करंट टॉपिक्स

स्वामी जी का दर्शन और जीवन आदर्श युवाओं का मार्गदर्शक – जे. नन्दकुमार

स्वामी विवेकानन्द जयन्ती पर व्याख्यानमाला मेरठ. चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ में स्वामी विवेकानन्द जयन्ती पर ‘राष्ट्रीय युवा दिवस’ का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का...

अंग्रेज़ भारत से क्यों भागे…? / 2

जबलपुर में सेना का आंदोलन प्रशांत पोळ मुंबई के नौसैनिकों के आंदोलन से अंग्रेजी शासन दहल गया था. नौसेना में इतना असंतोष होगा और नेताजी...

स्वामी श्रद्धानंद जी – स्वराज्य, स्वधर्म व स्वाभिमान हेतु बलिदान महात्मा

विनोद बंसल राष्ट्रीय प्रवक्ता, विश्व हिन्दू परिषद एडवोकेट मुंशीराम से स्वामी श्रद्धानंद तक की जीवन यात्रा प्रत्येक व्यक्ति के लिए बेहद प्रेरणादायी है. स्वामी श्रद्धानंद उन बिरले...

‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय’ में निहित मानवाधिकार

सूर्यप्रकाश सेमवाल सर्वे भवन्तु सुखिनः के भारतीय सनातन विचार में “शन्नो अस्तु द्विपदे शन्नो अस्तु चतुष्पदे”  का व्यापक भाव विद्यमान है. बुद्धि, विवेक और चेतना...

संकट काल में चरखा बना सहारा, 500 परिवारों के रोजगार का आधार

प्रयागराज. कोरोना संकट के दौर में अर्थव्यवस्था लड़खड़ा गई है. संकट काल में चरखा मददगार बना हुआ है. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज की हंडिया तहसील...

प्रत्येक राज्य धर्मांतरण के खिलाफ सख्त कानून बनाए

सुखदेव प्रत्येक राष्ट्र का एक इतिहास और संस्कृति होती है. सभी निवासियों की अपनी संस्कृति के प्रति श्रद्धा होती है. प्रत्येक सभ्यता, संस्कृति अपने आप...

02 अक्तूबर गांधी जयंती – स्वदेशी गांधी बनाम अंग्रेजी नेहरु

नरेंद्र सहगल महात्मा गांधी एक व्यक्ति अथवा नेता नहीं थे. भारतीय अंतर्मन के एक सशक्त हस्ताक्षर थे महात्मा जी. ‘रामराज्य’, ‘वैष्णव-जन’ एवं हिन्द स्वराज जैसे...

विश्व के सबसे सफल संचारक थे गांधी – प्रो. रजनीश कुमार

नई दिल्ली. महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के कुलपति प्रो. रजनीश कुमार शुक्ल  ने ,हा कि ''संचार के उद्देश्यों की बात की जाए, तो गांधी...

एफसीआरए में बदलाव के बाद राज्यों को भी धर्मांतरण के विरुद्ध कानून बनाने चाहिए

हृदयनारायण दीक्षित धर्मांतरण से राष्ट्रांतरण होता है. प्रत्येक राष्ट्र की एक भूमि और संस्कृति होती है. इतिहास भी होता है. राष्ट्र के निवासियों की अपनी...

हिन्दी केवल भाषा नहीं, हमारी परंपरा-सभ्यता की पहचान रही है

पल्लवी अनवेकर एक बार एक मां अपने बच्चे को अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई करने के फायदे गिनवा रही थी. अंग्रेजी की महत्ता समझा रही थी....