करंट टॉपिक्स

पत्रकारिता में सत्य के साथ समझौता नहीं करना चाहिए – सुनील आंबेकर

Spread the love

दिल्ली में 12वें देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह – 2022 का सफल आयोजन

विभिन्न श्रेणियों में 12 पत्रकारों को पत्रकारिता जगत में योगदान के लिए सम्मानित किया

नई दिल्ली. इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र, दिल्ली के तत्वाधान में 12वें देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह-2022 का सफल आयोजन किया गया. स्पीकर हॉल, कांस्टीट्यूशन क्लब, नई दिल्ली में आयोजित सम्मान समारोह  विभिन्न श्रेणियों में 12 पत्रकारों को सम्मानित किया गया.

कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुनील आंबेकर मुख्य वक्ता, डॉ. संजीव कुमार बालियान, राज्यमंत्री, मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय, भारत सरकार, आनंद नरसिम्हन, प्रबंध संपादक, नेटवर्क 18, विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए.

सुनील आंबेकर ने कहा कि हमारे जितने भी प्रोफेशन हैं, वह जब से शुरू हुए उसमें स्किल और नॉलेज पर तो जोर दिया ही गया, साथ ही उसका एक चरित्र भी दिया गया. हम जिस व्यक्ति को जिस प्रोफेशन की शिक्षा दे रहे हैं, उसमें उसको ग्रहण करने की क्षमता होनी चाहिए. उसे जो शक्ति दे रहे है, उसमें उपयोग करने की क्षमता होनी चाहिए. वह शक्ति का दुरुपयोग ना करें और समाज के हित में उपयोग करें. नारद जी पत्रकारिता की इसी शक्ति का प्रतीक हैं. जहां शक्ति का उपयोग समाज के हित में होना चाहिए.

उन्होंने कहा कि पत्रकारिता में सत्य को लेकर जाना और सत्य के साथ कोई समझौता नहीं करना. किस सत्य को लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, यह बहुत महत्वपूर्ण है, उसमें लोक हित सर्वोपरि चाहिए. एक रिस्पॉंसिबल जर्नलिज्म की बहुत आवश्यकता है. नारद जी समाचार पहुंचाने के साथ-साथ समाधान भी बताते और उसका मार्ग भी दिखाते थे.

मीडिया में सकारात्मकता की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि वातावरण में बदलाव आया है. आज भारत के लोग आकांक्षी बनकर आगे बढ़ना चाहते हैं, जो अनुकूल बात करता है वह लोगों को अच्छी लगती है, प्रतिकूल बातें अच्छी नहीं लगती है. मीडिया में भी लोग सकारात्मकता से आगे बढ़ रहे हैं. मीडिया में जिम्मेदारी की आवश्यकता है. हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने समाचार पत्रों को लोक जागरण का माध्यम बनाया. वे स्वतंत्रता सेनानी हमारी पत्रकारिता के आदर्श हैं.

हमें नई तकनीक से डरने की आवश्यकता नहीं है. टेक्नोलॉजी के झटके पहले भी लगते रहे हैं और आगे भी लगते रहेंगे.

मुख्य अतिथि डॉ. संजीव कुमार बालियान, ने कहा कि पत्रकारिता इतनी महत्वपूर्ण है कि वह हर जनमानस को प्रभावित करती है. वह सकारात्मक दिशा में होनी चाहिए ना कि नकारात्मक दिशा में.

हमें सभी विचारों का सम्मान करना चाहिए. अपनी विचारधारा पर काम करने के लिए हर व्यक्ति स्वतंत्र है. कोई भी विचारधारा हो पत्रकारिता में निष्पक्ष होना बहुत आवश्यक है. आपको किसी के पक्ष या विपक्ष में होने की जरूरत नहीं है. जो तथ्य है, उस तथ्य-सत्य के साथ होना है और तथ्यों के आधार पर ही विश्लेषण होना चाहिए.

विशिष्ट अतिथि आनंद नरसिम्हन, ने कहा कि देवर्षि नारद जी की भूमिका जो हम लोगों के मन में बनी है, उनकी भूमिका उससे बहुत बड़ी है. हममें से कितनों ने नारद संहिता पढ़ी है? हम में से कितनों ने अपने ग्रंथों को पढ़ा है, चाहे वह किसी भी भाषा में हो? हमने हमारी सभ्यता हमारी संस्कृति के बारे में क्या लिखा, क्या कहा? हमारा इतिहास आक्रान्ताओं का इतिहास है या भारत का इतिहास हमारा इतिहास है? समय बदल रहा है. आज मीडिया में लोग खुलकर भारत की बात कहने लगे हैं जो पहले संभव नहीं था.

कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेन्द्र ठाकुर, उत्तर क्षेत्र प्रचार प्रमुख अनिल जी, दिल्ली प्रान्त कार्यवाह भारत जी, दूरदर्शन के महानिदेशक मयंक अग्रवाल, ADG प्रिया कुमार सहित गणमान्य अतिथि उपस्थित रहे. इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र के अध्यक्ष अशोक सचदेवा ने धन्यवाद ज्ञापन दिया.

आशुतोष कुमार पाण्डेय, हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी न्यूज एजेंसी को युवा पत्रकार नारद सम्मान; निशांत कुमार आज़ाद, ऑर्गनाइजर को स्त्री सरोकार/ महिला संवेदना पत्रकार नारद सम्मान; उमाशंकर मिश्र, इंडिया साइंस वायर को ग्रामीण पत्रकारिता नारद सम्मान; सुरेश कुमार जायसवाल, दूरदर्शन न्यूज़ को न्यूज़ रूम सहयोग नारद सम्मान; नुपुर जे. शर्मा, ऑप इंडिया को डिजिटल पत्रकार नारद सम्मान; प्रियंका देव, न्यूज़ जंक्शन को सोशल मीडिया पत्रकार नारद सम्मान; मिहिर सिंह, पंजाब केसरी को उत्कृष्ट छाया चित्रकार (प्रिंट) नारद सम्मान; विद्यानाथ झा, न्यूज़ नेशन को उत्कृष्ट छाया चित्रकार (टी. वी) नारद सम्मान; उमेश चतुर्वेदी को उत्कृष्ट स्तम्भकार नारद सम्मान; पी.एम. नारायणन को विदेशी पत्रकारिता नारद सम्मान (भारत संबंधित पत्रकारिता) से सम्मानित किया गया. प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह, शॉल तथा 11,000/- रुपये का चेक देकर सम्मानित किया गया.

वरिष्ठ पत्रकार दीपक उपाध्याय को उत्कृष्ट पत्रकार नारद सम्मान से सम्मानित किया गया. इन्हें प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह, शॉल तथा 51,000/- रुपये की राशि का चेक देकर सम्मानित किया गया.

पूर्व संपादक, पत्रकार, स्तंभकार एवं लेखक बलबीर पुंज को आजीवन सेवा नारद सम्मान से सम्मानित किया गया. इन्हें प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह, शॉल तथा 1,00,000/- रुपये का चेक देकर सम्मानित किया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.