You Are Here: Home » Posts tagged "विश्व संवाद केंद्र"

    इतिहास का विस्मरण कर कोई भी देश आगे नहीं बढ़ सकता – डॉ. संबित पात्रा

    पुणे (विसंकें). डॉ. संबित पात्रा ने कहा कि इतिहास का विस्मरण हो जाए तो आत्मविश्वास नहीं आता है और आत्मविश्वास खोने वाला देश कभी भी आगे नहीं जा सकता है. अपने गौरवशाली इतिहास को भूल जाना भारत के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती है. डॉ. पात्रा विश्व संवाद केंद्र और डेक्कन एजुकेशन सोसाइटी के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित देवर्षि नारद पत्रकारिता पुरस्कार समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि यह देश के लिए एक दुर्भाग ...

    Read more

    05 जुलाई / पुण्यतिथि – हंसकर मृत्यु को अपनाने वाले अधीश जी

    नई दिल्ली. किसी ने लिखा है - तेरे मन कुछ और है, दाता के कुछ और. संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अधीश जी के साथ भी ऐसा ही हुआ. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए उन्होंने जीवन अर्पण किया, पर विधाता ने 52 वर्ष की अल्पायु में ही उन्हें अपने पास बुला लिया. अधीश जी का जन्म 17 अगस्त, 1955 को आगरा के एक अध्यापक जगदीश भटनागर तथा उषा देवी के घर में हुआ. बालपन से ही उन्हें पढ़ने और भाषण देने का शौक था. वर्ष 1968 में विद ...

    Read more

    नारद नाम आलोचना का पर्याय नहीं, अपितु जनकल्याण का प्रणेता है – मनोज माथुर

    जयपुर. विश्व संवाद केंद्र जयपुर की सांगानेर महानगर में टोंक रोड स्थित गीतांजलि होटल में देवर्षि नारद जयंती के उपलक्ष्य में पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन किया गया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय खंडेलवाल वैश्य महासभा के कोषाध्यक्ष जितेंद्र गुप्ता एवं मुख्य वक्ता ज़ी न्यूज़ राजस्थान के एडिटर मनोज माथुर रहे. कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन व देवर्षि नारद के चित्र पर माल्यार्पण से हुआ. मुख्य अतिथि जि ...

    Read more

    भारतीय संस्कृति में विद्यमान है समन्वय का तत्व – रामकृपाल सिंह

    भोपाल. वरिष्ठ पत्रकार रामकृपाल सिंह ने कहा कि भारतीय संस्कृति में समन्वय का तत्व विद्यमान है. भारतीय संस्कृति सबको साथ लेकर चलती है. सबकी चिंता और सबके कल्याण की कामना करती है. हम जो शांति पाठ करते हैं, उसमें प्रकृति के सभी अव्यवों की शांति की प्रार्थना शामिल है. हमारी यह संस्कृति ही हमें सांस्कृतिक रूप से समृद्ध बनाती है. रामकृपाल जी देवर्षि नारद जयंति के उपलक्ष्य में आयोजित पत्रकार सम्मान समारोह में मुख्य ...

    Read more

    देवर्षि नारद पत्रकारों के लिये श्रेष्ठ आदर्श – राहुल देव

    जयपुर (विसंकें). वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव ने कहा कि वामपंथ ने हमारे भारतीय आत्मबोध को बहुत नुकसान पहुंचाया है, किन्तु वामपंथ अब भारत में चुनौती नहीं रहा है. अंग्रेजी तथा अंग्रेजियत भारतीयता के लिए सबसे बड़ा खतरा है. भारतीय भाषाओं के घटते प्रभाव पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि हमारी भाषा बदलने के साथ-साथ चेतना भी बदल रही है. आने वाले समय में भारत आर्थिक रूप से निश्चित तौर पर प्रगति करेगा, किंतु भारतीयता के स ...

    Read more

    भारतीय पत्रकारिता के केंद्र में राष्ट्रीयता को रखना होगा – सुभाष सिंह

    मेरठ (विसंकें). उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त सुभाष सिंह ने कहा कि पत्रकारिता में भारतीय संस्कृति के मूल्यों, परम्पराओं को यदि जीवित रखना है तो भारतीय पत्रकारिता के केन्द्र में राष्ट्रीयता को रखना होगा. पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव के कारण भारतीय पत्रकारिता भी उससे प्रभावित हुई है. अब समय है, उस प्रभाव से बाहर आने का. वे विश्व संवाद केन्द्र द्वारा आयोजित नारद सम्मान समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा ...

    Read more

    देवर्षि नारद का कार्य सकारात्मकता को बढ़ाना था – भाग्येश झा

    गुजरात. विश्व संवाद केंद्र गुजरात द्वारा नारद जयंती के उपलक्ष्य में पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में मुख्य वक्ता भाग्येश झा (साहित्यकार तथा पूर्व सुचना आयुक्त, गुजरात) ने कहा कि नारद का कार्य सकारात्मक बातों (Positive Journalism)  को बाहर लाना था. यह काम बिना किसी भेदभाव के करने वाला ही नारद का अनुयायी हो सकता है. वि.सं.कें. द्वारा आज जिन 6 महानुभावों का सम्मान किया गया, उनका चयन बहुत ...

    Read more

    मीडिया के समक्ष अपनी विश्वसनीयता को बचाए रखने की चुनौती – मकरंद परांजपे

    जालंधर (विसंकें). विश्व संवाद समिति जालंधर ने नारद जयंती के उपलक्ष्य में स्थानीय विद्या धाम, श्री गुरु गोबिंद सिंह एवेन्यू में "फेक न्यूज़, फेक नैरेटिव के दौर में लोकतंत्र प्रहरी मीडिया की साख" विषय पर संगोष्ठी आयोजित की. कार्यक्रम में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडी, शिमला के डायरेक्टर मकरंद परांजपे मुख्य वक्ता, सेवानिवृत्त असिस्टेंट स्टेशन डायरेक्टर, दूरदर्शन केंद्र, जालंधर सरदार मनोहर सिंह भारज अध्य ...

    Read more

    पत्रकार को पेशेवर दर्जा और मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास हो – विष्णु कोकजे जी

    देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह पुणे (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व न्यायाधीश विष्णु कोकजे जी ने कहा कि पत्रकारिता एक व्यवसाय है. लेकिन कानून में इस व्यवसाय को कहीं भी मान्यता नहीं है. इसलिए पत्रकार को पेशेवर दर्जा और साथ ही मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास होना चाहिए. पत्रकारिता में व्याप्त दुष्प्रवृत्तियों के लिए जिम्मेदार और प्रतिष्ठित पत्रकारों को उत्तर देना पड़ता है. ...

    Read more

    संस्कृति का स्मृतिभ्रंश ही देश में बड़ी समस्या – अरुण कुमार जी

    नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार जी ने कहा कि अपने देश का इतिहास गौरवशाली रहा है. मात्र ब्रिटिश शिक्षा पद्धति के कारण नागरिकों की विचार करने की प्रवृत्ति ही बदल गई है. इसके चलते हम लोग अपने ही इतिहास पर प्रश्नचिन्ह लगाने लगे हैं. अपनी संस्कृति परंपरा के बारे में होता स्मृतिभ्रंश ही देश के सामने बड़ी समस्या बन कर उभरी है. इसलिये समाज के सभी क्षेत्रों में भारतीय ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top