You Are Here: Home » Posts tagged "विश्व हिन्दू परिषद"

    06 दिसम्बर / इतिहास स्मृति – राष्ट्रीय कलंक का परिमार्जन

    नई दिल्ली. श्री राम जन्मभूमि मामले पर सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आ चुका है. और सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय में भूमि रामलला विराजमान को प्रदान करने के साथ ही मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर दिया है. सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार को तीन माह की अवधि में मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट गठन करने के निर्देश दिये हैं. ट्रस्ट के गठन के पश्चात भव्य मंदिर निर्माण का कार्य शुरू होगा. सैकड़ों वर्षों का संघर्ष परिणाम त ...

    Read more

    धर्म की आड़ में चल रही संदिग्ध गतिविधियां रोके सरकार – विश्व हिन्दू परिषद्

    शिमला (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के प्रांत संगठन मंत्री नीरज दुनेरिया ने कांगड़ा के नूरपुर में एक बैठक में कहा कि प्रदेश में धर्म की आड़ में अनेक संदिग्ध गतिविधियां हो रही हैं जो चिंताजनक है. प्रदेश में लव-जिहाद के मामले भी बढ़ रहे हैं, जबकि पहले ऐसी घटनाएं सुनने तक को भी नहीं मिलती थीं. इसके अलावा चोरी छिपे प्रलोभऩ से मतांतरण के अनेक समाचार सुनने को मिल रहे हैं. सरकार को इन गतिविधियों को रोकने के लिए जल ...

    Read more

    श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर हेतु अभी कोई धन संग्रह नहीं – विहिप

    नई दिल्ली. विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने आज स्पष्ट किया कि श्रीराम जन्मभूमि पर मन्दिर निर्माण हेतु किसी प्रकार का धन संग्रह नहीं किया जा रहा है. विहिप के अंतरराष्ट्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने एक बयान में स्पष्ट किया कि विश्व हिन्दू परिषद या श्रीराम जन्मभूमि न्यास द्वारा 1989 के बाद से आज तक श्रीराम जन्मभूमि के लिए सार्वजनिक रूप से ना तो कोई धन संग्रह किया है और ना ही इस हेतु अभी तक कोई आह्वान किया है. उन ...

    Read more

    किसी के अधिकार मत छीनो, लेकिन अपने धर्म व अधिकारों की रक्षा जरूर करो – मिलिंद परांडे जी

    गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में संगोष्ठी का आयोजन जयपुर. विश्व हिन्दू परिषद द्वारा गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में आदर्श विद्या मंदिर राजापार्क में प्रबुद्धजन संगोष्ठी (06 नवंबर) का आयोजन किया गया. संगोष्ठी के मुख्य वक्ता विहिप के राष्ट्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे जी ने कहा कि गुरू नानक देव जी ने समाज को नई दिशा देकर संगठन का संदेश दिया था. देश में मुगलों के आक् ...

    Read more

    विश्व कल्याण के लिए वेदों के पुनर्तेजस्वीकरण की आवश्यकता है – डॉ. मोहन भागवत

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारतवर्ष के सभी लोगों के नित्य जीवन का वेदों से सम्बन्ध है. वेद का अर्थ जानना होता है. जिसको हम साइंस कहते हैं वो बाहर की बातें जानना है, वेद में विज्ञान भी है और ज्ञान भी, वह भी है जो समझ में नहीं आता. वेदों का ज्ञान अपने अंदर की खोज करता है. वेद समाज को उन्नत करते हैं, समाज को उन्नत धर्म करता है और धर्म का मूल वेद हैं. अध्यात्म वि ...

    Read more

    14 अक्तूबर / पुण्यतिथि – चिर युवा दत्ता जी डिडोलकर

    नई दिल्ली. दत्ता जी डिडोलकर संघ परिवार की अनेक संस्थाओं के संस्थापक तथा आधार स्तम्भ थे. उन्होंने काफी समय तक केरल तथा तमिलनाडु में प्रचारक के नाते प्रत्यक्ष शाखा विस्तार का कार्य किया. उस जीवन से वापस आकर भी वे घर-गृहस्थी के बंधन में नहीं फंसे और जीवन भर संगठन के जिस कार्य में उन्हें लगाया गया, पूर्ण मनोयोग से उसे करते रहे. 'अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद' के कार्य के तो वे जीवन भर पर्यायवाची ही रहे. सरसंघचाल ...

    Read more

    05 अक्तूबर / जन्मदिवस – केरल में हिन्दू शक्ति के सर्जक भास्कर राव कलम्बी

    क्षेत्रफल में बहुत छोटा होने पर भी संघ की सर्वाधिक शाखाएं केरल में ही हैं. इसका बहुतांश श्रेय 05 अक्तूबर, 1919 को रंगून (बर्मा) के पास टिनसा नगर में जन्मे श्री भास्कर राव कलंबी को है. उनके पिता श्री शिवराम कलंबी वहां चिकित्सक थे. रंगून में प्राथमिक शिक्षा पाकर वे मुंबई आ गये. मुंबई के प्रथम प्रचारक श्री गोपालराव येरकुंटवार के माध्यम से वे 1935 में शिवाजी उद्यान शाखा में जाने लगे. डॉ. हेडगेवार जी के मुंबई आन ...

    Read more

    28 जुलाई / जन्मदिवस – विश्व हिन्दू परिषद और केशवराम शास्त्री

    गुजरात में 'विश्व हिन्दू परिषद' के पर्याय बने श्री केशवराम शास्त्री का जन्म 28 जुलाई, 1905 को हुआ था. उनके पिता का नाम श्री काशीराम था. धार्मिक परिवार में जन्म लेने के कारण शास्त्री जी को बालपन से ही हिन्दू धर्म ग्रन्थों के अध्ययन में विशेष आनन्द मिलता था. वे अद्भुत मेधा के धनी थे. उन्होंने सैकड़ों ग्रन्थों की रचना की. संयमित जीवन, सन्तुलित भोजन और नियमित दिनचर्या के बल पर वे 102 वर्ष तक सक्रिय रह सके. 1964 ...

    Read more

    18 जुलाई / जन्मदिवस – विश्व हिन्दू परिषद के प्रथम अध्यक्ष जयचामराज वाडियार

    नई दिल्ली. विश्व भर के हिन्दुओं को संगठित करने के लिये श्रीकृष्ण जन्माष्टमी (29 अगस्त, 1964) को स्वामी चिन्मयानंद जी की अध्यक्षता में, उनके मुंबई स्थित सांदीपनी आश्रम में विश्व हिन्दू परिषद की स्थापना हुई. इस अवसर पर धार्मिक, और सामाजिक क्षेत्र की अनेक महान विभूतियां उपस्थित थीं. स्थापना के समय महामंत्री का दायित्व संघ के वरिष्ठ प्रचारक शिवराम शंकर (दादासाहब) आप्टे जी ने संभाला, वहां अध्यक्ष के लिये सबने सर ...

    Read more

    आचार्य गिरिराज किशोर – श्रीराम के कार्य को समर्पित व्यक्तित्व

    विश्व हिन्दू परिषद के मार्गदर्शक आचार्य गिरिराज किशोर का जीवन बहुआयामी था. उनका जन्म 04 फरवरी, 1920 को एटा, उ.प्र. के मिसौली गांव में श्री श्यामलाल एवं श्रीमती अयोध्यादेवी के घर में मंझले पुत्र के रूप में हुआ. हाथरस और अलीगढ़ के बाद उन्होंने आगरा से इंटर की परीक्षा उत्तीर्ण की. आगरा में श्री दीनदयाल जी और श्री भव जुगादे के माध्यम से वे स्वयंसेवक बने और फिर उन्होंने संघ के लिये ही जीवन समर्पित कर दिया. प्रचा ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top