्ह जारी नई दिल्ली. अयोध्या में श्रीराम जन्मस्थान पर भव्य मंदिर निर्माण हेतु गठित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने ट्रस्ट का प्रतीक चिन्ह (लोगो) जारी कर दिया. प्रतीक चिन्ह में प्रभु श्रीराम की तस्वीर है, इसमें प्रभु श्रीराम अभयदान की मुद्रा में दिख रहे हैं. उसके पीछे बने सूर्य से किरणें प्रकाश फैला रही हैं. पीले और लाल रंग से सूर्य की लपटों को दिखाया गया ...

    Read more

    चैत्र नवरात्र के प्रथम दिन ब्रह्ममुहुर्त में नए आसन पर विराजमान हुए रामलला

    अयोध्या. अयोध्या में रामलला नवरात्र के पहले दिन 25 मार्च को ब्रह्ममुहुर्त में टेंट से निकलकर बुलेटप्रूफ अस्थाई मंदिर में नए आसन पर विराजमान हो गए. दो दिन के वैदिक अनुष्ठान के बाद आज ब्रह्ममुहुर्त में रामलला को शिफ्ट किया गया. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के न्यासियों के साथ उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ जी ने चैत्र नवरात्रि और नव विक्रम संवत 2077 के प्रथम प्रहर यानि ब्रह्ममुहुर्त में ...

    Read more

    25 मार्च को ब्रह्ममुहुर्त में टेंट से निकलकर नए आसन पर विराजेंगे रामलला

    आज सुबह से अस्थायी मंदिर में स्थापना के लिए विधिवत पूजा अर्चना प्रारंभ अयोध्या. अयोध्या में रामलला के जन्मस्थान पर भव्य मंदिर निर्माण के कार्य का प्रथम चरण शुरू हो गया है. 23 मार्च 2020 को प्रात: सात बजे श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के पहले चरण का कार्य प्रारंभ हो गया है. अर्थात् भगवान राम जहां जन्मभूमि के गर्भगृह पर विराजमान हैं, वहां से उनको नए स्थान पर विराजित करने के लिए अस्थायी मंदिर तैयार किया गय ...

    Read more

    अब बुलेटप्रूफ मंदिर में विराजेंगे रामलला, नवरात्र से पहले होगी स्थापना

    अयोध्या में रामलला अब टेंट के स्थान पर बुलेटप्रूफ मंदिर में विराजमान होंगे. नवरात्र से पहले अस्थायी मंदिर में स्थापना होगी. इससे पूर्व 20 मार्च से अयोध्या और काशी के विद्वान अस्थायी मंदिर के शुद्धिकरण का कार्य शुरू कर देंगे. यह प्रक्रिया 24 मार्च तक पूरी होगी. रामनवमी मेले के दौरान काफी संख्या में श्रद्धालु अयोध्या में जुटने वाले हैं, इसे लेकर प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है. 25 मार्च से शुरू हो रहे चैत्र ...

    Read more

    हिन्दू पुनरोत्थान का क्रम जारी रहने वाला है – पं. वामदेव शास्त्री

    अमेरिका के न्यू मैक्सिको में अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ वैदिक स्टडीज के प्रणेता पद्मभूषण डॉ. डेविड फ्रॉले उपाख्य पंडित वामदेव शास्त्री ने वेदों, पुराणों और अन्य भारतीय धर्मग्रंथों का विशद् अध्ययन किया है. वे संस्कृत के विद्वान हैं. अपने इंस्टीट्यूट के माध्यम से वे पश्चिम, विशेषकर अमेरिका में वेद, आयुर्वेद, योग और भारतीय ज्ञान भण्डार के प्रचार-प्रसार में लगे हैं. '80 के दशक में उनका भारत में उस समय हिन्दुत्व से ...

    Read more

    श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के उन्नायक श्री अशोक सिंहल जी की पुण्यतिथि पर नमन

    बीसवीं इक्कीसवीं सदी का संधि काल हिन्दू समाज के नवजागरण के काल खण्ड के रूप में इतिहास के पन्नों में अंकित होगा. यह वह कालखंड है, जब शताब्दियों से पराधीनता की बेड़ियों में जकड़े जाने से उत्पन्न आत्मविस्मृति एवं आत्महीनता की भावना को तोड़कर हिन्दू समाज ने विश्वपटल पर हूंकार भरी थी. सोए हुए हिन्दू पौरुष को जगाने का आधार बना श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन और इस आंदोलन के स्मरण के साथ ही इसके नायकों में जो नाम प्रमुखता ...

    Read more

    भारतीय इतिहास की गलत व्याख्या के साथ ही ऐतिहासक प्रमाणों को झुठलाते वामपंथी इतिहासकार

    इसमें कोई दो राय नहीं कि सत्य के उद्घाटन के अतिरिक्त इतिहास की कोई वैचारिक अथवा सांस्कृतिक प्रतिबद्धता नहीं होनी चाहिए. इतिहास में धर्मनिरपेक्ष सोच अथवा पंथनिरपेक्ष मूल्यों का भी समावेश नहीं होना चाहिए, क्योंकि तटस्थ दृष्टिकोण से लिखा इतिहास तो होता ही धर्म अथवा पंथ निरपेक्ष है. इतिहास आस्था का आधार अथवा विश्वास का प्रतीक भी नहीं होना चाहिए, क्योंकि आस्था, विवेक और तर्क का शमन करती है. इतिहास बौद्धिक कट्टरत ...

    Read more

    अयोध्या – काश! बाबरी ढांचे का सच मुसलमानों को बताया होता ……

    अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आ चुका है. पूरे देश को इस निर्णय का इंतजार था. सर्वोच्च न्यायालय ने रामलला के पक्ष में फैसला दिया है. अयोध्या का मामला अदालत के बाहर भी सुलझ सकता था, यदि देश के मुसलमानों को मुस्लिम नेतृत्व ने, खास तौर पर न्यायालय में मुस्लिम पक्षकारों ने, सत्य बताया होता. लेकिन वोट बैंक की राजनीति हावी होती चली गई. मुस्लिमों को बताया जाना चाहिए था कि राम जन्मभूमि पर वास्तविक प् ...

    Read more

    अयोध्या – फैज़ाबाद के जिला जज (ब्रिटिश जज) ने राम जन्मस्थान पर बाबरी ढांचे को दुर्भाग्यपूर्ण कहा था…

    भारत में मुग़ल काल से ही यूरोपियन व्यापारियों और यात्रियों का आना प्रारंभ हो गया था. इनमें से बहुतों ने अपने यात्रा वृत्तांत संस्मरण आदि लिखे हैं. जब राम जन्मभूमि पर स्थित मंदिर को बाबर द्वारा तोड़े जाने के प्रमाण मांगे गए, तब अनेक विद्वानों ने जगह-जगह से ढूंढकर इन अभिलेखों को प्रस्तुत किया. ये वक्तव्य राम जन्मभूमि मामले के महत्वपूर्ण दस्तावेज बन गए. इन वृत्तांतों में राम जन्मस्थान के अलावा अयोध्या के बारे मे ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top