करंट टॉपिक्स

हैदराबाद नि:शस्त्र प्रतिरोध – जब ‘वंदे मातरम’ कहने पर उस्मानिया विश्वविद्यालय ने किया था 850 हिन्दू छात्रों को निष्कासित

डॉ. श्रीरंग गोडबोले हैदराबाद नि:शस्त्र प्रतिरोध का आंदोलन हिन्दू महासभा, आर्य समाज और स्टेट कांग्रेस ने किया. यह आंदोलन संघर्ष और बलिदान की अनुपम गाथा...

हैदराबाद नि:शस्त्र प्रतिरोध – जब बाबासाहेब आंबेडकर ने हैदराबाद निजाम को भारत का शत्रु कहा था  

डॉ. श्रीरंग गोडबोले हैदराबाद निजाम के संबंध में तत्कालीन तीन महत्वपूर्ण राष्ट्रीय नेताओं की भूमिकाओं को समझना आवश्यक है. ये तीन नेता हैं - महात्मा...

अमृत महोत्सव लेखमाला – सशस्त्र क्रांति के स्वर्णिम पृष्ठ : भाग 16

सुभाष चंद्र बोस ने किया था ब्रिटिश साम्राज्य पर निर्याणक प्रहार नरेन्द्र सहगल “तुम मुझे खून दो - मैं तुम्हें आजादी दूंगा” के गगनभेदी उद्घोष के...

अमृत महोत्सव लेखमाला – सशस्त्र क्रांति के स्वर्णिम पृष्ठ : भाग एक

दे दी हमें आजादी बिना खड़ग बिना ढाल..? लाखों बलिदानी क्रांतिकारियों का क्रूर अपमान 1857 का स्वातंत्र्य संग्राम नामक विश्व प्रसिद्ध पुस्तक के लेखक और अंडमान...

अमृत महोत्सव – स्वतन्त्रता संग्राम में आर्य समाज की भूमिका

डॉ. रवि प्रकाश भारत जब पराधीन था, उस समय देश में कई कुरीतियां और अन्य सामाजिक बुराइयाँ देश में फैली हुई थी. इन बुराईयों और...

‘प्रकृति के साथ चलने वाली भारतीय कालगणना का पुनर्स्थापन जरूरी’

उदयपुर. भारतीय नववर्ष समाजोत्सव समिति की ओर से आयोजित होली मिलन कार्यक्रम में मुख्य वक्ता आनंद प्रताप ने कहा कि भारतीय कालगणना पूर्णतः वैज्ञानिक है....

मराठवाडा मुक्ति संग्राम का पहला बलिदानी – बलिदानी वेद प्रकाश

हैदराबाद रियासत में मुस्लिम शासक (निजाम) था, लेकिन यह हिन्दू बहुसंख्यक रियासत थी. निजाम के पास रजाकार, इत्तेहादुल मुस्लमीन, खाकसार, सिद्धकी, निजाम सेना, इस प्रकार...

11 जून / जन्मदिवस – काकोरी कांड के नायक पंडित रामप्रसाद बिस्मिल को नमन

नई दिल्ली. पंडित रामप्रसाद का जन्म 11 जून, 1897 को शाहजहांपुर, उत्तर प्रदेश में हुआ था. इनके पिता मुरलीधर जी शाहजहांपुर नगरपालिका में कर्मचारी थे. पर, आगे चलकर उन्होंने नौकरी...

दुर्भाग्य है कि राहुल को भारतीय प्रतिमान के शिक्षण संस्थान में पढ़ने का अवसर नहीं मिला

सुखदेव वशिष्ठ विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षण संस्थान एक जीवन्त संस्था है. अंतर्मन से विद्याभारती के लक्ष्य को स्वीकार कर सब कार्यकर्ताओं द्वारा प्रारंभ किया...

एक बहुआयामी व्यक्तित्व – लाला लाजपत राय

डॉ. अरुण मेहरा लोग कहते हैं - बदलता है जमाना, बहादुर वो हैं जो जमाने को बदल देते हैं. यह पंक्तियां शेर-ए-पंजाब लाला लाजपतराय जी...