करंट टॉपिक्स

17 जनवरी / बलिदान दिवस – रामसिंह कूका और उनके गोभक्त शिष्य

नई दिल्ली. 17 जनवरी, 1872 की प्रातः ग्राम जमालपुर (मालेरकोटला, पंजाब) के मैदान में भारी भीड़ एकत्र थी. एक-एक कर 50 गोभक्त सिख वीर वहां...

स्वदेशी – दिल्ली पुलिस की महिला कार्यकारी पहनेंगी खादी सिल्क साड़ियां

नई दिल्ली. खादी अब सरकारी कार्यालयों में भी लोकप्रिय होने लगी है. दिल्ली पुलिस अपनी महिला फ्रंट डेस्क कार्यकारियों के लिए सुंदर खादी सिल्क की...

विजयादशमी उत्सव (रविवार दि. 25 अक्तूबर 2020) के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत का दिया उद्बोधन

।।ॐ।। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प. पू. सरसंघचालक डॉ. श्री मोहन जी भागवत का विजयादशमी उत्सव (रविवार दि. 25 अक्तूबर 2020) के अवसर पर दिया उद्बोधन...

02 अक्तूबर गांधी जयंती – स्वदेशी गांधी बनाम अंग्रेजी नेहरु

नरेंद्र सहगल महात्मा गांधी एक व्यक्ति अथवा नेता नहीं थे. भारतीय अंतर्मन के एक सशक्त हस्ताक्षर थे महात्मा जी. ‘रामराज्य’, ‘वैष्णव-जन’ एवं हिन्द स्वराज जैसे...

सभी को साथ लेकर आगे बढ़ना, यही हमारी संस्कृति है – डॉ. मनमोहन वैद्य

रोहतक (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा कि हरियाणा के युवकों के लिए कृषि लघु प्रशिक्षण कार्यक्रमों के आयोजन...

आत्मनिर्भर भारत, संगठित भारत, स्वावलंबी भारत बनाना है – दत्तात्रेय होसबले

रोहतक (विसंकें). हरियाणा राज्य उच्च शिक्षा परिषद् एवं स्वदेशी स्वावलम्बन न्यास द्वारा आयोजित आयोजित वेबिनार दूसरे सत्र की अध्यक्षता करते हुए स्वदेशी जागरण मंच के...

ग्लोबल टाइम्स, चीन और भारत

डॉ. मयंक चतुर्वेदी चीन और भारत का सीमा विवाद कोई नया नहीं है. 1962 में चीन-भारत के बीच हुए युद्ध में जिस तरह से चीन...

“भारत-चीन संबंध और आत्मनिर्भरता का प्रण”

शुभम कुमार प्रमाणिकता के दौर में कसौटी पर सब कुछ परखा जाता है, चाहे वो "संबंध हो या प्रण". ज्यादा अतीत में नहीं जाएंगे, केवल...

विश्व को सही दिशा में चलने के लिए प्रेरित करने वाला बनेगा भारत – डॉ. मोहन भागवत

सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने किया पौधारोपण प्रवासी श्रमिक, पर्यावरण, स्वदेशी, ग्राम विकास और सामाजिक समरसता पर चर्चा रायपुर. जागृति मंडल, गोविन्द नगर, रायपुर...

लोकमान्य तिलक की ‘स्वदेशी’ अवधारणा और आत्मनिर्भर भारत

दिलीप धारुरकर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में लोकमान्य तिलक जी ने जिस चतु:सूत्री का प्रतिपादन किया था, उनमें ‘स्वदेशी’ और ‘बहिष्कार’ यह दो सूत्र थे. स्वदेशी...