You Are Here: Home » Posts tagged "स्वयंसेवक"

    हम जो लक्ष्य लेकर चले हैं, वह मातृशक्ति के बिना पूर्ण नहीं हो सकता – डॉ. मोहन भागवत

    गुजरात (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कर्णावती में आयोजित स्वयंसेवक परिवार मिलन कार्यक्रम को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि स्वयंसेवक जो कुछ काम संघ में करते हैं, वह जानकारी परिवार को भी दें, ऐसी पूर्ण अपेक्षा है क्योंकि हम जो काम करते हैं, वह कर सकें, उसके लिए हमारे घर में जो माता-बहनें हैं उनको जो करना पड़ता है, वह हमारे कार्य से कई गुना ज्यादा कष्टदायक है. उन्होंने कहा कि ...

    Read more

    संगठित समाज बिना संभव नहीं समर्थ भारत – डॉ. मोहन भागवत जी

    भोपाल. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि वैचारिक एवं सामाजिक नेतृत्व तैयार करने के लिए सभी अपने संगठनो में अनुशासित, धैर्यवान, सक्षम एवं स्वावलंबी कार्यकर्ताओं को जोडें. अपने कार्यों का विस्तार ग्रामीण स्तर तक करें ताकि आने वाले समय में हम सामाजिक चुनौतियों एवं कुरीतियों का सामना करने में सक्षम और स्वावलंबी बन सकें. सभी संगठनों के कार्यकर्ता एक दूसरे के पूरक बनकर स्वयंसेवक भाव ...

    Read more

    समस्याओं के समाधान के लिए सामर्थ्यवान स्वयंसेवक खड़े करने हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

    सरसंघचालक जी ने ग्राम विकास के कार्यों की समीक्षा की भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने प्रान्त एवं जिला के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में चर्चा करते हुए कहा कि धर्म संस्कृति एवं समाज के सर्वांगीण विकास को पूर्ण करने का दायित्व हमारा है. दायित्व को पूरा करने के लिए हम सभी को व्यक्ति निर्माण के कार्य में लग जाना चाहिए. समस्याओं के समाधान के लिए ऐसे सामर्थ्यवान स्वयंसेवक ...

    Read more

    संघ का कार्य व्यक्ति को गुण संपन्न बनाना है – बनवीर सिंह जी

    शिमला. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हिमाचल प्रदेश द्वारा 05 से 26 जनवरी तक आयोजित 20 दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर्ष (सामान्य) का शांति इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल नकड़ोह (ऊना, हिमाचल प्रदेश) में समारोप कार्यक्रम का आयोजन किया गया. प्रशिक्षण वर्ग में पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, दिल्ली सहित हिमाचल प्रांत के 337 स्वयंसेवकों ने भाग लिया. बीस दिन तक कठोर दिनचर्या का पालन करते हुए स्वयंसेवकों ने वर्ग में सीखे विभिन्न ...

    Read more

    मद्रास उच्च न्यायालय का सरकार को आदेश, पुस्तकों से हटाएं RSS से संबंधित तथ्यहीन/आपत्तिजनक सामग्री

    मद्रास उच्च न्यायालय ने 10 जनवरी को तमिलनाडु राज्य सरकार को 10वीं कक्षा की सामाजिक विज्ञान की पुस्तक से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संबंध में तथ्यहीन/आपत्तिजनक भाग को हटाने का निर्देश जारी किया. सुनवाई की अगली तारीख 22 जनवरी तय की गई है, उस समय सरकार को शपथ पत्र देकर बताना होगा कि कैसे पुस्तकों से सामग्री को हटाया जा सकता है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ चैन्नई के स्वयंसेवक पी चंद्रशेखरन ने मद्रास उच्च न्यायालय म ...

    Read more

    16 नवम्बर / जन्म दिवस – ब्रह्मदेश में संघ के प्रचारक रामप्रकाश धीर जी

    नई दिल्ली. ब्रह्मदेश (बर्मा या म्यांमार) भारत का ही प्राचीन भाग है. अंग्रेजों ने जब 1905 में बंग-भंग किया, तो षड्यंत्रपूर्वक इसे भी भारत से अलग कर दिया था. इसी ब्रह्मदेश के मोनीवा नगर में 16 नवम्बर, 1926 को रामप्रकाश धीर जी का जन्म हुआ था. बर्मी भाषा में उनका नाम ‘सयाजी यू सेन टिन’ कहा जाएगा. उनके पिता नंदलाल जी वहां के प्रसिद्ध व्यापारी एवं ठेकेदार थे. सन् 1942 में द्वितीय विश्व युद्ध के समय जब अंतरराष्ट्र ...

    Read more

    ‘दिव्यांग’ राहुल देशमुख कर रहे ‘दिव्य कार्य’ – भय्याजी जोशी

    मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने कहा कि ‘काम करते समय बीच में ही रुकने वाले बहुत दिखाई देते हैं, परंतु हार के पश्चात भी अपना कार्य निरंतर आगे ले जाने वाले राहुल देशमुख दृष्टीहीन होने के पश्चात भी समाज के लिए दिव्य कार्य कर रहे हैं. सरकार्यवाह ने राहुल देशमुख के कार्य की प्रशंसा की. वे दृष्टीहीन हैं, लेकिन उनका कार्य दिव्य है. केशवसृष्टी संस्था द्वारा समाज में उल्लेखनीय ...

    Read more

    07 नवम्बर / जन्मदिवस – संघ समर्पित माधवराव मूले जी

    नई दिल्ली. 7 नवम्बर, 1912 (कार्तिक कृष्ण 13, धनतेरस) को ग्राम ओझरखोल (जिला रत्नागिरी, महाराष्ट्र) में जन्मे माधवराव कोण्डोपन्त मूले जी प्राथमिक शिक्षा पूरी कर आगे पढ़ने के लिए वर्ष 1923 में बड़ी बहन के पास नागपुर आ गये थे. यहां उनका सम्पर्क संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी से हुआ. मैट्रिक के बाद उन्होंने डिग्री कॉलेज में प्रवेश लिया, पर क्रान्तिकारियों से प्रभावित होकर पढ़ाई छोड़ दी. इसी बीच पिताजी का देहान् ...

    Read more

    30 अक्तूबर / जन्मदिवस – बहुमुखी कल्पनाओं के धनी मोरोपन्त पिंगले जी

    नई दिल्ली. संघ के वरिष्ठ प्रचारक मोरोपन्त पिंगले जी को देखकर सब खिल उठते थे. उनके कार्यक्रम हास्य-प्रसंगों से भरपूर होते थे. पर, इसके साथ ही वे एक गहन चिन्तक और कुशल योजनाकार भी थे. संघ नेतृत्व द्वारा सौंपे गए हर काम को उन्होंने नई कल्पनाओं के आधार पर सर्वश्रेष्ठ ऊंचाइयों तक पहुंचाया. उनका पूरा नाम मोरेश्वर नीलकंठ पिंगले था. उनका जन्म 30 अक्तूबर, 1919 को हुआ था. वे बचपन में मेधावी होने के साथ ही बहुत चंचल ए ...

    Read more

    विश्व कल्याण के लिए वेदों के पुनर्तेजस्वीकरण की आवश्यकता है – डॉ. मोहन भागवत

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारतवर्ष के सभी लोगों के नित्य जीवन का वेदों से सम्बन्ध है. वेद का अर्थ जानना होता है. जिसको हम साइंस कहते हैं वो बाहर की बातें जानना है, वेद में विज्ञान भी है और ज्ञान भी, वह भी है जो समझ में नहीं आता. वेदों का ज्ञान अपने अंदर की खोज करता है. वेद समाज को उन्नत करते हैं, समाज को उन्नत धर्म करता है और धर्म का मूल वेद हैं. अध्यात्म वि ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top