करंट टॉपिक्स

अमृत महोत्सव – काशी का विद्यालय, जिसके छात्रों एवं शिक्षकों ने स्वतंत्रता वेदी पर दी थी आहुति

डॉ. हेमंत गुप्त अंग्रेजों के शासन काल में भारतीयों को मानसिक और बौद्धिक रूप से ग़ुलाम बनाने के लिए मैकाले ने भारतीय गुरुकुल शिक्षा को...

संपूर्ण भारत कभी एक साथ गुलाम नहीं हुआ – डॉ. आनंद शंकर सिंह

प्रयागराज. सिविल लाइन स्थित ज्वाला देवी इंटर कालेज में अमृत महोत्सव आयोजन समिति ने एक कार्यशाला का आयोजन किया. इतिहासविद डॉ. आनंद शंकर सिंह ने...

15 नवम्बर को जनजाति गौरव दिवस के रूप में मनाने की घोषणा स्वागतयोग्य – वनवासी कल्याण आश्रम

नई दिल्ली. जनजाति अस्मिता के नायक भगवान बिरसा मुंडा की जयंती 15 नवम्बर को जनजाति गौरव दिवस के रूप में मनाने का निर्णय केंद्र सरकार...

हमारे शोध की दिशा भारत के स्वत्व के आधार पर होनी चाहिए – जे. नंदकुमार

भोपाल. प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक जे. नंदकुमार ने कहा कि औपनिवेशिक मानसिकता के लेखकों ने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन को राजनीति तक सीमित...

1 लाख से अधिक ध्वजारोहण कर ऐतिहासिक बना ‘एक गाँव एक तिरंगा अभियान’

नई दिल्ली. अंडमान निकोबार द्वीप से लेकर मणिपुर के मोइरंग तक और जम्मू-कश्मीर के बारामूला से लेकर मलकानगिरी ओडिशा के सुदूर नवरंगपुर तक, लाखों नागरिकों...

अमृत महोत्सव – भारतीय स्वातंत्र्य समर का पुनरावलोकन

दत्तात्रेय होसबाले आज भारत औपनिवेशिक दासता से मुक्ति का पर्व मना रहा है. समारोहों की इस श्रृंखला के बीच जहां स्वतंत्र भारत की 75 वर्षों...