You Are Here: Home » Posts tagged "वीर सावरकर"

    जेएनयू – वामपंथी गठजोड़ ने वीर सावरकर मार्ग के साइन बोर्ड पर कालिख पोती

    मोहम्मद अली जिन्ना मार्ग का पोस्टर बोर्ड पर लगाया   नई दिल्ली. दिल्ली जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में असामाजिक तत्वों ने विवि परिसर में सड़क मार्ग पर वीडी सावरकर के नाम से लगे साइन बोर्ड पर कालिख पोत दी. तथा बोर्ड पर मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर लगा दी. यह काम वामपंथी या कांग्रेसी छात्र संगठन का हो सकता है. क्योंकि यही छात्र विवि में सड़क मार्ग का नाम सावरकर के नाम पर रखने का विरोध कर रहे थे. घटनाक्रम की ...

    Read more

    जेएनयू – वीडी सावरकर मार्ग का नाम देखकर बौखलाए वामपंथी

    नई दिल्ली. देश में मार्क्सवादी इतिहासकार स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारियों व सेनानियों की उपेक्षा ही नहीं करते रहे, बल्कि अपने झूठे एजेंडे को लेकर अपमानित करने का भी काम करते रहे हैं. और क्रांतिकारियों को उचित सम्मान देने के लिए कोई कदम उठाता है तो उन्हें हजम नहीं होता. यही कारण है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में वीर सावरकर के नाम पर जेएनयू की एक सड़क का नाम रखा गया, तो वामपंथियों को सावरकर का नाम बर ...

    Read more

    लेखक, इतिहासकार, दार्शनिक, समाज सुधारक थे वीर सावरकर – उपराष्ट्रपति

    नई दिल्ली. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि वीर सावरकर बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे. वह स्वतंत्रता सेनानी के साथ ही लेखक, इतिहासकार, राजनेता, दार्शनिक और समाज सुधारक भी थे. उपराष्ट्रपति नेहरू म्यूजियम एवं लाइब्रेरी में 'Savarkar: Echoes from a Forgotten Past' पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि वीर सावरकर तथा देश के विभिन्न हिस्सों में स्वतंत्रता संग्राम में बलिदान देने ...

    Read more

    ‘दिव्यांग’ राहुल देशमुख कर रहे ‘दिव्य कार्य’ – भय्याजी जोशी

    मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने कहा कि ‘काम करते समय बीच में ही रुकने वाले बहुत दिखाई देते हैं, परंतु हार के पश्चात भी अपना कार्य निरंतर आगे ले जाने वाले राहुल देशमुख दृष्टीहीन होने के पश्चात भी समाज के लिए दिव्य कार्य कर रहे हैं. सरकार्यवाह ने राहुल देशमुख के कार्य की प्रशंसा की. वे दृष्टीहीन हैं, लेकिन उनका कार्य दिव्य है. केशवसृष्टी संस्था द्वारा समाज में उल्लेखनीय ...

    Read more

    क्रांति नायक विनायक दामोदर सावरकर

    महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर को ‘भारत रत्न’ की उपाधि से सम्मानित करने की घोषणा करके ऐतिहासिक भूल को सुधार कर अन्याय को न्याय में बदलने का कार्य किया है. अंडमान जेल की काल कोठरी में दस वर्षों तक घोर अमानवीय और अकल्पनीय यातनाएं सहन करने वाले महामानव सावरकर पर उंगलियां उठाने वाले वही लोग हैं, जिनके पुरखे हाथों में कटोरा लेकर अंग्रेजों से आजादी की भीख मांगत ...

    Read more

    मालपुरा में समरसता संगम का आयोजन, सर्वसमाज ने एक पंगत में किया भोजन

    जयपुर. टोंक जिले के मालपुरा कस्बे में मंगलवार को सामाजिक समरसता संगम देखने को मिला. जहां सर्वसमाज के लोगों ने एक पंगत में बैठकर सहभोज किया. श्रीगणपति महोत्सव समिति द्वारा राजकीय विद्यालय के मैदान में आयोजित विराट हिन्दू संगम में लोग उपस्थित रहे. कार्यक्रम में वरिष्ठजनों का सम्मान किया गया. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह क्षेत्र प्रचारक निम्बाराम जी ने कहा कि मालपुरा में वीर सावरकर की प्रतिमा लगी है. सावरकर म ...

    Read more

    वे पन्द्रह दिन… / 08 अगस्त, 1947

    शुक्रवार आठ अगस्त.... इस बार सावन का महीना ‘पुरषोत्तम (मल) मास’है. इसकी आज छठी तिथि है, षष्ठी. गांधीजी की ट्रेन पटना के पास पहुंच रही है. सुबह के पौने छः बजने वाले हैं. सूर्योदय बस अभी हुआ ही है. गांधी जी खिड़की के पास बैठे हैं. उस खिड़की से हलके बादलों से आच्छादित आसमान में पसरी हुई गुलाबी छटा बेहद रमणीय दिखाई दे रही है. ट्रेन की खिड़की से प्रसन्न करने वाली ठण्डी हवा आ रही है. हालांकि उस हवा के साथ ही इंजन से ...

    Read more

    28 मई / जन्मदिवस – अप्रतिम क्रांतिकारी, कवि, इतिहासकार वीर विनायक दामोदर सावरकर

    नई दिल्ली. अप्रतिम क्रांतिकारी, समर्पित समाज सुधारक, महान कवि और महान इतिहासकार वीर सावरकर. सावरकर भारत के पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य के केन्द्र लंदन में उसके विरूद्ध क्रांतिकारी आंदोलन संगठित किया था. वे पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने वर्ष 1905 के बंग-भंग के बाद 1906 में ‘स्वदेशी’ का नारा देकर, विदेशी कपड़ों की होली जलाई थी और उन्हें अपने विचारों के कारण बैरिस्टर की डिग्री खोनी पड़ी. सावरकर भ ...

    Read more

    24 अप्रैल / पुण्यतिथि – गौरक्षा के लिये 166 दिन अनशन करने वाले महात्मा रामचंद्र वीर

    नई दिल्ली. वर्ष 1966 में दिल्ली में गौरक्षार्थ 166 दिन का अनशन करने वाले महात्मा रामचंद्र वीर का जन्म आश्विन शुक्ल प्रतिपदा, विक्रमी संवत 1966 (1909 ई) में महाभारतकालीन विराट नगर (राजस्थान) में हुआ था. इनके पूर्वज स्वामी गोपालदास बाणगंगा के तट पर स्थित ग्राम मैड़ के निवासी थे. उन्होंने औरंगजेब द्वारा दिल्ली में हिन्दुओं पर थोपे गये शमशान कर के विरोध में उसके दरबार में ही आत्मघात किया था. उनके पास समर्थ स्वा ...

    Read more

    19 अप्रैल / बलिदान दिवस – युवा बलिदानी अनन्त कान्हेरे

    नई दिल्ली. भारत मां की कोख कभी सपूतों से खाली नहीं रही. ऐसे ही एक सपूत थे - अनन्त लक्ष्मण कान्हेरे. जिन्होंने देश की स्वतन्त्रता के लिए केवल 19 साल की युवावस्था में ही फाँसी के फन्दे को चूम लिया. उन दिनों महाराष्ट्र के नासिक नगर में जैक्सन नामक अंग्रेज जिलाधीश कार्यरत था. उसने मराठी और संस्कृत सीखकर अनेक लोगों को प्रभावित कर लिया था; पर उसके मन में भारत के प्रति घृणा भरी थी. वह नासिक के पवित्र रामकुंड में घ ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top