करंट टॉपिक्स

लोन एप के माध्यम से ठगने वाले दो चीनी नागरिक गिरफ्तार

Spread the love

नई दिल्ली. ग्रेटर नोएडा में STF को बड़ी सफलता मिली है. नोएडा STF ने ऑनलाइन धोखाधड़ी के आरोप में दो चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार दोनों आरोपियों के पास से 96 चालू सिम, गौरो मीडिया एप, 76 पर्चे और पासपोर्ट सहित 160 से अधिक सिम कार्ड बरामद किए गए हैं. मामले की गहनता से जांच की जा रही है.

नोएडा STF ने ज्वाइंट ऑपरेशन चलाकर ग्रेटर नोएडा में छापेमारी की. इस ऑपरेशन में अवैध रूप से रह रहे चीनी नागरिकों को मोबाइल एप के जरिए ठगी के आरोप में गिरफ्तार किया है.

लोन एप के माध्यम से ग्लोबल डिजिटल मार्केटिंग, पब्लिक रिलेशन एंड मार्केटिंग सॉल्यूशन और चिट फंड कंपनी बनाकर ऑनलाइन, फोन कॉल कर लुभावने ऑफर और सर्विस देने का झांसा देकर लोगों को शिकार बनाते थे. तथा  ठगी की रकम विभिन्न बैंक खातों में डलवाते थे.

डीसीपी ग्रेटर नोएडा जोन अभिषेक वर्मा ने बताया कि गौरो मीडिया एप के माध्यम से ठगी के कई मामले आने पर नॉलेज पार्क कोतवाली पुलिस मामले की छानबीन कर रही थी. साथ ही, एसटीएफ नोएडा भी इस पर काम कर रही थी. ठगों के बारे में अहम सुराग मिलने पर पुलिस की संयुक्त टीम ने शनिवार को दो चीनी नागरिकों को नॉलेज पार्क से गिरफ्तार किया. आरोपियों की पहचान फेन चेनजिन व हुआंग कुआन के रूप में हुई है.

उत्तर प्रदेश में अवैध रूप से रहने के आरोप में पिछले महीने नोएडा पुलिस ने 15 चीनी नागरिकों को हिरासत में लिया था. इस घटना को अभी कुछ दिन ही बीते हैं, दो अन्य चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है.

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क की रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर से ये गिरफ्तारियां की हैं. आरोपियों को उन्हें हिरासत में लेने के बाद पुलिस ने उन्हें दिल्ली के एक डिटेंशन सेंटर में भेज दिया है. यहां से उन्हें उनके देश भेजा जाना था.

पूर्व में पकड़े गए 15 चीनी नागरिकों में से 14 पुरुष और एक महिला शामिल हैं, ये सभी वीजा की अवधि समाप्त होने के बावजूद भारत में रह रहे थे. 15 में से दो को बीटा 2 से, तीन को सेक्टर 113 से, एक को सेक्टर 49 से, छह को फेज 2 से और तीन को सेक्टर 142 से हिरासत में लिया गया था.

इससे पहले भी गौतमबुद्धनगर पुलिस ने पांच चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया था. ये सभी 2020 से बीटा सेक्टर 2 में किराए के मकानों में अवैध रूप से रह रहे थे और एक निजी कंपनी में काम कर रहे थे. 22 अगस्त को चीनी नागरिकों को उनके सामान और पासपोर्ट के साथ गिरफ्तार किया था, उनका वीजा इस साल जनवरी में समाप्त हो गया था.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.