You Are Here: Home » Posts tagged "संघ" (Page 21)

    कार्यकारी मंडल की बैठक में संगठन की गुणात्मकता बढ़ाने पर चर्चा होगी

    केशवसृष्टि (ठाणे). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार जी ने कहा कि संघ की तीन दिवसीय अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल बैठक में संगठन की गुणात्मकता बढ़ाने पर चर्चा की जाएगी. यह बैठक 31 अक्तूबर से 2 नवंबर तक ठाणे स्थित केशवसृष्टि में आयोजित की गई है. संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अरुण कुमार जी ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ वर्ष में दो बार इस प्रकार की बैठकों का आयोजन करता ...

    Read more

    श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण शीघ्र हो

    उच्च न्यायालय ने अपने निर्णय में यह स्वीकार किया था कि उपरोक्त स्थान रामलला का जन्म स्थान है. तथ्य और प्राप्त साक्ष्यों से भी यह सिद्ध हो चुका है कि मंदिर तोड़कर ही वहाँ कोई ढांचा बनाने का प्रयास किया गया और पूर्व में वहाँ मंदिर ही था. संघ का मत है कि जन्मभूमि पर भव्य मन्दिर शीघ्र बनना चाहिए और जन्म स्थान पर मन्दिर निर्माण के लिये भूमि मिलनी चाहिए. मन्दिर बनने से देश में सद्भावना व एकात्मता का वातावरण निर्म ...

    Read more

    अमृतसर रेल दुर्घटना के पीड़ितों की सेवा में जुटे संघ के स्वयंसेवक

    अमृतसर (विसंकें). अमृतसर हादसे को लेकर राजनीतिक दलों में एक-दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का दौर चल रहा है. दोष स्वीकार करने को कोई तैयार नहीं है. पीड़ितों की सहायता करना तो दूर उनका हाल पूछने की फुरसत नहीं है. यह हादसे के बाद का एक दुःखद व शर्मनाक पक्ष है. इसके विपरीत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बिना किसी चर्चा, शोर-शराबे के पहले दिन से राहत व सेवा कार्य में जुटे हुए हैं. पीड़ितों को हर संभव सहायता प्र ...

    Read more

    हिन्दू समाज की शक्ति विध्वंसक नहीं, रचनात्मक है – भय्याजी जोशी

    इस देश के सभी संतों ने परहित का संदेश दिया है - भय्याजी जोशी पनवेल, मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्या जी) जोशी ने कहा कि “खुद को प्रबुद्धजन दर्शाकर समाज में संघर्ष उत्पन्न करने वाली कुछ शक्तियाँ दुर्भाग्य से कार्यरत हैं. अपने स्वार्थ के लिए यह लोग न्याय व्यवस्था, न्यायाधीशों पर आरोप लगाते समय कुछ सोचते नहीं. विश्‍वविद्यालय में लगाए गए भारत तेरे टुकटे होंगे के नारे लगाना, आत ...

    Read more

    शाश्वत मूल्यों के प्रकाश में चलने वाली परम्परा के लिए ग्लास्नोस्त शब्द अप्रासंगिक है

    सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत की तीन दिवसीय व्याख्यानमाला के पश्चात अपेक्षित बहस जनमाध्यमों में चल पड़ी है. अनेक लोगों ने इसका स्वागत किया है. कुछ लोगों ने जो कहा गया उसकी प्रामाणिकता पर संदेह जताया है. कुछ ने यह सब नीचे ज़मीनी स्तर तक कैसे पहुँच पाएगा, इस की चर्चा की है या चिंता व्यक्त की है. विभिन्न विषयों पर संघ के जिस दृष्टिकोण को सरसंघचालक ने रखा, वह कई लोगों को एकदम नया, क्रांतिकारी विचार लगा होगा. परंत ...

    Read more

    जिस कार्य से संपूर्ण समाज का हित हो, वही कार्य ठीक होता है – डॉ. कृष्णगोपाल जी

    प्रयागराज (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने देशवासियों से आह्वान किया कि वे वर्ग संघर्ष एवं राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लिप्त तत्वों से सावधान रहें. ऐसे लोग शिक्षक, अधिवक्ता, डॉक्टर, किसान के रूप में समाज में छिपे हुए हैं. ऐसे लोग देशद्रोही कार्यों में लिप्त लोगों की मदद देते और उग्रवादियों की न्यायालय में सहायता करते हैं. सह सरकार्यवाह जी परेड ग्राउंड में विजयादशमी ...

    Read more

    ‘अविरत श्रम करना, संघ जीवन जीना’ इस पंक्ति को बालासाहेब ने अर्थ दिया

    पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि संघ के कार्य को केवल उसका व्याकरण अच्छा है, शब्द अच्छे हैं, स्वर अच्छे हैं, इसलिए अर्थ प्राप्त नहीं होता. बल्कि उसका अनुसरण कर जो स्वयंसेवक जीते हैं, उनके कामों के कारण अर्थ प्राप्त होता है. बालासाहेब आहिरे के कार्यों के कारण ‘अविरत श्रम करना, संघ जीवन जीना’ इस पंक्ति को सच्चे मायने में अर्थ प्राप्त हुआ है. इन शब्दों से सरक ...

    Read more

    विरोध, दुष्प्रचार, कुठाराघात के बावजूद संघ कार्य व विचार सर्वव्यापी, सर्वस्पर्शी बन रहा

    दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी की तीन दिवसीय व्याख्यानमाला, भविष्य का भारत : संघ का दृष्टिकोण, पूर्णतया सफल रही. इस व्याख्यानमाला में प्रतिपादित विषयों की कुछ चर्चा अभी भी चल रही है. श्रोताओं में ज्यादातर नए लोग थे, इसलिए उन्हें संघ की जानकारी या तो नहीं थी, या बहुत कम थी या भ्रामक थी. इसलिए अनेकों को यह अच्छा तो लगा पर साथ साथ अचरज भी हुआ कि क्या संघ सही में ऐसा है? संघ के, रा ...

    Read more

    विजयादशमी उत्सव नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी के उद्बोधन का सारांश….

    प्रास्ताविक इस वर्ष की विजयादशमी के पावन अवसर को संपन्न करने के लिये हम सब आज यहाँ पर एकत्रित है. यह वर्ष श्रीगुरुनानक देव जी के प्रकाश का 550वाँ वर्ष है. अपने भारतवर्ष की प्राचीन परम्परा से प्राप्त सत्य को भूलकर, आत्मविस्मृत होकर जब अपना सारा समाज दम्भ, मिथ्याचार, स्वार्थ तथा भेद की दलदल में आकण्ठ फँस गया था और दुर्बल, पराजित व विघटित होकर लगातार सीमा पार से आने वाले क्रूर विदेशी असहिष्णु आक्रामकों की बर्ब ...

    Read more

    विजयादशमी उत्सव, नागपुर में मुख्य अतिथि कैलाश सत्यार्थी जी का संबोधन

    ऊँ अग्ने नय सुपथा राये, अस्मान् विष्वानि देव वयुनानि विद्वान्. युयोध्यस्म्ज्जुहु राणमेनो भूयिष्ठां ते नम उक्तिं विधेम.. हे अग्नि स्वरूप परमात्मा हमें सही रास्ते पर चलाएं. ताकि हम अच्छे कार्य करते हुए संसार के भौतिक और आध्यात्मिक सुखों की प्राप्ति कर सकें. हमें कुटिलता और बुराई से दूर रखें. मैं सबसे पहले आप सभी को विजयादशमी पर्व और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्थापना दिवस की हार्दिक बधाई देता हूं. यह पर्व सिर ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top