करंट टॉपिक्स

मीम-भीम एकता के नारों की वास्तविकता..!!!

देश में विभिन्न संगठन मीम-भीम एकता दम्भ भरते नहीं थकते, लेकिन धरातल पर वास्वतिकता इसके बिल्कुल विपरीत है. तथाकथित दलित हितैषी संगठन दलितों, जनजाति समाज...

अलगाव, हिंसा, घृणा व कट्टरता से बाज आएं मुस्लिम नेता – डॉ. सुरेन्द्र जैन

नई दिल्ली. विश्व हिन्दू परिषद ने कहा कि कट्टरपंथी इस्लाम के गढ़ देवबंद में आयोजित मुस्लिम सम्मेलन में महमूद असद मदनी व बदरुद्दीन अजमल जैसे...

इतिहास को न तो भुलाया जा सकता है और न ही छिपाया

इतिहास को न तो भुलाया जा सकता है और न ही छिपाया जा सकता है. जब-जब इस तरह का प्रयास होता है, उसके परिणाम बुरे...

पं. दीनदयाल जी की दृष्टि में ; अखंड भारत इसलिए.. !!

पंडित जी लिखते हैं कि - अखंड भारत के आदर्श की ओर सबका रुझान होने के बाद भी अनेक लोग इसे अव्यवहारिक मानते हैं. उनकी...

वैश्‍विक परिदृष्‍य में बढ़ता भारत और श्रीगुरुजी

डॉ. मयंक चतुर्वेदी विश्वतश्चक्षुरुत विश्वतोमुखो विश्वतोबाहुरुत विश्वतस्पात्. सं बाहुभ्यां धमति सं पतत्रैर्द्यावाभूमी जनयन्देव एकः ॥ यह वेदमंत्र जब भी पढ़ने में या सुनने में आया,...

विभाजन का इतिहास हम तक पहुंचने में कठिनाइयां और उसके परिणाम

डॉ. अपर्णा ललिंगकर धार्मिक आधार पर 14 अगस्त को देश का विभाजन हुआ और स्वतंत्र हिन्दुस्थान बना. विभाजन से पहले भी हिन्दू-मुस्लिम दंगे हो रहे...

‘मुसलमानों ने बर्बरता की हदें पार कीं’

बात उन दिनों की है, जब मेरे बड़े भाईसाहब सेना मुख्यालय से जुड़े एक सरकारी दफ्तर में काम करते थे. कुछ दिन बाद उनका स्थानांतरण...

‘रास्ते में बिछी थीं लाशें’

बंटवारे के दिनों के बारे में जब भी सोचता हूं तो एक अजीब सी उलझन होने लगती है. उन दिनों पाकिस्तान में जहां भी हिन्दू...

‘जो कुछ हूं संघ की बदौलत हूं’

बंटवारे के दौर की रातों को पाकिस्तान से आना वाला कोई भी हिन्दू नहीं भूल सकता, हिन्दुओं के घरों को आग लगा दी जाती थी,...

‘नहीं भूलते बंटवारे के दिन’

बंटवारे के वक्त मैं नागपुर में संघ का तृतीय वर्ष का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा था. इस बीच पाकिस्तान की ओर से हिन्दुओं के पलायन...