You Are Here: Home » Posts tagged "डॉ. हेडगेवार"

    10 अक्तूबर / जन्मदिवस – राष्ट्रयोगी दत्तोपंत ठेंगड़ी

    श्री दत्तोपन्त ठेंगड़ी का जन्म दीपावली वाले दिन (10 अक्तूबर, 1920)  को ग्राम आर्वी, जिला वर्धा, महाराष्ट्र में हुआ था. वे बाल्यकाल से ही स्वतन्त्रता संग्राम में सक्रिय रहे. 1935 में वे ‘वानरसेना’ के आर्वी तालुका के अध्यक्ष थे. जब उनका सम्पर्क डॉ. हेडगेवार से हुआ, तो संघ के विचार उनके मन में गहराई से बैठ गये. उनके पिता उन्हें वकील बनाना चाहते थे; पर दत्तोपन्त जी एम.ए. तथा कानून की शिक्षा पूर्णकर 1941 में प्र ...

    Read more

    09 अक्तूबर / जन्मदिवस – गृहस्थ प्रचारक भैया जी दाणी

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की परम्परा में प्रचारक अविवाहित रहकर काम करते हैं; पर कुछ अपवाद भी होते हैं. ऐसे गृहस्थ प्रचारकों की परम्परा के जनक प्रभाकर बलवन्त दाणी का जन्म नौ अक्तूबर, 1907 को उमरेड, नागपुर में हुआ था. आगे चलकर ये भैया जी दाणी के नाम से प्रसिद्ध हुए. ये अत्यन्त सम्पन्न पिता के इकलौते पुत्र थे. उनके पिता श्री बापू जी लोकमान्य तिलक के भक्त थे. अतः घर से ही देशप्रेम के बीज उनके मन में पड़ गये थे, ज ...

    Read more

    अपना जीवन स्वार्थ के लिए नहीं, सबका भला करने के लिए है – डॉ. मोहन भागवत जी

    नई दिल्ली. दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने The RSS: Roadmaps for the 21st Century पुस्तक का विमोचन किया. कार्यक्रम में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि हमारा विविधताओं वाला देश है. देश एकता की विविधता को समझने वाला देश है. अपना जीवन स्वार्थ के लिए नहीं है, अपना जीवन सबका भला करने के लिए है. संघ का चिंतन है कि व्यवस्था ...

    Read more

    03 सितम्बर / जन्म दिवस – दक्षिण के सेनापति यादवराव जोशी

    नई दिल्ली. दक्षिण भारत में संघ कार्य का विस्तार करने वाले यादव कृष्ण जोशी जी का जन्म अनंत चतुर्दशी (3 सितम्बर, 1914) को नागपुर के एक वेदपाठी परिवार में हुआ था. वे अपने माता-पिता के एकमात्र पुत्र थे. उनके पिता कृष्ण गोविन्द जोशी जी एक साधारण पुजारी थे. अतः यादवराव जी को बालपन से ही संघर्ष एवं अभावों भरा जीवन बिताने की आदत हो गयी. यादवराव जी का डॉ. हेडगेवार जी से बहुत निकट सम्बन्ध था. वे डॉ. जी के घर पर ही रह ...

    Read more

    वीर गोगादेव चौहान जी की छड़ी का पूजन

    डॉ. हेडगेवार स्मारक समिति एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, सामाजिक समरसता मंच के तत्वाधान में 17 अगस्त शाम को "अर्चना" रामबाग पर पूज्य वीर गोगादेव चौहान के  निशान (छड़ी) के पूजन का आयोजन किया गया. सामाजिक समरसता के इस आयोजन में इंदौर शहर के वाल्मीकि समाज द्वारा अलग-अलग हिस्सों से आई 08 छड़ियों का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के इंदौर विभाग के संघचालक शैलेन्द्र जी महाजन, डॉ. हेडगेवार स्मारक समिति के अध्यक्ष ईश्वरदास जी ...

    Read more

    अज्ञात स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार – 16

    नरेंद्र सहगल सर्वांग स्वतंत्रता की ओर संघ के बढ़ते कदम 15 अगस्त 1947 को देश दो भागों में विभक्त हो गया. ‘इंडिया दैट इज़ भारत’ और ‘पाकिस्तान’. भारत को राजनीतिक स्वतंत्रता प्राप्त होने बाद गांधी जी ने ‘कांग्रेस का काम पूरा हो गया, अब इसे समाप्त कर के एक सेवादल के रूप में परिवर्तित कर देना चाहिए’ का सुझाव कांग्रेस के नेताओं के समक्ष रखा था. परन्तु सत्ता के मोह में फंस चुके कांग्रेस के नेताओं ने गांधी जी की एक न ...

    Read more

    अज्ञात स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार – 15

    नरेंद्र सहगल अखंड भारत की सर्वांग स्वतंत्रता भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और मुस्लिम लीग की पूर्ण सहमति के बाद विश्व के सबसे प्राचीन राष्ट्र के टुकड़े कर के अंग्रेज अपने घर चले गए. इस दुर्भाग्यशाली अवसर पर ‘अखंड भारत की पूर्ण स्वतंत्रता’ के लिए अपना सर्वस्व अर्पण करने वाले लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की आत्मा कितना रोई होगी, कितना तड़पी होगी, इसका अंदाजा वह कांग्रेसी नहीं लगा सकते जो हाथ में कटोरा लेकर अंग्रेजों ...

    Read more

    अज्ञात स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार – 12

    नरेंद्र सहगल 14 फरवरी 1930 को अपने दूसरे कारावास से मुक्त होकर डॉक्टर हेडगेवार ने पुनः सरसंघचालक का दायित्व सम्भाला और संघ कार्य को देशव्यापी स्वरूप देने के लिए दिन-रात जुट गए.अब डॉक्टर जी की शारीरिक, मानसिक एवं बौद्धिक शक्तियां संघ-स्वयंसेवकों के शारीरिक, मानसिक तथा बौद्धिक विकास में लगने लगीं.स्वभाव से परिश्रमी, मन से दृढ़ निश्चयी और बुद्धि से चतुर इस महापुरुष ने अपने स्वास्थ्य की तनिक भी चिंता न करते हुए  ...

    Read more

    अज्ञात  स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार – 11

    नरेंद्र सहगल पूर्व में हुए असहयोग आंदोलन की विफलता से शिक्षा लेकर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने अब एक और देशव्यापी आंदोलन करने की योजना बनाई. महात्मा गांधीजी को इस नए, ‘सविनय अवज्ञा आंदोलन’ का नेतृत्व सौंप दिया गया. अतः गांधी जी ने 6 अप्रैल 1920 को सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत अपनी ऐतिहासिक दांडी यात्रा के माध्यम से कर दी. गांधी जी ने सरकार द्वारा बनाए गए नमक कानून को तोड़ा और देशवासियों से अंग्रेजों के बनाए ...

    Read more

    अज्ञात  स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार– 10

    नरेंद्र सहगल संघ संस्थापक डॉक्टर हेडगेवार तथा उनके अंतरंग सहयोगी अप्पाजी जोशी 1928 तक मध्य प्रांत कांग्रेस की प्रांतीय समिति के वरिष्ठ सदस्य के नाते सक्रिय रहे.कांग्रेस की इन बैठकों एवं कार्यक्रमों के आयोजन में डॉक्टर जी का पूरा साथ रहता था.सभी महत्वपूर्ण प्रस्ताव इन्हीं के द्वारा तैयार किए जाते थे.इसी समय अंग्रेज सरकार ने भारतीय फौज की कुछ टुकड़ियों को चीन में भेजने का फैसला किया.नागपुर में कांग्रेस की एक ज ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top