करंट टॉपिक्स

स्वराज, स्वधर्म, स्वदेशी को अपनाकर समाज परिवर्तन के लिए तैयार हों कार्यकर्ता

नागपुर. राष्ट्र सेविका समिति की प्रमुख संचालिका शांताक्का जी ने कहा कि स्वराज, स्वधर्म, स्वदेशी की स्व-त्रयी को अपनाते हुए समाज परिवर्तन के लिये कार्यकर्ता...

स्वराज के जयघोष के साथ मातृशक्ति ने निकाली शौर्य वाहन यात्रा

राष्ट्र सेविका समिति सूरतगढ़ द्वारा मणिकर्णिका शौर्य वाहन यात्रा निकाली गई. समिति की सेविकाएं एवं नगर की अन्य मातृशक्ति को जोड़ते हुए 19 नवंबर को...

राष्ट्र का सांस्कृतिक विकास कभी भी कांग्रेस के एजेंडे में नहीं था

नोएडा. प्रेरणा शोध संस्थान न्यास, प्रेरणा जन सेवा न्यास और केशव सम्वाद पत्रिका द्वारा नोएडा के सेक्टर-12 स्थित सरस्वती शिशु मन्दिर में पाँच दिवसीय प्रेरणा...

नए ‘काल और पात्र’ के माध्यम से स्वतंत्रता की कहानी कहता है ’स्वराज’

डॉ. जय प्रकाश भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की कहानी को अभी तक प्लासी के युद्ध के बाद से कहने-सुनने का प्रचलन रहा है. स्वतंत्रता के नायकों...

अमृत महोत्सव लेखमाला – सशस्त्र क्रांति के स्वर्णिम पृष्ठ : भाग चार

कानून और इंसानियत का गला घोटकर, तोप से उड़ा दिए गए नामधारी सेनानी नरेन्द्र सहगल स्वधर्म और स्वराज के लिए 1857 में हुए देशव्यापी स्वतंत्रता...

इंदौर – स्वराज गौरव यात्रा, भगवा साफा बांधे मातृशक्ति दोपहिया वाहन रैली पर निकली

इंदौर. पहला अवसर है, जब इंदौर में स्वराज गौरव यात्रा से मातृशक्ति ने वाहन रैली के माध्यम से अपनी सशक्त भागीदारी का प्रदर्शन किया. आयोजक...

राष्ट्रीय पर्व – आइये उदासीनता तोड़ें

स्वराज प्राप्ति के 75वें वर्ष में प्रवेश करता अपना भारत. यह वर्ष स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के रूप में मनाया जा रहा है. इस गौरवशाली...

स्वराज मिला, स्वतंत्रता नहीं – जे. नंदकुमार

काशी. प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक जे. नंदकुमार जी ने कहा कि १९४७ की मध्य रात्रि में स्वराज मिला, स्वतंत्रता नहीं मिली. भारत के...

सरसंघचालक ने ‘Making of a Hindu Patriot’ पुस्तक का विमोचन किया

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने हर आनंद प्रकाशन द्वारा प्रकाशित 'Making of a Hindu Patriot' : Background of...

02 अक्तूबर गांधी जयंती – स्वदेशी गांधी बनाम अंग्रेजी नेहरु

नरेंद्र सहगल महात्मा गांधी एक व्यक्ति अथवा नेता नहीं थे. भारतीय अंतर्मन के एक सशक्त हस्ताक्षर थे महात्मा जी. ‘रामराज्य’, ‘वैष्णव-जन’ एवं हिन्द स्वराज जैसे...