करंट टॉपिक्स


Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/sandvskbhar21/public_html/wp-content/themes/newsreaders/assets/lib/breadcrumbs/breadcrumbs.php on line 252

विनाशपर्व – अंग्रेजों ने भारतीय वस्त्र उद्योग को तार – तार किया / २

प्रशांत पोळ अंग्रेजों ने तय करके भारतीय वस्त्र उद्योग को नष्ट किया. वे इस उद्योग की महत्ता और इसके कारण भारत के वैश्विक महत्व को...

विनाशपर्व – अंग्रेजों ने भारतीय वस्त्र उद्योग को तार-तार किया 

प्रशांत पोळ हजार - दो हजार वर्ष पहले, जब भारत विश्व व्यापार में सिरमौर था, तब उस व्यापार का एक बड़ा हिस्सा था - कपड़ा...

अंतिम भाग – मत चूको चौहान…

पद्मश्री महाराव रघुवीर सिंह मोहम्मद गौरी द्वारा आक्रमण करने पर, युद्ध में जाते समय चन्द्रवरदाई को एक महापुरुष के दर्शन हुए, जिन्हें राजकवि ने भगवान...

मंथन – भारत विरोधी शक्तियों के नए हथियार

बलबीर पुंज पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस, तृणमूल सहित कई स्वघोषित सेकुलरिस्ट अपने प्रचार में पुन: "लोकतंत्र-संविधान खतरे में है" जैसे जुमलों...

विनाशपर्व – अंग्रेजों ने नष्ट किया भारत का समृद्ध नौकायन उद्योग / २

प्रशांत पोळ रॉबर्ट बेरोन वोन हेन गेल्डर्न (१८८५-१९६८), इस लंबे चौड़े नाम वाले एक जाने-माने ऑस्ट्रियन एंथ्रोपोलॉजिस्ट हुए हैं. इनकी शिक्षा-दीक्षा विएना विश्वविद्यालय में हुई....

लाखों क्रांतिकारियों के बलिदान का जिक्र तक नहीं

रमेश शर्मा पूरी दुनिया में भारत का अतीत विशिष्ट है. शोध अनुसंधान और सांस्कृतिक विरासत में ही नहीं, अपितु आक्रांताओं के अत्याचार, दासत्व की लंबी अवधि...

अंग्रेजों का भारत में प्रवेश

प्रशांत पोळ ईस्ट इंडिया कंपनी - २४ सितंबर, १५९९ को शुक्रवार था. इस दिन, लंदन के फाउंडर्स हॉल में, इंग्लैंड के ८० व्यापारी इकट्ठा हुए...

भीमा कोरेगांव का सच

देवेश खंडेलवाल 31 अक्तूबर, 1817 को रात 8 बजे ईस्ट इंडिया कंपनी के कप्तान फ्रांसिस स्टोंटो के नेतृत्व में 500 सिपाही, 300 घुड़सवार, 2 बंदूकों...

सुनो कहानी भारत की………एक

योगेश गढ़ा गया इतिहास अब न छुपने पाएगा 12 अगस्त, 1765 को व्यापारिक मंशा लेकर भारत में आई ईस्ट इंडिया कंपनी ने मुग़ल बादशाह शाहआलम...

हिन्दू पुनरोत्थान का क्रम जारी रहने वाला है – पं. वामदेव शास्त्री

अमेरिका के न्यू मैक्सिको में अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ वैदिक स्टडीज के प्रणेता पद्मभूषण डॉ. डेविड फ्रॉले उपाख्य पंडित वामदेव शास्त्री ने वेदों, पुराणों और अन्य भारतीय धर्मग्रंथों...