You Are Here: Home » Posts tagged "महात्मा गांधी"

    विनायक सावरकर : स्वर्णिम अध्याय का नाम

    डॉ. पवन सिंह मलिक "मैं तुम्हारे दर्शन करने आया हूँ मदन, मुझे तुम पर गर्व है. सावरकर तुम्हें मेरी आँखों में डर की परछाई तो नहीं दिखाई दे रही, बिल्कुल नहीं मुझे तुम्हारे चेहरे पर योगेश्वर कृष्ण का तेज दिखाई दे रहा है, तुमने गीता के स्थितप्रज्ञ को साकार कर दिया है मदन". न जाने ऐसे कितने ही जीवन हैं जो सावरकर से प्रेरणा प्राप्त कर मातृभूमि के लिए हंसते हंसते बलिदान हो गए. महापुरुषों का स्मरण व सदैव उनके गुणों क ...

    Read more

    भविष्यद्रष्टा सावरकर

    -  प्रशांत पोळ निर्भयता, निडरता, निर्भीकता. इन सब का पर्यायवाची शब्द हैं – वीर सावरकर. इस सामान्य कद – काठी के व्यक्ति में असामान्य और अद्भुत धैर्य था. अपने 83 वर्ष के जीवन में वे किसी से नहीं डरे. २२ जून, १८९७ को, जब चाफेकर बंधुओं ने अत्याचारी अंग्रेज़ अफसर रॅंड को गोली से उड़ाया, तब विनायक दामोदर सावरकर की आयु थी मात्र १४ वर्ष. किन्तु इस घटना ने उनको इतना ज्यादा प्रेरित किया, कि उन्होने माँ भवानी के सामने द ...

    Read more

    हिन्दुत्व के आधार पर ही विश्व को पुनः जागृत करना होगा – जे. नंदकुमार

    रांची. प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक जे. नंदकुमार ने कहा कि कोरोना वायरस ने हमारे सामने बहुत सारे सवाल तथा मुद्दों को एक साथ खड़ा कर दिया है. जिसका उत्तर हमें एकजुट होकर विश्वास से देना होगा.कोरोना या तो हमें आर्थिक रूप से पीछे छोड़ेगा या फिर बीमार करके प्रभावित करेगा. वे प्रज्ञा प्रवाह झारखण्ड के फेसबुक लाइव में युग परिवर्तन और हिंदुत्व विषय पर संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इटली, अमेरिका, फ्रांस ...

    Read more

    महात्मा गांधी की दृष्टि में स्वातंत्र्यवीर सावरकर – भारत माता के निष्ठावान पुत्र क्रांतिवीर सावरकर

    लोकेन्द्र सिंह “सावरकर बंधुओं की प्रतिभा का उपयोग जन-कल्याण के लिए होना चाहिए. अगर भारत इसी तरह सोया पड़ा रहा तो मुझे डर है कि उसके ये दो निष्ठावान पुत्र सदा के लिए हाथ से चले जाएंगे. एक सावरकर भाई को मैं बहुत अच्छी तरह जानता हूँ. मुझे लंदन में उनसे भेंट का सौभाग्य मिला था. वे बहादुर हैं, चतुर हैं, देशभक्त हैं. वे क्रांतिकारी हैं और इसे छिपाते नहीं. मौजूदा शासन प्रणाली की बुराई का सबसे भीषण रूप उन्होंने बहु ...

    Read more

    ‘देशप्रेम की साकार और व्यावहारिक अभिव्यक्ति है स्वदेशी’

    लोकेन्द्र सिंह मुझे आज तक एक बात समझ नहीं आई कि कुछ लोग स्वदेशी जैसे अनुकरणीय, उदात्त और वृहद विचार का विरोध क्यों करते हैं? स्वदेशी से उन्हें क्या दिक्कत है? मुझे लगता है कि स्वदेशी का विरोध वे ही लोग करते हैं जो मानसिक रूप से अभी भी गुलाम हैं या फिर उनको विदेशी उत्पाद से गहरा लगाव है. संभव है, इनमें से बहुत से लोग उन संस्थाओं और संगठनों से जुड़े हों या प्रभावित हों, जो विदेशी कंपनियों से चंदा पाते हैं. जब ...

    Read more

    रामायण, कल और आज

    सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने रामायण सीरियल को डीडी नेशनल पर फिर से दिखाए जाने की घोषणा ट्वीट के माध्यम से की. उन्होंने कहा कि जनता की मांग को ध्यान में रखते हुए रामायण को पुनः शुरू किया जा रहा है. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया गया है, इस माहौल में लोगों ने सोशल मीडिया पर अपने पुराने दिनों को याद करते हुए कुछ ट्वीट किये. रामानंद सागर द्वारा निर्देशि ...

    Read more

    पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू कश्मीर – भूल और सुधार

    प्रधानमंत्री पी.वी. नरसिम्हा राव का कार्यकाल जम्मू और कश्मीर के लिए अनेक उतार-चढ़ावों वाला था. एक तरफ कश्मीर घाटी से हिन्दुओं का नरसंहार और निष्कासन लगातार जारी था. वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान अधिकृत जम्मू-कश्मीर (पीओजेके) में भारत के खिलाफ आतंकवादियों के प्रशिक्षण की शुरुआत हो चुकी थी. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पाकिस्तान की भाषा को समर्थन मिलने लगा था. साल 1993 में अमेरिका के स्टेट डिपार्टमेंट में उप-सहायक सचिव ...

    Read more

    भौतिक व आध्यात्मिक तरक्की का समन्वय ही आर्थिक विषय में गांधी-चिंतन है – बजरंग लाल गुप्त जी

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उत्तर क्षेत्र संघचालक बजरंग लाल गुप्त जी ने कहा कि गांधी विश्व मानव थे, उन्होंने भारत का ही नहीं वरन पूरे विश्व का मार्ग प्रशस्त किया है. गांधी एक दृष्टा ही नहीं, सृष्टा भी थे. उन्होंने विचार भी दिए, साथ ही उन्हें व्यवहार में लाने का मार्ग भी दिखाया. वे शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास द्वारा लक्ष्मीबाई महाविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय में “21वीं सदी के भारत में गांधी-चिंतन क ...

    Read more

    हिंसक प्रदर्शनों के पीछे की साजिशों का पर्दाफाश करना जरूरी – कर्नल जयबंस सिंह

    नागरिकता संशोधन अधिनियम पर हिंसा को लेकर रक्षा विशेषज्ञ व बुद्धिजीवियों ने जताई चिंता जालंधर (विसंकें). विश्व संवाद समिति द्वारा ‘नागरिकता संशोधन अधिनियम - भ्रम और वास्तविकता’ विषय पर आयोजित गोष्ठी में रक्षा विशेषज्ञों व बुद्धिजीवियों ने देश में जारी हिंसा के दौर पर चिंता जताई और इसे देशविरोधी ताकतों की साजिश बताया. रक्षा विशेषज्ञ व रक्षा मामलों के लेखक कर्नल (से.नि.) जयबंस सिंह ने इन साजिशों का पर्दाफाश कर ...

    Read more

    नागरिकता संशोधन विधेयक – 1947 का कार्य 2019 में पूर्ण हुआ

    अंततः देश विभाजन के तुरंत बाद किया जाने वाला बहू प्रतीक्षित व प्राकृतिक न्याय वाला कार्य संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने के साथ अब पूर्ण हुआ. चाणक्य ने कहा था कि ऋण, शत्रु और रोग को समय रहते ही समाप्त कर देना चाहिए. जब तक शरीर स्वस्थ और आपके नियंत्रण में है, उस समय आत्म साक्षात्कार के लिए उपाय अवश्य ही कर लेना चाहिए, क्योंकि मृत्यु के पश्चात कोई कुछ भी नहीं कर सकता. नीतिशास्त्र व अर्थशास्त्र के प ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top