You Are Here: Home » Posts tagged "विद्या भारती"

    10 जुलाई / जन्मदिवस – संकल्प के धनी जयगोपाल जी

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की परम्परा में अनेक कार्यकर्ता प्रचारक जीवन स्वीकार करते हैं, पर ऐसे लोग कम ही होते हैं, जो बड़ी से बड़ी व्यक्तिगत या पारिवारिक बाधा आने पर भी अपने संकल्प पर दृढ़ रहते हैं. जयगोपाल जी उनमें से ही एक थे. उनका जन्म अविभाजित भारत के पश्चिमोत्तर सीमा प्रान्त स्थित डेरा इस्माइल खां नगर के एक प्रतिष्ठित एवं सम्पन्न परिवार में 10 जुलाई, 1923 को हुआ था. अब यह क्षेत्र पाकिस्तान में ...

    Read more

    02 जुलाई / जन्मदिवस – सत्रावसान की तिथि याद रही

    नई दिल्ली. सरस्वती शिशु मंदिर योजना का जैसा विस्तार आज देश भर में हुआ है, उसके पीछे जिन महानुभावों की तपस्या छिपी है. उनमें से ही एक थे ..... दो जुलाई, 1929 को मैनपुरी (उत्तर प्रदेश) के जागीर गांव में जन्मे राणा प्रताप सिंह जी. उनके पिता रामगुलाम सक्सेना जी मैनपुरी जिला न्यायालय में प्रतिष्ठित वकील थे. उन्होंने अपने चारों पुत्रों और एक पुत्री को अच्छी शिक्षा दिलाई. राणा जी ने भी 1947 में आगरा से बीएससी की श ...

    Read more

    जग सिरमौर बनाएं भारत, यही विद्या भारती का लक्ष्य – श्रीराम आरावकर

    गुवाहाटी. विद्या भारती पूर्वोत्तर क्षेत्र की वार्षिक साधारण सभा गुवाहाटी के शंकरदेव विद्या निकेतन विष्णु पथ में सम्पन्न हुई. असम, अरूणाचल, मेघालय, मणिपुर, नागालैण्ड, त्रिपुरा से 151 सदस्यों की उपस्थिति साधारण सभा में रही. असम के शिक्षा मंत्री सिद्धार्थ भट्टाचार्य, विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के महामंत्री श्रीराम आरावकर, विद्या भारती के अखिल भारतीय सह संगठन मंत्री गोविंद चंद्र महंत, अखिल भारतीय उ ...

    Read more

    शिक्षा को प्रदर्शन से दर्शन की ओर ले जाना है – यतीन्द्र

    गोरखपुर. विद्या भारती के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र जी ने कहा कि शिक्षा आज प्रदर्शन का विषय हो गई है, इसे दर्शन की ओर ले जाना है. शिक्षा व्यवसाय हो गई है, उसे ज्ञान की तरफ ले जाना है. यतीन्द्र जी विद्या भारती (पूर्वी उत्तर प्रदेश) द्वारा आयोजित दस दिवसीय क्षेत्रीय शिशु वाटिका प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि शिक्षा आज सरकारों की दासी बनकर रह गई है. यह बहुत भयावह ...

    Read more

    रानी दुर्गावती शोध संस्थान में ‘निष्पक्ष चुनाव, स्वस्थ प्रजातंत्र’ विषय पर परिचर्चा

    परिचर्चा में रूस, जर्मनी, जापान, ब्राजील के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया भारत विश्व का सबसे बड़ा स्वस्थ प्रजातंत्र है और इसकी मजबूती का कारण मताधिकार है. यहां के हर नागरिक को यह अधिकार है कि वह अपनी पसंद का जनप्रतिनिधि चयनित कर सके. जाति, धर्म, भाषा तथा वेशभूषा की समस्त विभिन्नताओं के बावजूद भारत निष्पक्ष और सफल लोकतंत्र के लिए जाना जाता है. पूरी दुनिया यहां की लोकतांत्रिक व्यवस्था और चुनाव कराने की व्यवस्था ...

    Read more

    05 अप्रैल / जन्मदिवस – बाबू जगजीवनराम और सामाजिक समरसता

    नई दिल्ली. समाज के निर्धन और वंचित वर्ग के जिन लोगों ने उपेक्षा सहकर भी अपना मनोबल ऊंचा रखा, उनमें ग्राम चन्दवा (बिहार) में पांच अप्रैल, 1906 को जन्मे बाबू जगजीवनराम का नाम उल्लेखनीय है. उनके पिता शोभीराम थे. उनकी माता बसन्ती देवी ने आर्थिक अभावों के बीच अपने बच्चों को स्वाभिमान से जीना सिखाया. विद्यालय में हिन्दू, मुसलमान तथा दलित हिन्दुओं के लिए पानी के अलग घड़े रखे जाते थे. उन्होंने अपने मित्रों के साथ म ...

    Read more

    राष्ट्र के नव निर्माण के लिए छात्रों में शिक्षा के माध्यम से राष्ट्रभक्ति का भाव जागृत करें – दत्तात्रेय होसबले

    कुरुक्षेत्र. गीता निकेतन आवासीय विद्यालय परिसर में आयोजित विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान की साधारण सभा के समापन अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि विद्या भारती समाज के बीच, समाज के सहयोग से, समाज के लिए कार्य करने वाली संस्था है. उन्होंने शिक्षा पर विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सभी स्तरों पर चिंतन करते हुए अध्ययन व शोध के कार्यों पर बल देकर नए ज्ञान का सृ ...

    Read more

    समुत्कर्ष का प्रतिभा सम्मान समारोह

    जबलपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारक श्रीरंग राजे ने कहा कि सफलता किसी की मोहताज नहीं होती. परिश्रम से आगे बढ़ने वालों को कोई भी बाधा रोक नहीं सकती. ऐसे कई उदाहरण मौजूद हैं, जहां एक व्यक्ति की सकारात्मक सोच एवं दृढ़ इच्छाशक्ति ने दुनिया को झुका दिया. अगर हौंसले बुलंद हों और दिल में मंजिल पाने की चाहत हो तो कोई भी परिस्थिति इंसान को रोक नहीं सकती. आज मुझे बहुत खुशी है कि समुत्कर्ष के छा ...

    Read more

    खाली जगह को अच्छे कार्यों के प्रचार से भरना चाहिये – डॉ. मोहन भागवत जी

    जालंधर. देशभर में संस्कारों की शिक्षा का उजियारा फैला रहे संस्थान विद्या भारती ने शिक्षा जगत में ऐतिहासिक पहल की है. बदलते समाय के साथ कदम से कदम मिलाते हुए विद्या भारती ने शिक्षा क्षेत्र में पहला न्यूज़ बुलेटिन शुरू किया है. विद्या भारती पंजाब के प्रचार विभाग की ओर से शुरू किए गए न्यूज़ बुलेटिन का शुभारंभ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने किया. यह बुलेटिन विद्या भारती के उत्तर क्षेत ...

    Read more

    वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य केवल जानकारी एकत्र करना ही रह गया है – परमेंद्र जी

    जयपुर (विसंकें). विद्या भारती राजस्थान क्षेत्र के मंत्री परमेंद्र दशोरा जी ने कहा कि भारत में सब समस्याओं की जड़ सही व उचित शिक्षा का न होना है. वर्तमान में शिक्षा केवल और केवल स्वयं एवं परिवार की भलाई के बारे में ही सोचने तक केंद्रित है, जीविकोपार्जन के लिए सरकारी नौकरी की होड़ ने विद्यार्थियों को पासबुक, गेस पेपर, वन वीक सीरीज़ एवं परीक्षा से पूर्व पेपर प्राप्त करने तक ही सीमित कर दिया है. जिसके परिणाम स् ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top