करंट टॉपिक्स

संविधान की हत्या करने वाली तानाशाही के स्वर्णिम किस्से..!!

कृष्णमुरारी त्रिपाठी देश में गाहे-बगाहे इमरजेंसी, तानाशाही, हिटलरशाही जैसे शब्द सुनाई देते रहते हैं. हताशा से भरा एक वर्ग अपना राग अलापता रहता है. लोकतंत्र...

एकता में विविधता भारतीय संस्कृति की विशेषता है – डॉ. मनमोहन वैद्य जी

श्रीमद्भगवद्गीता और पत्रकारिता विषय पर संगोष्ठी का आयोजन पुणे. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य जी ने कहा कि हमारे देश व...

राम मंदिर जैसा आन्दोलन दुनिया में कहीं नहीं हुआ – डॉ. कृष्णगोपाल जी

अयोध्या. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने कहा कि राष्ट्रधर्म पत्रिका का विशेष अंक समाज की नई पीढ़ी को भगवान श्रीराम...

समर्पण व अनुशासन के पर्याय थे संकठा प्रसाद सिंह – दत्तात्रेय होसबाले जी

लखनऊ. भारतीय किसान संघ के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व राष्ट्रीय संगठन मंत्री ठाकुर संकठा प्रसाद सिंह की शताब्दी जयंती पर उनके जीवन पर आधारित...

बौद्धिक गुलामी से मुक्ति के लिए प्रारंभ हुआ राष्ट्रधर्म – दत्तात्रेय होसबाले जी

लखनऊ. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने बुधवार को डालीबाग स्थित गन्ना संस्थान के सभागार में राष्ट्रधर्म मासिक पत्रिका के विशेषांक ‘राष्ट्रीय...

हिन्दू संस्कृति के मूलभूत तत्व वनवासी समाज की परम्पराओं का हिस्सा हैं – जे. नंदकुमार जी

मानगढ़ धाम बलिदान दिवस पर जनजातीय चेतना परिषद, उदयपुर ने आयोजित की संगोष्ठी उदयपुर. भारत में यदि वनवासी हिन्दू नहीं हैं तो कोई भी हिन्दू...

अमृत महोत्सव लेखमाला – सशस्त्र क्रांति के स्वर्णिम पृष्ठ : भाग 16

सुभाष चंद्र बोस ने किया था ब्रिटिश साम्राज्य पर निर्याणक प्रहार नरेन्द्र सहगल “तुम मुझे खून दो - मैं तुम्हें आजादी दूंगा” के गगनभेदी उद्घोष के...

अमृत महोत्सव – काशी का विद्यालय, जिसके छात्रों एवं शिक्षकों ने स्वतंत्रता वेदी पर दी थी आहुति

डॉ. हेमंत गुप्त अंग्रेजों के शासन काल में भारतीयों को मानसिक और बौद्धिक रूप से ग़ुलाम बनाने के लिए मैकाले ने भारतीय गुरुकुल शिक्षा को...

पत्रकारिता में शुचिता, नैतिकता और आदर्श के हामी दीनदयाल जी

(पं. दीनदयाल उपाध्याय जयंती विशेष – 25 सितम्बर) लोकेन्द्र सिंह पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजनीतिज्ञ, चिंतक और विचारक के साथ ही कुशल संचारक और पत्रकार भी थे. उनके पत्रकार-व्यक्तित्व...

25 दिसंबर / जन्मदिवस – भारत के अमूल्य रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी

राष्ट्रीय क्षितिज पर स्वच्छ छवि के साथ अजातशत्रु कहे जाने वाले कवि एवं पत्रकार, सरस्वती पुत्र अटल बिहारी वाजपेयी, एक व्यक्ति का नाम नहीं वरन्...