करंट टॉपिक्स

हिन्दू धर्म की श्रेष्ठता का सबसे प्रखर स्वर

नरेन्द्र जैन शिकागो विश्व धर्म सम्मलेन में अपने प्रखर उद्बोधनों एवं विचारों के कारण स्वामी विवेकानंद ने सबका ध्यान आकर्षित कर लिया. सब ओर उनकी...

शिक्षा और स्वामी विवेकानंद – ‘यदि गरीब लड़का शिक्षा के मंदिर न आ सके तो शिक्षा को ही उसके पास जाना चाहिए’

लोकेन्द्र सिंह युवा नायक स्वामी विवेकानंद ऐसे संन्यासी थे, जो निरंतर समाज के उत्थान के लिए चिंतित रहते थे. दरअसल, स्वामी जी संन्यास की उस...

शिकागो धर्म संसद की वर्षगांठ – हिन्दुत्व के दर्शन से परिचित होने का दिन

नरेन्द्र जैन जब अफगानिस्तान में कट्टर इस्लामिक उभार के कारण मानवता त्राहि-त्राहि कर रही है, तब कम्युनिस्ट जमात ‘हिन्दुत्व’ को समाप्त करने के लिए उस...

स्वामी विवेकानंद की दृष्टि में “आत्मनिर्भर भारत”

"भारत का भविष्य" नामक अपने व्याखयान में वे कहते हैं - "शिक्षा का मतलब यह नहीं है कि तुम्हारे दिमाग में ऐसी बहुत सी बातें...