करंट टॉपिक्स

संविधान दिवस – तो क्या संस्कृत होती हमारी राष्ट्र भाषा..!

संविधान सभा में संस्कृत राज भाषा अथवा राष्ट्र भाषा के रूप में स्वीकार करने के पक्ष में 'भाषा' के विषय पर 12-14 सितम्बर, 1949 को...

पूर्वाग्रह के कारण संविधान की मूल प्रति में अंकित चित्रों को सामने नहीं आने दिया

जयपुर. संविधान दिवस के अवसर पर विश्व संवाद केन्द्र जयपुर की ओर से मालवीय नगर स्थित पाथेय भवन में संगोष्ठी का आयोजन किया गया. संगोष्ठी...

भारतीय है संविधान की आत्मा

‘हम भारत के लोग - हम भारत के लोगों ने भारत को एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य बनाने और अपने सभी नागरिकों को सुरक्षित करने का...

संविधान: भारतीय जीवन दर्शन का ग्रंथ

हेमेन्द्र क्षीरसागर भारत रत्न डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर भारतीय संविधान के जनक और मुख्य वास्तुकार थे. उन्हें 1947 में संविधान मसौदा समिति का अध्यक्ष नियुक्त...

कैसे भारत के जनजातीय समाज को ‘आदिवासी’ बनाया जा रहा है..?

09 अगस्त को "विश्व मूलनिवासी दिवस" मनाया जा रहा है. भारत में "विश्व आदिवासी दिवस" के रूप में मनाया जाता है. देश के विभिन्न हिस्सों...

इस्लामिक कानूनों की मांग का औचित्य..???

यदि भारत में इस्लामिक संगठन ‘ईशनिंदा’ जैसे विवादित कानून की मांग कर रहे हैं, तब इस ओर गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है. साथ...

पूर्वोत्तर की समृद्ध साहित्य परंपरा

प्रशांत पोळ हमारे देश के पूर्वोत्तर का क्षेत्र यानि देवी अष्टभुजा के आठ शक्तिशाली हाथ. आठ राज्य. आसाम, मणिपुर, नागालैंड, मेघालय, मिजोरम, त्रिपुरा, सिक्किम और...

ईद के दिन शंकर पंडित के धर्मान्‍तरण के निहितार्थ?

डॉ. मयंक चतुर्वेदी ईद के दिन घटी घटना ने एक बार फिर से सन्‍न कर दिया है, आश्‍चर्य यह है कि ऐसी घटनाएं उस देश...

राष्ट्रीय मतदाता दिवस और हमारी जिम्मेदारी

प्रणय कुमार लोकतांत्रिक मूल्यों एवं मानवाधिकारों की रक्षा का दंभ भरने वाले अमेरिका और पश्चिमी जगत के यथार्थ से हम अनभिज्ञ नहीं. ट्रंप-बाइडेन विवाद और...

‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय’ में निहित मानवाधिकार

सूर्यप्रकाश सेमवाल सर्वे भवन्तु सुखिनः के भारतीय सनातन विचार में “शन्नो अस्तु द्विपदे शन्नो अस्तु चतुष्पदे”  का व्यापक भाव विद्यमान है. बुद्धि, विवेक और चेतना...