करंट टॉपिक्स

सजग भारत में साम्प्रदायिक व छद्म सेक्युलरवाद की राजनीती निष्क्रिय हो रही

डॉ. मनमोहन वैद्य सह सरकार्यवाह, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण कार्य का नेत्रदीपक शुभारम्भ करोड़ों भारतीयों और दुनिया भर में भारतीय मूल...

सर्वोच्च न्यायालय – आयुष्मान भारत योजना लागू न करने वाले राज्यों को नोटिस

नई दिल्ली. सर्वोच्च न्यायालय ने कोरोना संकट के दौर में आयुष्मान भारत स्वास्थ्य योजना लागू न करने पर पश्चिम बंगाल सहित अन्य राज्यों को नोटिस...

हलालोनोमिक्स पर राष्ट्रीय वेबिनार

नई दिल्ली. राष्ट्रीय हलाल नियंत्रण मंच द्वारा ‘हलाल का आतंक - हलालोनोमिक्स’ विषय पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया जा रहा है. मंच के प्रवक्ता सेवानिवृत...

इस ‘एक रुपये’ से समझिये औकात और हैसियत…!

जयराम शुक्ल हैसियत का मतलब औकात नहीं होता. प्रशांत भूषण की हैसियत अरबों रुपयों की है, पर ......? सर्वोच्च न्यायालय ने बस इतने का ही...

सर्वोच्च न्यायालय – अवमानना के मामले में माल्या की पुनर्विचार याचिका खारिज

नई दिल्ली. सर्वोच्च न्यायालय ने आज सुनवाई के पश्चात भगोड़े व्यापारी विजय माल्या को झटका देते हुए पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी. विजय मल्या को...

सर्वोच्च न्यायालय – पीएम केयर्स का फंड NDRF में ट्रांसफर करने की मांग वाली याचिका खारिज

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री ने देश में कोरोना व इस जैसी आपदाओं से निपटने के लिए हुए पीएम-केयर्स की घोषणा की थी. इसमें जनता ने भी...

लालकिले की प्राचीर पर राम मंदिर की गूँज ने रचा इतिहास

विनोद बंसल भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीराम जन्मभूमि की स्वतंत्रता के मुद्दे को लालकिले की ऐतिहासिक...

चरमपंथ, धार्मिक असहिष्णुता एवं साम्प्रदायिकता को बढ़ावा क्यों?

डॉ. खुशबू गुप्ता भारतीय संविधान की प्रस्तावना में “लोकतंत्रात्मक गणराज्य” जैसे महत्वपूर्ण शब्द निहित हैं. यह एक ऐसा चित्र प्रस्तुत करता है जो न केवल...

शांति, अहिंसा, प्रेम एवं सौहार्द के जीवन मूल्यों को विश्व के समक्ष पुनः प्रस्तुत किया – राष्ट्रपति

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्र के नाम संबोधन के अंश – नई दिल्ली. स्वतंत्रता दिवस की पूर्व...

ऐसे हुई श्रीराम जन्मभूमि की मुक्ति…..

विनोद बंसल ईस्वी सन् 1528 से लेकर आज तक भारत ने असंख्य उतार-चढ़ाव देखे हैं. एक ओर उसने वह असहनीय दर्द सहा, जब भव्य तथा...