करंट टॉपिक्स

संघ कार्यकर्ता रुल्दा सिंह की हत्या के मामले में इंग्लैंड में तीन खालिस्तानी आतंकी गिरफ्तार

Spread the love

नई दिल्ली. ब्रिटेन पुलिस ने पंजाब में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता की हत्या के मामले में तीन खालिस्तान समर्थकों को गिरफ्तार किया है. तीनों खालि‍स्तानियों गुरशरणबीर सिंह वाहीवाल, अमृतबीर सिंह वाहीवाल और प्यारे सिंह को वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

ब्रिटेन के विदेश राज्य मंत्री डोमिनिक राब की हालिया भारत यात्रा और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की निर्धारित भारत यात्रा के बाद सोमवार को यह गिरफ्तारियां हुईं हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यूके के नागरिक गुरशरणबीर सिंह वाहीवाल, अमृतबीर सिंह वाहीवाल और प्यारे सिंह को वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने गिरफ्तार किया था और बाद में अदालत के आदेश के बाद उन्हें जमानत दे दी गई.

वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने कहा कि उन्होंने कोवेंटरी में 37 और 40 साल की उम्र के दो लोगों और वॉल्वरहैम्प्टन में 38 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. तीनों को हत्या की साजिश के संदेह में गिरफ्तार किया गया था. “वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में प्रत्यर्पण वारंट जारी होने के बाद सोमवार को तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था.” “उन्हें सख्त शर्तों के साथ जमानत पर रिहा किया गया है.”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पंजाब पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गुरशरणबीर सिंह और प्यारे सिंह ने 2009 में रुल्दा सिंह की हत्या को अंजाम देने के लिए यूके से उड़ान भरी थी. गुरशरणबीर अपने भाई अमृतबीर के पासपोर्ट पर यात्रा करने से पहले अपराध करने के लिए वापस ब्रिटेन चला गया.

इससे पहले, सितंबर 2018 में, वेस्ट मिडलैंड्स काउंटर-टेररिज्म यूनिट (WMCTU) ने छापा मारा था और गुरशरणबीर के घर की तलाशी ली थी. जुलाई 2010 में, पंजाब पुलिस द्वारा वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस के साथ मामले का विवरण साझा करने के बाद, गुरशरणबीर को हिरासत में लिया गया था, लेकिन जल्द ही रिहा कर दिया गया. ब्रिटेन की पुलिस टीम ने दिसंबर 2010 में पटियाला का दौरा किया था और इस मामले के अन्य आरोपियों से पूछताछ की थी, जो उस समय नाभा जेल में बंद थे.

फरवरी 2015 में पटियाला की एक अदालत ने गुरशरणबीर को मामले में घोषित अपराधी घोषित किया था. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की जांच के अनुसार, 2016-17 में पंजाब में लक्षित हत्याओं के मामले में गुरशरणबीर भी मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक है, जिसमें ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा (सेवानिवृत्त) की हत्या भी शामिल है.

29 जुलाई, 2009 की रात को दो हथियारबंद नौजवानों ने रूलदा सिंह (राष्ट्रीय सिक्ख संगत के प्रधान) को सरहिंद रोड स्थित उनके निवास के बाहर गोलियां मारकर घायल कर दिया था. 30 जुलाई की सुबह उन्हें पीजीआई चंडीगढ़ के लिए रेफर कर दिया गया. जहां लगातार 16 दिन उपचाराधीन रहने के बाद 16 अगस्त, 2009 को उन्होंने दम तोड़ दिया.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *