You Are Here: Home » Posts tagged "पाञ्चजन्य"

    पश्चिम बंगाल की राजनीतिक हिंसा लोकतंत्र के लिए गंभीर खतरा

    पत्रकार संगठन एनयूजेआई ने जारी की तथ्यात्मक रिपोर्ट 'ब्लीडिंग बंगाल' नई दिल्ली. नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स इंडिया और प्रभात प्रकाशन द्वारा संयुक्त रूप से प्रकाशित समसामयिक शोध पुस्तक ब्लीडिंग बंगाल का विमोचन नेहरू स्मारक संग्रहालय एवं पुस्तकालय में संपन्न हुआ. पुस्तक मई 2019 से अब तक राज्य में हुई राजनीतिक हिंसा की घटनाओं का तथ्यात्मक विवरण सामने रखती है और राजनीतिक तथा प्रशासन के गिरते स्तर को ठोस घटनाओं ...

    Read more

    1976 में सब एडिटर नहीं, सब इंस्पेक्टर तय करता था कि कौन सा समाचार छापना है या नहीं

    मुरादाबाद (विसंकें). साप्ताहिक पत्रिका पाञ्चजन्य के संपादक हितेश शंकर ने कहा कि केवल हम ही नहीं मानते कि देवर्षि नारद जी प्रथम संवादवाहक थे, बल्कि 02 जून 1826 को भारत का प्रथम हिंदी समाचार पत्र उदन्त मार्तण्ड शुरू हुआ था. उस दिन पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ कृष्ण द्वितीया यानि देवर्षि नारद जयंती थी. हितेश शंकर ने पत्रकारिता के मुख्य कार्य सूचना, शिक्षा एवं संचार पर बल दिया तथा नकारात्मक समाचार लेखकों और संपादको ...

    Read more

    सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में भी पत्रिका पहुंचने पर सकारात्मक वातावरण बना

    मातृवंदना के राष्ट्र जागरण विशेषांक का विमोचन शिमला. नववर्ष के अवसर पर मातृवंदना के राष्ट्र जागरण विशेषांक व नववर्ष कैलेण्डर का विमोचन किया गया. कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचार प्रमुख अनिल कुमार जी मुख्य वक्ता, पाञ्चजन्य के पूर्व संपादक एवं नेशनल बुक ट्रस्ट के पूर्व चेयरमैन बलदेव भाई शर्मा कार्यक्रम केअध्यक्ष, भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान शिमला के निदेशक प्रो. मकरंद परांजपे मुख्य अतिथि ...

    Read more

    हिन्दुस्थान भारतवासियों का है और पूर्ण स्वराज्य हमारा ध्येय है – डॉ. हेडगेवार

    मैं अच्छी तरह जानता हूं कि मातृभूमि के भक्तों को दमन की चक्की में पीसने वाली सरकार पर मेरे कथन का कोई भी परिणाम नहीं होने वाला है. फिर भी मैं इस बात को दोहराना चाहता हूं कि हिन्दुस्थान भारतवासियों के लिए ही है और पूर्ण स्वराज्य हमारा ध्येय है. आज तक ब्रिटिश प्रधानों एवं शासकों द्वारा उद्घोषित ‘आत्म निर्णय’ का नारा यदि कोरा ढोंग मात्र है तो सरकार खुशी से मेरे भाषण को राजद्रोहात्मक समझे, पर ईश्वर के न्याय पर ...

    Read more

    25 दिसंबर / जन्मदिवस – भारत के अमूल्य रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी

    राष्ट्रीय क्षितिज पर स्वच्छ छवि के साथ अजातशत्रु कहे जाने वाले कवि एवं पत्रकार, सरस्वती पुत्र अटल बिहारी वाजपेयी, एक व्यक्ति का नाम नहीं वरन् राष्ट्रीय विचारधारा का नाम था. राष्ट्रहित एवं राष्ट्रभाषा हिन्दी के प्रबल पक्षधर अटल जी राजनेताओं में नैतिकता के प्रतीक थे. अटल जी का जन्म 25 दिसम्बर 1924 को ब्रह्ममुहर्त में ग्वालियर में हुआ था. मान्यता अनुसार पुत्र होने की खुशी में जहाँ घर में फूल की थाली बजाई जा रह ...

    Read more

    हमारी सोच व्यक्तिगत न होकर समाज हित में होनी चाहिए – हितेश शंकर जी

    हिमालय हुंकार के विशेषांक का लोकार्पण देहरादून (विसंकें). व्यक्ति के जीवन को समाज से अलग नहीं देखा जा सकता. एकात्म मानववाद का विचार हमें यही सिखाता है. संस्कार, शरीर, मन, बुद्धि व आत्मा को केन्द्र में रखकर ही हमें समाज हित में कार्य करने चाहिएं, तभी देश के प्रति हमारा उत्तरदायित्व पूर्ण हो सकता है. विश्व संवाद केन्द्र द्वारा प्रकाशित ‘हिमालय हुंकार’ पाक्षिक पत्रिका के ‘मेरा भारत और मैं’ विशेषांक के लोकार्पण ...

    Read more

    पत्रकारिता एक मिशन है, पाञ्चजन्य और ऑर्गनाइजर इसके जीवंत उदाहरण – डॉ. कृष्णगोपाल जी

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने कहा कि पत्रकारिता एक मिशन है. पाञ्चजन्य और ऑर्गनाइजर इसका जीवंत उदाहरण हैं. उन्होंने इंगित किया कि कैसे पाञ्चजन्य और ऑर्गनाइजर ने समकालीन भारत में इस मिशन को लेकर सच्चा संघर्ष किया है. इस बात की ओर ध्यान आकृष्ट करवाया कि कैसे सरकारी और राजकीय दबावों से लड़ते हुए भी इन दोनों पत्रिकाओं ने राष्ट्र निर्माण के लिए विमर्श को जागृत रखा. वे पाञ ...

    Read more

    एक है हिन्दुत्व – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक जी का साक्षात्कार

    रा.स्व.संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा यानी संघ से जुड़ा वर्ष का सबसे बड़ा आयोजन. समाज में संघ कार्य की स्वीकार्यता तेजी से बढ़ रही है. विविध क्षेत्रों में संघ के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानने की उत्कंठा है. 2018 के अवसर पर रेशिम बाग, नागपुर में सरसंघचालक श्री मोहन भागवत जी ने देश के वर्तमान राजनीतिक - सामाजिक परिदृश्य तथा संघ के बढ़ते व्याप के संदर्भ में पाञ्चजन्य के संपादक हितेश शंकर तथा आर्गनाइजर के संपाद ...

    Read more

    पाञ्चजन्य और ऑर्गनाइज़र ने भारत की पहचान को स्वर देने का काम किया – डॉ. मनमोहन वैद्य जी

    नई दिल्ली (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य जी तथा सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी जी ने साप्ताहिक पत्र पाञ्चजन्य एवं ऑर्गनाइजर के विशेषांकों का विमोचन किया. पाञ्चजन्य और ऑर्गनाइजर (भारत प्रकाशन) के 70 वर्ष पूर्ण होने पर नेहरु मेमोरियल सभागार, तीनमूर्ति भवन में दोनों राष्ट्रवादी साप्ताहिकों की गौरवशाली यात्रा पर प्रकाश डालने के निमित्त विमोचन समारोह आयोजित कि ...

    Read more

    जनसहभागिता व राष्ट्रीयता एक दूसरे के पूरक हैं – हितेश शंकर जी

    नोएडा. प्रेरणा शोध संस्थान द्वारा "राष्ट्रीयता में जनसहभागिता" विषय पर प्रबुद्ध नागरिक गोष्ठी का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में केशव संवाद पत्रिका के "राष्ट्रीयता" अंक का विमोचन भी किया गया. कार्यक्रम का आयोजन शम्भू दयाल पी.जी. कॉलेज, गाजियाबाद के सभागार में किया गया. कार्यक्रम के मुख्य वक्ता पाञ्चजन्य के संपादक हितेश शंकर जी ने कहा कि राष्ट्रीय महत्व के गम्भीर विषयों पर शोध एवं अन्वेषण के उपरान्त इस प्रकार ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top