करंट टॉपिक्स

वर्तमान सरकार बेरोजगारी, अनपढ़ता और गरीबी पर चोट कर रही है – डॉ. इंद्रेश कुमार

रोहतक (विसंकें). डॉ. इंद्रेश कुमार ने कहा कि 1951 से अब तक भारत में मुस्लिम जनसंख्या पांच गुणा और हिन्दू जनसंख्या तीन गुणा बढ़ी है....

आत्मनिर्भरता का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए हमें अपने ‘स्व’ को पहचानना होगा – डॉ. मनमोहन वैद्य

  राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा कि भारत को स्वतंत्रता मिले 74 वर्ष हो गए हैं. 15 अगस्त, 1947...

रामभक्त मुस्लिम महिलाओं को मिल रही जान से मारने की धमकियां, अल्पसंख्यक आयोग ने लिया संज्ञान

नई दिल्ली. देश में समय-समय पर गंगा जमुनी तहजीब के उदाहरण दिये जाते हैं. बड़ी-बड़ी बातें की जाती हैं, लेकिन ऐसा करने वालें (गंगा जमुनी...

सात वर्षों में भारत ने ऐसे लिखी अपनी सामर्थ्य कथा

जयराम शुक्ल लालकिले की प्राचीर पर पंद्रह अगस्त को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार सातवीं बार तिरंगा ध्वज फहरा रहे थे, तब ऐसा लग रहा...

लालकिले की प्राचीर पर राम मंदिर की गूँज ने रचा इतिहास

विनोद बंसल भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीराम जन्मभूमि की स्वतंत्रता के मुद्दे को लालकिले की ऐतिहासिक...

अरुणोदय हो चुका वीर अब कर्मक्षेत्र में जुट जाएँ

डॉ. मनमोहन वैद्य 05 अगस्त, 2020 को अयोध्या में श्रीराम जन्मस्थान पर भव्य मंदिर के निर्माण का नेत्रदीपक समारंभ समूचे भारत, और विश्व भर में फैले...

चरमपंथ, धार्मिक असहिष्णुता एवं साम्प्रदायिकता को बढ़ावा क्यों?

डॉ. खुशबू गुप्ता भारतीय संविधान की प्रस्तावना में “लोकतंत्रात्मक गणराज्य” जैसे महत्वपूर्ण शब्द निहित हैं. यह एक ऐसा चित्र प्रस्तुत करता है जो न केवल...

शांति, अहिंसा, प्रेम एवं सौहार्द के जीवन मूल्यों को विश्व के समक्ष पुनः प्रस्तुत किया – राष्ट्रपति

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्र के नाम संबोधन के अंश – नई दिल्ली. स्वतंत्रता दिवस की पूर्व...

बेंगलुरू, दिल्ली, राम मंदिर और कुछ बातें जो हम समझ जाएं तो बेहतर है…!

सौरभ कुमार [caption id="attachment_35391" align="aligncenter" width="650"] Muslim mob attacking the KJ Halli police station over a FB post by a Cong Dalit MLA [/caption] बेंगलुरू में...

हमारे जनजाती भाइयों और बहनों ने सनातनी संस्कारों को जीवित रखा है

1193 में मुहम्मद गौरी के मनहूस कदम पड़ने से लेकर 1947 में अंग्रेजों की वापसी तक जिस घने अंधकार ने हिन्दुस्थान की अस्मिता को ढाँक...