You Are Here: Home » Posts tagged "मोहन भागवत"

    सनातन धर्म केवल हिन्दुओं के लिए नहीं, मनुष्य मात्र के लिए है – डॉ. मोहन भागवत

    मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि 'राष्ट्र और संस्कृति के प्रति हर नागरिक में प्रेम भाव होता है. हमारे पास विश्व कल्याण की धरोहर है, जिसने हमें अभी तक बनाए रखा है. सुख को लोग बाहर खोजते हैं, पर वह हमारे अंदर है. एक समय के बाद बाहरी सुख फीका पड़ जाता है, जबकि हमारे अंदर उपस्थित सुख कभी फीका नहीं होता. हर धर्म का मूल ही है, सत्य को अपने अंदर खोजना, यही सनातन धर् ...

    Read more

    प्रेम और सत्य की शक्ति हमारा बचाव करती है – डॉ. मोहन भागवत जी

    संघ के इतिहास में कितने ही प्रसंग आए, संघ को समाप्त करने का प्रयास किया. संघ समाप्त नहीं हुआ, लेकिन संघ को समाप्त करने वाले समाप्त हो गए. क्योंकि ये प्रेम लेकर चलने वाला, सत्य लेकर चलने वाला काम है. उस प्रेम की, सत्य की शक्ति हमारा बचाव करती है. जैसे प्रह्लाद की रक्षा हिरण्यकश्यपु से नरसिंह भगवान ने किया. चलेगा, बढ़ेगा, सबको अपने आगोश में लेकर भारत वर्ष को उन्नत बनाने के अभियान को गति देगा. ऐसा अपना संघ का ...

    Read more

    स्वयंसेवकों ने भ्रामक प्रचार को लेकर विभिन्न स्थानों पर पुलिस में दर्ज करवाई शिकायत

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बढ़ती लोकप्रियता से परेशान असामाजिक तत्व संघ के खिलाफ साजिश रच रहे हैं. सरसंघचालक मोहन भागवत जी के नाम से 16 पेज की “नया भारतीय संविधान” नामक एक छोटी किताब प्रकाशित कर प्रचारित की जा रही है. दुष्प्रचार को रोकने के लिए स्वयंसेवकों ने विभिन्न स्थानों पर पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है. साथ ही प्रशासन से मांग की है कि मिथ्या प्रचार करने वालों पर नियमानुसार कठोर कार्रवाई की ...

    Read more

    नागपुर महानगर की ओर से पुलिस में दर्ज करवाई शिकायत

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को लेकर अपने दुष्प्रचार का एजेंडा असफल होता देख असामाजिक तत्वों ने नया हथकंडा अपनाया है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प.पू. सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी के नाम से 16 पृष्ठ की 'नया भारतीय संविधान ' नामक एक छोटी PDF पुस्तिका प्रकाशित कर प्रचारित किया जा रहा है, जो बिल्कुल गलत है. संघ या सरसंघचालक जी की ओर से ऐसी कोई पुस्तिका प्रकाशित नहीं की गई है. असामाजिक तत्वों तथा संघ विरोधियों द्वारा ...

    Read more

    दीनदयाल शोध संस्थान प्रतिष्ठित एनसीसी समष्टि सेवा पुरस्कार से सम्मानित

    सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, एनसीसी फाउंडेशन के अध्यक्ष पद्मश्री एवीएस राजू ने प्रदान किया पुरस्कार नई दिल्ली. भारत रत्न नानाजी देशमुख द्वारा स्थापित दीनदयाल शोध संस्थान को प्रतिष्ठित एनसीसी समष्टि सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया गया. 28 दिसंबर को हैदराबाद में आयोजित भव्य कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी, एनसीसी फाउंडेशन के अध्यक्ष पद्मश्री एवीएस राजू ने पुरस्कार प्रदान किया. ...

    Read more

    धर्म समन्वित और संतुलित तरीके से जीवन जीने का तरीका है – डॉ. मोहन भागवत

    इंदौर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने शांतादेवी रामकृष्ण विजयवर्गीय न्यास का लोकार्पण किया. विजयवर्गीय परिवार द्वारा संचालित न्यास गरीब बच्चों की शिक्षा और चिकित्सा के क्षेत्र में काम करता है. लोकार्पण कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि 'हिन्दू समाज ने प्राचीन समय से लेकर आज तक कई बातें झेली हैं, तो कई उपलब्धियां भी हासिल की हैं. गत पांच ...

    Read more

    तपस्या, समर्पण भक्ति आदि तत्वों को लेकर चलने वाला व्यक्ति जीवन को सक्षम बनाता है – डॉ. मोहन भागवत जी

    अंबाजोगाई. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि तपस्या, समर्पण, आत्मनिवेदन और भक्ति, इन तत्वों को लेकर चलने वाला व्यक्ति जीवन को सक्षम बनाता है. लोकसंग्रह करने वाले कार्यकर्ता जीवन का सही मार्ग दिखाकर स्वयं के अनुकरण व आचरण से समाज को मार्ग दिखाते हैं. आत्मीयता और अपनापन ही विश्व का सत्य है. संघ के वरिष्ठ स्वयंसेवक एवं अखिल भारतीय इतिहास संकलन समिति के महासचिव डॉ. शरद जी हेबालकर ...

    Read more

    परमश्रद्धेय स्वामी पेजावर श्री स्वामी विश्वेश तीर्थ जी के वैकुण्ठलीन होने पर संघ की ओर से श्रद्धांजलि

    परमश्रद्धेय स्वामी पेजावर श्री स्वामी विश्वेश तीर्थ जी का वैकुण्ठलीन होना हम सब के लिए बहुत बड़ी हानि है. दैवी संपदायुक्त, देश और धर्म की चिंता में नित्य प्रयासरत, उनका सौम्य, शांत, प्रसन्न व शीतल व्यक्तित्व हम सभी कार्यकर्ताओं के लिए बहुत बड़ा आधार था. उनका स्पष्ट व स्नेहिल परामर्श कितनी ही कठिन समस्याओं को बहुत सरल बना देता था. वट वृक्ष की शीतल छांव जैसा उनका सान्निध्य अब हमको नहीं मिलेगा. उनकी भावनोत्कट ...

    Read more

    परिवार प्रबोधन वर्तमान समय की आवश्यकता है – डॉ. मोहन भागवत जी

    नासिक (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी नासिक प्रवास के दौरान गोले कॉलोनी स्थित राष्ट्र सेविका समिति के कार्यालय में सेविका समिति की बहनों से मिले. बहनों ने उत्साह के साथ सरसंघचालक जी का स्वागत किया. सरसंघचालक मोहन भागवत जी ने कहा कि मातृ शक्ति की प्रतिष्ठा कायम रखते हुए परिवार प्रबोधन वर्तमान समय की आवश्यकता है. जगत - जननी, प्रकृति, पुरुष, यह प्राकृतिक रचना है. हमारी संस्कृत ...

    Read more

    सुनिये, सरसंघचालक मोहन भागवत जी ने क्या कहा और मीडिया ने कैसे उसे राजनीति से जोड़ दिया

    बताइये न पिताजी, आप सब दान कर रहे हैं, मुझे किसको दान कर रहे हैं. ऐसा दो तीन बार होने के बाद पिताजी गुस्सा हो गए. जाओ तुमको हमने यमराज को दान दिया, ऐसा उन्होंने बोला. अब ये बालक है, ये सीखने वाला बालक और गुरु के घर उस समय जाने की पद्धति थी, उसके पहले माता पिता ही शिक्षक हैं. आज भी ऐसा ही है, जब तक विद्यालय में जाता नहीं. केजी में, नर्सरी में जाने नहीं लगता. उसके पहले, उसका जो एटीट्यूड कहते हैं वो एटीट्यूड त ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top