करंट टॉपिक्स

31 अगस्त, 1952 बंजारा समाज की स्वतंत्रता की शुभ तिथि

सृष्टि में मानव जन्म के साथ ही अपने घर की कल्पना विकसित हो गई होगी. बाद में मनुष्य की चेतना में अपना घर, मोहल्ला, नगर...

मकर संक्रांति पर पानीपत, सीहोर, बौरास में बलिदान की गाथा का भी स्मरण

भारत में मकर संक्रान्ति का एक विशेष महत्व है. सूर्य अपनी दिशा बदलते हैं. इस शुभ घड़ी पर तिल के लड्डू खाने और खिलाने का...

स्वामी विवेकानन्द – स्वतन्त्रता संग्राम के प्रमुख प्रेरणा स्रोत

हेमेन्द्र क्षीरसागर 12 जनवरी, 1863 को कलकत्ता में अवतरित वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानन्द का बचपन का नाम वीरेश्वर रखा गया,...

अमर बाल बलिदानी – हठ का धनी शंभुनारायण

मातृ-भू घायल दिखे तब घाव अपने कौन गिनता? यातनाएँ क्या डिगाएँ मृत्यु तक की नहीं चिंता… जिन्हें देश के लिए कुछ करना होता है, उन्हें...

हम अखंड भारत के पुजारी – निम्बाराम

जयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राजस्थान क्षेत्र प्रचारक निम्बाराम ने जयपुर में आयोजित पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में कहा कि किसी कवि ने तब लिखा था –...

भारत मां के वीर सपूतों का गांव मलखाचक; गांव में प्रवेश से कतराती थी अंग्रेज सेना

पटना. छपरा जिला में मलखाचक गंगा किनारे बसा एक गांव है. कभी इस गांव का नाम सुनकर अंग्रेजों के होश उड़ जाते थे. अंग्रेजी फौज...

हिन्दू संस्कृति के मूलभूत तत्व वनवासी समाज की परम्पराओं का हिस्सा हैं – जे. नंदकुमार जी

मानगढ़ धाम बलिदान दिवस पर जनजातीय चेतना परिषद, उदयपुर ने आयोजित की संगोष्ठी उदयपुर. भारत में यदि वनवासी हिन्दू नहीं हैं तो कोई भी हिन्दू...

जनजातीय गौरव दिवस – स्वयं को दोषी बताकर प्रजा की रक्षा करने वाली वीरांगना

दीपक विश्वकर्मा भारत का स्वतंत्रता संघर्ष हजारों वीर बलिदानियों/हुतात्माओं की स्मृतियों से भरा हुआ है. ग्राम/नगर/ वनवासी सभी ने इस देश की स्वतंत्रता के लिए...

स्वाधीनता के अमृत काल में विवेकानन्द संदेश यात्रा

सन् 1857 से चले लम्बे स्वाधीनता संग्राम के उपरान्त भारत 15 अगस्त, 1947 को स्वाधीन हुआ. इस वर्ष हमारी स्वाधीनता को 75 वर्ष पूर्ण हो...

कश्मीर भारत के लिए समस्या नहीं गौरव 

गुजरात के खेड़ा जिले में एक किसान परिवार में 31 अक्तूबर 1875 को जन्मे लौह पुरुष और प्रथम उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल अपनी...