You Are Here: Home » Posts tagged "संघ प्रचारक"

    सिंध हमारा है, यह भावना हर भारतीय के मन में होनी चाहिये – डॉ. मोहन भागवत

    मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा कि विभाजन के पश्चात सिंध पाकिस्तान में चला गया. परंतु, सिंध हमारा है, यह भावना केवल सिंधी समाज ही नहीं, वरन् प्रत्येक भारतीय, हिन्दू व्यक्ति के मन में रहनी चाहिये. और आने वाली पीढ़ी तक पहुंचनी चाहिये. सब एक साथ जुट जाएं तो गत वैभव फिर से प्राप्त कर सकते हैं. यह हमें इज़राइल ने दिखाया है. सिंध में एक दिन अवश्य सिंधी हिन्दू होगा. सिंध ...

    Read more

    वैचारिक योद्धा स्व. परमेश्वरन जी का ध्येय समर्पित जीवन हम सब के लिए प्रेरणादायी है

    वैचारिक योद्धा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक और भारतीय विचार केंद्र के संस्थापक व निदेशक पी. परमेश्वरन जी का 91 साल की आयु में केरल के पलक्कड़ जिले के ओट्टापलम में 08 फरवरी रात्रि को देहावसान हो गया. परमेश्वरन जी अद्भुत व्यक्तित्व के धनी थे, उनका जीवन ध्येय समर्पित, साधनारत और सादगीपूर्ण था. सन् 1927 में केरल के अलप्पुझा जिले के मुहम्मा में जन्मे परमेश्वरन जी स्कूल में पढ़ाई के दौरान राष्ट्रीय ...

    Read more

    हिन्दुत्व को किसी वाद या इज्म के साथ जोड़ने की आवश्यकता नहीं, यह उससे कहीं बढ़कर है

    दिल्ली में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेला में "शब्द उत्सव -2020" का आयोजन किया गया. विभिन्न विषयों पर विमर्श के द्वार खोलने वाला शब्द उत्सव स्वयं में एक अनूठा आयोजन है. पुस्तक मेले के प्रथम दिन एक सत्र में जहां एक तरफ प्रख्यात विचारक एवं प्रज्ञा प्रवाह के राष्ट्रीय संयोजक जे. नंदकुमार जी से हिन्दू-दर्शन, संस्कृति और राजनीति पर भारतीय जनसंचार संस्थान के पूर्व महानिदेशक के. जी. सुरेश ने उनकी पुस्तक 'हिन्दु ...

    Read more

    भारत तिब्बत सहयोग मंच चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के लिए चलाएगा संपर्क अभियान

    जयपुर. भारत तिब्बत सहयोग मंच एक मार्च तक देशभर में एक लाख नए कार्यकर्ता जोड़ेगा. मंच के समस्त कार्यकर्ता तिब्बत और कैलाश मानसरोवर की मुक्ति के लिए घर-घर संपर्क करके, रैलियों और गोष्ठियों के माध्यम से जनांदोलन चलाएंगे. मंच की जयपुर में आयोजित चिंतन बैठक में निर्णय लिया गया कि तिब्बत और कैलाश मानसरोवर की चीन से मुक्ति के लिए सबसे पहले चीन की आर्थिक कमर तोड़ना जरूरी है, इसके लिए चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के संद ...

    Read more

    आरएसएस के वरिष्ठतम प्रचारक धनप्रकाश जी का 102 वर्ष की आयु में निधन

    जयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठतम प्रचारक धनप्रकाश जी का शुक्रवार शाम चार बजे जयपुर में निधन हो गया. उन्होंने संघ कार्यालय भारती भवन में अंतिम सांस ली. इसी माह 10 जनवरी को धन प्रकाश जी का 103वां जन्मदिन मनाया गया था. इस दौरान संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने उनको माला पहनाकर व शॉल भेंटकर शुभकामना दी थी. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के इतिहास में धनप्रकाश जी ऐसे पहले प्रचारक हैं, जिन्होंने अप ...

    Read more

    मूल्यों का ध्यान रख, उन पर कायम रहते हुए परिवर्तन करना है – डॉ. मोहन भागवत

    श्रद्धेय दत्तोपंत ठेंगड़ी जन्मशताब्दी समारोह का शुभारंभ नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि दत्तोपंत ठेगड़ी जी संघ परिवार के उन शख्सियतों में आते हैं, जिनमें तत्व चिंतक, उत्कृष्ट व्यक्तित्व और बेहतर संगठक के गुण थे. समाज के हर क्षेत्र में उनका समान नेतृत्व था. उनके सम्पर्क में जो भी रहा, उसे कुछ न कुछ सीखने को ही मिला है. उन्हें स्नेह, करुणा और नेतृत्व के गुण अप ...

    Read more

    10 नवम्बर / जन्मदिवस – राष्ट्रयोगी दत्तोपंत ठेंगड़ी

    नई दिल्ली. दत्तोपन्त ठेंगड़ी जी का जन्म दीपावली वाले दिन (10 नवम्बर, 1920)  को ग्राम आर्वी, जिला वर्धा, महाराष्ट्र में हुआ था. वे बाल्यकाल से ही स्वतन्त्रता संग्राम में सक्रिय रहे. वर्ष 1935 में वे ‘वानरसेना’ के आर्वी तालुका के अध्यक्ष थे. जब उनका सम्पर्क डॉ. हेडगेवार जी से हुआ, तो संघ के विचार उनके मन में गहराई से बैठ गये. उनके पिता उन्हें वकील बनाना चाहते थे, पर दत्तोपन्त जी एमए तथा कानून की शिक्षा पूर्णक ...

    Read more

    07 नवम्बर / जन्मदिवस – संघ समर्पित माधवराव मूले जी

    नई दिल्ली. 7 नवम्बर, 1912 (कार्तिक कृष्ण 13, धनतेरस) को ग्राम ओझरखोल (जिला रत्नागिरी, महाराष्ट्र) में जन्मे माधवराव कोण्डोपन्त मूले जी प्राथमिक शिक्षा पूरी कर आगे पढ़ने के लिए वर्ष 1923 में बड़ी बहन के पास नागपुर आ गये थे. यहां उनका सम्पर्क संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी से हुआ. मैट्रिक के बाद उन्होंने डिग्री कॉलेज में प्रवेश लिया, पर क्रान्तिकारियों से प्रभावित होकर पढ़ाई छोड़ दी. इसी बीच पिताजी का देहान् ...

    Read more

    कर्मयोगी सोहन सिंह जी का राष्ट्र को सम्पूर्ण समर्पण

    एक ऐसी पद्धति जिस पर चलकर असंख्य कर्म योगियों ने अपने जीवन को खपा दिया व इस राष्ट्र मंदिर को महकाया. उन्हीं पूजनीय डॉक्टर हेडगेवार की माला के मोती उस पथ के पथिक स्वर्गीय श्री सोहन सिंह जी थे. जिन्होंने दधिची की तरह अपने जीवन को गला दिया. जीवन का हर क्षण, हर पल राष्ट्र को समर्पित कर दिया. उनका चयन भारतीय वायुसेना में हो गया था, किन्तु देश सेवा के निमित्त उन्होंने नौकरी को ठुकरा दिया था. राष्ट्रीय आपातकाल के ...

    Read more

    09 अक्तूबर / जन्मदिवस – गृहस्थ प्रचारक भैया जी दाणी

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की परम्परा में प्रचारक अविवाहित रहकर काम करते हैं; पर कुछ अपवाद भी होते हैं. ऐसे गृहस्थ प्रचारकों की परम्परा के जनक प्रभाकर बलवन्त दाणी का जन्म नौ अक्तूबर, 1907 को उमरेड, नागपुर में हुआ था. आगे चलकर ये भैया जी दाणी के नाम से प्रसिद्ध हुए. ये अत्यन्त सम्पन्न पिता के इकलौते पुत्र थे. उनके पिता श्री बापू जी लोकमान्य तिलक के भक्त थे. अतः घर से ही देशप्रेम के बीज उनके मन में पड़ गये थे, ज ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top