करंट टॉपिक्स

पुस्तक समीक्षा – ‘हिन्दुत्व और गांधी’; एक ही है गांधी जी और आरएसएस का ‘हिन्दुत्व’

लोकेन्द्र सिंह कुछ लोग मेरे इस कथन से असहमत हो सकते हैं कि “गांधी जी का जीवन हिन्दुत्व में रचा–बसा था”. असहमतियों का सम्मान है,...

इस्लामिक कट्टरपंथ और कम्युनिस्ट उग्रवाद की जड़ें?

भारत में कम्युनिस्ट एवं इस्लामी कट्टरपंथी समूहों ने मिलकर देश के विभिन्न हिस्सों में षड्यंत्रपूर्वक आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया है. एक ओर जहां इस्लामिक...

क्या वास्तव में भारत में मुस्लिम ‘असुरक्षित’ हैं?

बलबीर पुंज गत दिनों राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने भारत को मुस्लिमों के लिए असुरक्षित बताते हुए कहा, "...हमने अपने-अपने...

जब पोलैंड में वामपंथी समूह ने किया था नरसंहार

पोलैंड में प्रत्येक वर्ष दिसंबर महीने में वामपंथी क्रूरता की उस घटना को याद किया जाता है, जिसमें वामपंथी समूह ने अपनी तानाशाही गतिविधियों को...

राहुल गांधी की अपरिपक्वता या चर्च के एजेंडे को समर्थन का संकेत?

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में चल रही राजनीतिक यात्रा 'भारत जोड़ो यात्रा' के दौरान उनकी कुछ गतिविधियां कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीति को...

काशी तमिल संगमम – भारत अनादिकाल से एक है

बलबीर पुंज 19 नवंबर (शनिवार) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तरप्रदेश के वाराणसी में ‘काशी तमिल संगमम’ का शुभारंभ किया. इस दौरान उन्होंने जो कुछ...

वामियों की वैचारिक विफलता

प्रशांत पोळ फिलहाल सोशल मीडिया पर वामियों के दिन अच्छे नहीं हैं, ऐसा प्रतीत हो रहा है. एलन मस्क ने ट्विटर पर पूर्ण नियंत्रण पा...

हर घर तिरंगा अभियान – तिरंगा विरोधी वामपंथी, अभियान को किया नजरअंदाज

नई दिल्ली. भारत की स्वाधीनता के 75 वर्ष पूर्ण होने पर देश भर में स्वाधीनता का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है. महोत्सव के निमित्त...

भारतीय सभ्यता-संस्कृति के अनुकूल स्व-तंत्र स्थापित करना होगा – स्वांत रंजन जी

जयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय बौद्धिक शिक्षण प्रमुख स्वांत रंजन ने कहा कि भारत की जो पहचान है, संपूर्ण विश्व में उसको बढ़ाने...

विघटनकारी गतिविधियों पर अंकुश लगाकर मतांतरित लोगों को अनुसूचित जनजातियों की सूची से बाहर किया जाए – मिलिंद परांडे

रायपुर. ईसाई मिशनरियों, वामपंथियों व उनके इशारों पर कार्य करने वाले लोगों द्वारा जनजातीय समाज के अधिकारों पर कुठाराघात, पूज्य संतों के अपमान तथा हिंसा के सहारे...