करंट टॉपिक्स

“कथनी नहीं, व्यवहार से स्वयं को समाज के समक्ष प्रस्तुत करो”

  लोकेंद्र सिंह डॉक्टर केशव बलिराम हेडगेवार ने 1925 में विजयादशमी के दिन शुभ संकल्प के साथ एक छोटा बीज बोया था, जो आज विशाल...

समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की अनुभूति से भारत बनेगा विश्वगुरू – अशोक कपिल

शिमला. विजयादशमी पथ संचलन कार्यक्रम में मुख्य वक्ता अशोक कपिल ने ने कहा कि जिस प्रकार विवेकानंद को रामकृष्ण परमहंस से मिलने के बाद ही...

पीपलांत्री मॉडल देखने पहुंचे जनजाति क्षेत्र के ग्राम विकास कार्यकर्ता

उदयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ग्राम विकास गतिविधि से जुड़े बांसवाड़ा व डूंगरपुर क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने राजसमंद जिले के पीपलांत्री गांव में विभिन्न कार्यों...

वर्षों पूर्व प्रतिबंध लगाने संबंधी जारी सरकारी निर्देश वापिस लिए गए

चंडीगढ़. हरियाणा सरकार के सरकारी कर्मचारी अब बिना किसी आधिकारिक अवरोध के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की गतिविधियों में भाग ले सकेंगे क्योंकि प्रदेश सरकार के...

सेवाकार्य समाज की सामूहिक जिम्मेदारी है – भय्याजी जोशी

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि सरकार व्यवस्थाओं का निर्माण करती है, लेकिन व्यवस्थाएं तभी...

हम एक हैं, इसलिए हमें एक रहना है – डॉ. मोहन भागवत

चंडीगढ़. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि जिन-जिन लोगों ने प्रामाणिकता, निःस्वार्थ बुद्धि से भारत के लिए काम किया...

सज्जन लोग सामर्थ्य का उपयोग दुर्बलों की रक्षा करने के लिए करते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

जम्मू. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने जम्मू प्रवास के चौथे दिन रविवार को अंबफला स्थित केशव भवन में वर्चुअल माध्यम...

चार दिन के प्रवास पर जम्मू पहुंचे सरसंघचालक मोहन भागवत

जम्मू. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी वीरवार दोपहर करीब 2:00 बजे जम्मू के अंबफला स्थित केशव भवन में पहुंचे. वे चार...

सामाजिक-आध्यात्मिक शक्ति के बल पर भारत विश्व का मार्गदर्शन करेगा – रामलाल जी

आगरा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखिल भारतीय संपर्क प्रमुख रामलाल ने कहा कि संघ संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी चिकित्सक थे और द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरुजी शिक्षक...

संस्कार ही विचार एवं आचार परिवर्तन के मुख्य धुरी है – आचार्यश्री महाश्रमण जी

"कुछ संस्कार जन्म से प्राप्त होते हैं, कुछ संस्कार सत्संग से प्राप्त होते हैं" - डॉ. मोहन भागवत जी भीलवाड़ा, 20 सितंबर 2021. आचार्यश्री महाश्रमण...