करंट टॉपिक्स

आदि शंकराचार्य की प्रतिमा पूरे भारत व विश्व को एकात्मता का संदेश देगी

ओंकारेश्वर की पुण्य नगरी में जगतगुरु आदि शंकराचार्य जी (एकात्म की प्रतिमा) की 108 फीट ऊंची भव्य प्रतिमा का अनावरण और "अद्वैत लोक" का शिलान्यास...

राष्ट्रगौरव की पुनर्प्रतिष्ठा का संकल्प लेने का अवसर गुरु वंदन उत्सव

गुरु के प्रतीक - प्राणी, प्रकृति, ग्रंथ और ध्वज रमेश शर्मा आरंभिक काल में गुरु परंपरा के वाहक अधिकाँश ऋषि गणों का उल्लेख मिलता है,...

आदि शंकराचार्य का जीवन राष्ट्रीय एकता एवं अखंडता की भावना के संचार में सहायक

भारत की विविधता पश्चिमी जगत के लिए तो सदैव से आकर्षण, आश्चर्य एवं शोध की विषयवस्तु रही है, अनेक भारतीय विद्वान भी इसे लेकर मतिभ्रम...

काशी शब्दोत्सव – भारतीय विचार ‘वसुधैव कुटुंबकम’ को मानता है

वाराणसी. रूद्राक्ष इण्टरनेशनल कन्वेंशन सेंटर, सिगरा, (वाराणसी) में आयोजित तीन दिवसीय काशी शब्दोत्सव – 2023 के तीसरे दिन कुल पांच चर्चा सत्र आयोजित हुए. प्रथम...

धर्मरक्षक वीरव्रती खालसा पंथ – भाग दस

विजयी सैन्य शक्ति के प्रतीक ‘पांच प्यारे’ और पांच ‘ककार’ नरेंद्र सहगल गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा स्थापित ‘खालसा पंथ’ किसी एक प्रांत, जाति या...

अमरकंटक का प्राचीन मंदिर समूह ‘रंगमहला’; 40 वर्ष बाद मिली पूजा की अनुमति

जहाँ आदि शंकराचार्य ने स्थापित किया शिवलिंग, अभिषेक करने आती हैं माँ नर्मदा लोकेन्द्र सिंह कोटि तीर्थ माँ नर्मदा उद्गम स्थल के समीप प्राचीन काल...

संत रामानजुचार्य

आदि शंकराचार्य के दर्शन और सिद्धांतों ने उपनिषदों और वैदिक साहित्य की प्रामाणिकता को पुनर्जीवित किया. वेदों की व्याख्या में शंकराचार्य इस निष्कर्ष पर पहुंचे...

भारत का भारत से साक्षात्कार कराने वाले अद्भुत संत – स्वामी विवेकानंद

युग के सरोकारों और संवेदनाओं को समझने वाले योद्धा संत प्रणय कुमार यह कहना अनुचित नहीं होगा कि जहां आदि शंकराचार्य ने संपूर्ण भारतवर्ष को...