करंट टॉपिक्स

डॉ. मोहन भागवत जी ने सिंधुदुर्ग व विजयदुर्ग की प्रतिकृति का उद्घाटन किया

मालवण. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत सिंधुदुर्ग जिले में संगठनात्मक प्रवास पर हैं. निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार सरसंघचालक डॉ. मोहन जी...

स्वतंत्रता के साथ समानता का भाव लाना आवश्यक – डॉ. मोहन भागवत जी

जयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने केशव विद्यापीठ में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में कहा कि संविधान सभा की सर्वसम्मति...

नेताजी का जीवन वैभवशाली भारत के निर्माण के लिए तपस्या व समर्पण का आदर्श उदाहरण – डॉ. मोहन भागवत जी

कोलकाता. स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पराक्रम दिवस पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की ओर से "नेताजी लह प्रणाम" कार्यक्रम का आयोजन...

मझगवां में वीरांगना दुर्गावती की प्रतिमा स्थापना के लिए भूमि पूजन सम्पन्न

मझगवां. दीनदयाल शोध संस्थान, वाल्मीकि परिसर, मझगवां-सतना में 19 जनवरी, गुरुवार, माघ मास, कृष्ण पक्ष, द्वादशी तिथि को विधि विधान पूर्वक पूजन कर रानी दुर्गावती...

स्व. हस्तीमल हिरण की स्मृति में श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन

जयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के आमंत्रित सदस्य वरिष्ठ प्रचारक दिवंगत हस्तीमल हिरण जी की स्मृति में बुधवार को शहर में श्रद्धांजलि...

श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रांगण में चारों वेदों की ऋचाओं से मंडित रजत जल स्तंभ का लोकार्पण

श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रांगण में चतुर्वेद पारायण महाअनुष्ठान की पुर्णाहुति एवं जल स्तम्भ का अनावरण डॉ. मोहन भागवत जी के करकमलों से सम्पन्न उज्जैन. श्री...

वीर सपूतों को सदैव स्मरण करना ही सच्ची देशभक्ति – महन्त स्वरूपदास उदासीन जी

अजमेर. वीर सपूतों व क्रांतिकारियों का सदैव स्मरण करते रहना ही सच्ची देशभक्ति है. वीर बलिदानी हेमू कालाणी स्वतंत्रता आंदोलन में मात्र 19 वर्ष की...

सृष्टि को एकात्म भाव तथा समग्र दृष्टि से देखने की हमारी परंपरा है – डॉ. मोहन भागवत जी

प्रयागराज. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि देश में महापुरुषों की लंबी परंपरा अखंड रूप से चली आ रही...

भारत मां के वीर सपूतों का गांव मलखाचक; गांव में प्रवेश से कतराती थी अंग्रेज सेना

पटना. छपरा जिला में मलखाचक गंगा किनारे बसा एक गांव है. कभी इस गांव का नाम सुनकर अंग्रेजों के होश उड़ जाते थे. अंग्रेजी फौज...

भक्ति का भाव संत ही प्रदान करते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

बक्सर. ज्ञान और कर्म से मिलकर भक्ति के आधार पर किसी कार्य की शक्ति मिलती है. भक्ति का भाव संत ही प्रदान करते हैं. इसलिए...