You Are Here: Home » Posts tagged "महात्मा गांधी"

    श्रीराम मंदिर – यह केवल एक मंदिर नहीं, भारत के सांस्कृतिक गौरव का प्रतीक है

    डॉ. मनमोहन वैद्य सह सरकार्यवाह, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अयोध्या में रामजन्मभूमि पर करोड़ों भारतीयों की आस्था और आकांक्षा के प्रतीक भव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण का शुभारम्भ 5 अगस्त, 2020 को होने जा रहा है. भारत के सांस्कृतिक इतिहास में यह पर्व  स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा. 1951 में सौराष्ट्र (गुजरात) के वेरावल में सुप्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा स्वतंत्र भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर राजें ...

    Read more

    स्थापना दिवस – भारतीय मजदूर संघ शून्य से शिखर की ओर

    धर्मदास शुक्ला भारतीय मजदूर संघ की स्थापना से पूर्व देश में कई श्रम संगठन कार्यरत थे, जो किसी न किसी राजनीतिक विचारधारा एवं पाश्चात संस्कृति से ओत-प्रोत थे. देश में ट्रेड यूनियनों का प्रचलन 1889 से आया, जब एमए लोंखडे ने बाम्बे मिल एसोशिएसन की शुरूआत की. उनके बाद एनएस जोशी ने 1890 में मद्रास लेबर एसोशिएशन की शुरूआत की. 1891 में बंगाल में एमएन राय ने जूट मिल एसोसिएशन की. एमएन राय ने मार्क्सवाद-लेनिनवाद का लबा ...

    Read more

    ना ‘राष्ट्रवाद’ शब्द भारतीय है और ना ही उसकी अवधारणा

    भारतीय विचार में ‘राष्ट्रवाद’ नहीं ‘राष्ट्रीयता’ का भाव है डॉ. मनमोहन वैद्य भारत और विश्व एक नए भारत का अनुभव कर रहे हैं क्योंकि भारत की विदेश नीति, रक्षा नीति, अर्थ नीतियों में मूलभूत परिवर्तन हुए हैं. विदेश और रक्षा नीति में आए परिवर्तनों से भारतीय सेना का बल और मनोबल बढ़ा है. दुनिया में भारत की साख मज़बूत हुई है. अधिकाधिक देश भारत का समर्थन कर रहे हैं और सहयोग करने को उत्सुक दिख रहे हैं. भारत के संयुक्त र ...

    Read more

    प्रबुद्धजनों ने देशवासियों से किया चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का आह्वान

    नई दिल्ली (इंविसंकें). सीमा पर चीन की हरकतों व भारतीय सैनिकों के बलिदान के कारण देश में चीन के खिलाफ समाज के प्रबुद्धजनों ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए चीनी सामान के बहिष्कार की अपील की है. सभी ने देशवासियों से चीन को सबक सिखाने का आह्वान किया है. सुप्रसिद्ध गायक सोनू निगम ने चीन को जवाब देने के लिए देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि चाइनीज प्रोडक्ट का बहिष्कार किया जाना बहुत आवश्यक है. अपने फौजी भाइयों और दे ...

    Read more

    विनायक सावरकर : स्वर्णिम अध्याय का नाम

    डॉ. पवन सिंह मलिक "मैं तुम्हारे दर्शन करने आया हूँ मदन, मुझे तुम पर गर्व है. सावरकर तुम्हें मेरी आँखों में डर की परछाई तो नहीं दिखाई दे रही, बिल्कुल नहीं मुझे तुम्हारे चेहरे पर योगेश्वर कृष्ण का तेज दिखाई दे रहा है, तुमने गीता के स्थितप्रज्ञ को साकार कर दिया है मदन". न जाने ऐसे कितने ही जीवन हैं जो सावरकर से प्रेरणा प्राप्त कर मातृभूमि के लिए हंसते हंसते बलिदान हो गए. महापुरुषों का स्मरण व सदैव उनके गुणों क ...

    Read more

    भविष्यद्रष्टा सावरकर

    -  प्रशांत पोळ निर्भयता, निडरता, निर्भीकता. इन सब का पर्यायवाची शब्द हैं – वीर सावरकर. इस सामान्य कद – काठी के व्यक्ति में असामान्य और अद्भुत धैर्य था. अपने 83 वर्ष के जीवन में वे किसी से नहीं डरे. २२ जून, १८९७ को, जब चाफेकर बंधुओं ने अत्याचारी अंग्रेज़ अफसर रॅंड को गोली से उड़ाया, तब विनायक दामोदर सावरकर की आयु थी मात्र १४ वर्ष. किन्तु इस घटना ने उनको इतना ज्यादा प्रेरित किया, कि उन्होने माँ भवानी के सामने द ...

    Read more

    हिन्दुत्व के आधार पर ही विश्व को पुनः जागृत करना होगा – जे. नंदकुमार

    रांची. प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक जे. नंदकुमार ने कहा कि कोरोना वायरस ने हमारे सामने बहुत सारे सवाल तथा मुद्दों को एक साथ खड़ा कर दिया है. जिसका उत्तर हमें एकजुट होकर विश्वास से देना होगा.कोरोना या तो हमें आर्थिक रूप से पीछे छोड़ेगा या फिर बीमार करके प्रभावित करेगा. वे प्रज्ञा प्रवाह झारखण्ड के फेसबुक लाइव में युग परिवर्तन और हिंदुत्व विषय पर संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इटली, अमेरिका, फ्रांस ...

    Read more

    महात्मा गांधी की दृष्टि में स्वातंत्र्यवीर सावरकर – भारत माता के निष्ठावान पुत्र क्रांतिवीर सावरकर

    लोकेन्द्र सिंह “सावरकर बंधुओं की प्रतिभा का उपयोग जन-कल्याण के लिए होना चाहिए. अगर भारत इसी तरह सोया पड़ा रहा तो मुझे डर है कि उसके ये दो निष्ठावान पुत्र सदा के लिए हाथ से चले जाएंगे. एक सावरकर भाई को मैं बहुत अच्छी तरह जानता हूँ. मुझे लंदन में उनसे भेंट का सौभाग्य मिला था. वे बहादुर हैं, चतुर हैं, देशभक्त हैं. वे क्रांतिकारी हैं और इसे छिपाते नहीं. मौजूदा शासन प्रणाली की बुराई का सबसे भीषण रूप उन्होंने बहु ...

    Read more

    ‘देशप्रेम की साकार और व्यावहारिक अभिव्यक्ति है स्वदेशी’

    लोकेन्द्र सिंह मुझे आज तक एक बात समझ नहीं आई कि कुछ लोग स्वदेशी जैसे अनुकरणीय, उदात्त और वृहद विचार का विरोध क्यों करते हैं? स्वदेशी से उन्हें क्या दिक्कत है? मुझे लगता है कि स्वदेशी का विरोध वे ही लोग करते हैं जो मानसिक रूप से अभी भी गुलाम हैं या फिर उनको विदेशी उत्पाद से गहरा लगाव है. संभव है, इनमें से बहुत से लोग उन संस्थाओं और संगठनों से जुड़े हों या प्रभावित हों, जो विदेशी कंपनियों से चंदा पाते हैं. जब ...

    Read more

    रामायण, कल और आज

    सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने रामायण सीरियल को डीडी नेशनल पर फिर से दिखाए जाने की घोषणा ट्वीट के माध्यम से की. उन्होंने कहा कि जनता की मांग को ध्यान में रखते हुए रामायण को पुनः शुरू किया जा रहा है. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया गया है, इस माहौल में लोगों ने सोशल मीडिया पर अपने पुराने दिनों को याद करते हुए कुछ ट्वीट किये. रामानंद सागर द्वारा निर्देशि ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top