करंट टॉपिक्स

वीरांगना रानी अवंतीबाई

अदम्य साहस की प्रतिमूर्ति, महान वीरांगना रानी अवन्तीबाई ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे. मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर कर दिए....

पश्चिमी चिंतन में महिला-पुरुष में स्पष्ट भेद, भारतीय चिंतन किसी प्रकार का भेद नहीं मानता – वृशाली जोशी

काशी. विश्व मांगल्य सभा की अखिल भारतीय संगठन मंत्री वृशाली जोशी ने कहा कि ‘महि’ का अर्थ होता है पृथ्वी, जो पृथ्वी जैसा सहनशील, कल्याणकारी...

पारिवारिक मूल्यों को दृढ़ता प्रदान करने का कार्य मातृशक्ति का है

इंदौर. ‘सम्वर्धिनी - चिंतन भारतीय स्त्री का’ विषय पर डॉ. हेडगेवार जन्म शताब्दी सेवा न्यास, इंदौर द्वारा मातृ सम्मेलन का आयोजन किया गया. सम्मेलन की...

हम जनजाति हैं, पीछे हैं, इस भावना को बदल कर आगे बढ़ना होगा – राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

काशी (विसंकें). भगवान शंकर का अति प्रिय माना जाने वाला सोमवार का दिन काशी वासियों के लिए विशेष रहा. काशी में सोमवार को बाबा विश्वनाथ...

सन् 1857 के स्वतंत्रता संग्राम की कालजयी वीरांगना ‘झलकारी बाई’

ब्रिटिश शिविर में पहुँचने पर उसने चिल्लाकर कहा कि वो जनरल ह्यूरोज़ से मिलना चाहती है. ह्यूरोज़ और उसके सैनिक प्रसन्न थे कि न सिर्फ...

राष्ट्र सेविका समिति का रानी लक्ष्मीबाई जयंती पर कार्यक्रम

मैं रहूं या न रहूं, भारत ये रहना चाहिए उदयपुर. जिस उम्र में किशोर-किशोरियों का ध्यान पढ़ाई पर होता है, अपने कैरियर की तरफ होता...

‘मर्दानी’ रानी लक्ष्मीबाई की वीरता

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई 1857 की क्रान्ति की बलिदानी वीरांगना थीं. वीरांगना का जन्म वाराणसी में 19 नवम्बर, 1828 को हुआ था. उनका बचपन का...

घोष वादन के प्रदर्शन के साथ होगा स्वर साधक संगम का समापन

ग्वालियर. स्वर साधक संगम शिविर का समापन 28 नवम्बर को प्रगट कार्यक्रम के साथ होगा. इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन...

पथसंचलन में घोष वादकों के जयघोष से गूंजा शहर, पुष्पवर्षा से भव्य स्वागत

ग्वालियर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मध्यभारत प्रांत के चार दिवसीय स्वर साधक संगम (घोष शिविर) के दूसरे दिन शुक्रवार की शाम को शहर में घोष वादकों...

जनजाति गौरव दिवस – सहरिया जनजाति की गौरवपूर्ण गाथा

ग्वालियर-चंबल अंचल में रहने वाली बहुसंख्यक जनजाति ‘सहरिया’ की गौरव एवं शौर्य गाथाओं का उल्लेख स्वतंत्रता संग्राम के संदर्भ में अपवादस्वरूप ही होता है. लेकिन...