You Are Here: Home » Posts tagged "कोरोना महामारी"

    भारत भारती – आदर्श क्वारेंटाइन सेंटर बना विद्या भारती का धाबा छात्रावास

    ईश प्रार्थना के साथ शुरू होता है दिन, भोजन के लिए दोने पत्तल भी स्वयं बनाते हैं भोपाल (विसंकें). कोरोना माहमारी से बचाव के लिये लागू लॉकडाउन के कारण देश भर में मजदूर जहां-तहां अटके थे. अब सरकार द्वारा उन्हें वापस अपने घर पहुंचाने का क्रम शुरू गया है. लेकिन महामारी की आशंका के कारण उन्हें अपने ग्रामों के आसपास ही 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन में रखा गया है. इसी प्रकार विद्या भारती के प्रद्युम्न धोटे स्मृति जन ...

    Read more

    अलग झंडे की मांग और टीपू जयंती मनाने वालों को वीर सावरकर के नाम से चिढ़ क्यों?

    नई दिल्ली. जब देशभर में भारतीय स्वातंत्र्य समर के महायोद्धा अमर बलिदानी वीर विनायक दामोदर सावरकर की जयंती मनाई जा रही है. इसी शुभ अवसर पर कर्नाटक की येदियुरप्पा सरकार ने राजधानी बेंगलूरू के येलाहांका में स्थित एक नवनिर्मित फ्लाईओवर का नामकरण स्वतंत्रता सेनानी एवं हिंदुत्व विचारक वीर सावरकर के नाम पर करने का निश्चय किया था. बेशक कर्नाटक राज्य के लिए अलग झंडे की वकालत और टीपू की जयंती मनाने के लिए आकुल व्याकु ...

    Read more

    भाग चार, नवसृजन की प्रसव पीड़ा है – ‘कोरोना महामारी’

    नरेंद्र सहगल छोड़ने होंगे संस्थागत स्वार्थ सर्वस्वीकृत मंच की आवश्यकता कोरोना महामारी व्यापक एवं भयंकर रूप धारण कर रही है. बड़े-बड़े पूंजीवादी, साम्यवादी, समाजवादी और तथाकथित सुधारवादी देश इसकी चपेट में आकर कराह रहे हैं. इस जानलेवा त्रासदी में भी कुछ बड़े देश हथियारों के परीक्षण की योजना बना रहे हैं. साम्यवादी चीन पर कोरोना वायरस को बनाने और इसे पूरे विश्व में फैलाने का आरोप लग रहा है. एक प्रकार से यह विश्व ...

    Read more

    क्या प्रवासी श्रमिक भोजन के लिए तरसने वाले लोग हैं या देश की एकता के सेतु

    श्याम प्रसाद कोरोना से पूरा देश लॉकडाउन हो गया. प्रवासी श्रमिकों की अपने-अपने घर की ओर बाल-बच्चों के साथ पैदल चलने वाली हृदय विदारक तस्वीर ने देश की जनता के हृदयों को झकझोर दिया. सबसे पहले हमारी नजर में यह बात आई थी कि हर राज्य में हमारी कल्पना से परे प्रवासी श्रमिक जीवन बिता रहे हैं. ये प्रवासी श्रमिक कौन हैं? उनकी समस्याएँ क्या-क्या हैं? निकट रास्ते से अधिकार पाने की चाह रखने वाले हमारे राजनैतिक नेता कई ब ...

    Read more

    लॉकडाउन – चुनौतियों से निपटते हुए आत्मनिर्भरता की ओर

    नई दिल्ली. चीनी वायरस से बचाव के लिए भारत में घोषित लॉकडाउन को दो माह का समय पूरा हो गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को संबोधन के दौरान देश में पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी. उस समय देश में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 500 के लगभग थी. लॉकडाउन को तीन बार आगे बढ़ाया गया. तथा लॉकडाउन के हर चरण में पहले अधिक छूट प्रदान की गई. वर्तमान में चल रहे लॉकडाउन 4.0 में पाबंदियों का स्वरूप बदल चुका है. जीव ...

    Read more

    संवेदनशील समाज – दिव्यांग एक साल तक वेतन का 30 प्रतिशत PM-CARES में देंगे

    सीडीएस जनरल रावत भी एक साल तक हर माह 50 हजार रुपये PM-CARES में देंगे दक्षिणी दिल्ली के गांव सैदुलाजाब के ग्रामीणों ने PM-CARES में दिए 11 लाख नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) से अब तक सवा लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं. जबकि इस वायरस ने अब 3867 लोगों की जान ली है. संकट की घड़ी में समाज के लोग लगातार सहायता के लिए सामने आ रहे हैं. अपनी इच्छा और सामर्थ्य के अनुसार PM-CARES में राशि दे रहे ...

    Read more

    भाग तीन, नवसृजन की प्रसव पीड़ा है – ‘कोरोना महामारी’

    नरेंद्र सहगल भारत का वैश्विक लक्ष्य विश्व कल्याण सर्व सक्षम भारत की आध्यात्मिक परंपरा एकात्म मानववाद ही भारतीयता है                 प्रत्येक व्यक्ति, परिवार, समाज और राष्ट्र किसी दैवी उद्देश्य के साथ धरती पर जन्म लेते हैं. कर्म करने में स्वतंत्र सृष्टि के यह सभी घटक जब अपने-अपने कर्तव्यों को स्वार्थ रहित होकर निभाते हैं तो सृष्टि शांत रहती है. परंतु यही घटक जब अपने वा ...

    Read more

    रेलवे ने चलाई कुल 2818 श्रमिक ट्रेन, 2253 ट्रेन अपने गंतव्य पर पहुंचीं

    रेलवे द्वारा श्रमिक ट्रेन के माध्यम से करीब 36 लाख लोगों को घर पहुंचाया जा रहा अगले कुछ दिनों में रेलवे चलाएगा 2600 श्रमिक स्पेशल ट्रेन नई दिल्ली. वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने के लिए संपूर्ण देश में लॉकडाउन किया गया. इसकी वजह से सारे काम-काज ठप हो गए. फैक्ट्री, कारखाना, कारोबार, दुकान, वाहन, जहाज, ट्रेन सब बंद हो गए. कभी न थमने वाली मुंबई, कोलकाता, दिल्ली की सड़कों में सन्नाटा छा गया. रोज खाने-कमाने वाल ...

    Read more

    नकारात्मक समय में सकारात्मक सोच बनाए रखने की आवश्यकता

    हेमेन्द्र क्षीरसागर सकारात्मक और नकारात्मक दो पहलू जीवन के अहम हिस्से हैं. सकारात्मकता से बड़े से बड़े दुख हर लिए जाते हैं, वहीं नकारात्मकता से छोटे से छोटे सुख भी बैर बन जाते हैं. यह सब अपनी-अपनी सोच पर निर्भर करता है कि हम किसका, कैसा सामना करते हैं. सभी चाहते हैं उनके साथ हरदम सकारात्मक परि‍स्थ‍िति ही बनी रहे. नकारत्मकता तो आसपास भी कदापि ना भटके. लेकिन सकारात्मक और नकारात्मकता का प्रभाव कभी-कभी मनवांछित ...

    Read more

    कोरोना से लड़ाई में भारत के अहम हथियार – प्रभावी नेतृत्व और सहयोगी समाज

    सौरभ कुमार मुश्किल समय किसी की भी क्षमताओं की परीक्षा लेता है, कोरोना महामारी के इस दौर ने विश्व के सभी देशों की परीक्षा ली है. अमेरिका और यूरोप जैसे शक्तिसंपन्न, समृद्ध देश भी घुटने टेकते नजर आए. अस्पतालों में इतनी जगह नहीं बची कि मरीजों का इलाज किया जा सके, सालों के परिश्रम से खड़ा किया गया तानाबाना बिखरने लगा. अमेरिका में 96,000, यूके में 36000, इटली में 32000 और फ्रांस में लगभग 28000 लोग काल के गाल में स ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top