करंट टॉपिक्स

नेताजी की जयंती पर विद्या भारती का सुघोष दर्शन कार्यक्रम; 1500 विद्यार्थी करेंगे घोष वादन

Spread the love

भोपाल. स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती के अवसर पर विद्या भारती मध्यभारत प्रांत द्वारा ‘सुघोष दर्शन’ कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा. इसमें मध्यभारत प्रांत के चयनित सरस्वती शिशु मन्दिरों की 75 घोष इकाइयों के 1500 भैया-बहिनें (छात्र-छात्राएं) घोष वादन करेंगे. प्रदर्शन कार्यक्रम अरेरा कॉलोनी स्थित ओल्ड कैंपियन क्रिकेट मैदान भोपाल पर आयोजित होगा.

विद्या भारती मध्यभारत प्रांत संगठन मंत्री निखिलेश महेश्वरी ने गुरुवार को विश्व संवाद केंद्र में आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि विद्याभारती सरस्वती शिशु मन्दिरों में शिक्षा के साथ संस्कार देने का कार्य करती है. विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए विद्या भारती के आचार्य एवं संगठन कृत संकल्पित होकर कार्य कर रहे हैं. इन्हीं में से एक गतिविधि घोष वादन भी है. घोष वादन से मन में शौर्य का संचार होता है, संगीत मन को एकाग्र करता है. इसीलिए सरस्वती शिशु मन्दिरों में दक्ष आचार्यों द्वारा भैया-बहिनों को घोष वादन का प्रशिक्षण भी दिया जाता है.

सुघोष दर्शन कार्यक्रम के संबंध में बताया कि स्वाधीनता के अमृत महोत्सव में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर संपूर्ण मध्यभारत प्रांत से 1500 भैया-बहिन भोपाल पहुंचकर सामूहिक रूप से घोष वादन करेंगे. ओल्ड कैंपियन क्रिकेट मैदान पर कार्यक्रम प्रातः 11 बजे से प्रारंभ होगा. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान होंगे. विशिष्ट अतिथि गोविंद चंद्र महंत, अखिल भारतीय संगठन मंत्री विद्या भारती एवं विशिष्ट अतिथि टी. पी. एस. रावत, मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) होंगे.

उन्होंने बताया कि सुघोष दर्शन कार्यक्रम में 2 घंटे की अवधि में भैया-बहिनें घोष वादन एवं घोष संचलन करेंगे. इस अवसर वंशी वादन, शंख (बिगुल) वादन, आनक (साइड ड्रम), पणव (बॉस ड्रम), त्रिभुज (ट्रायंगल) सहित अन्य वाद्ययंत्रों का वादन घोष दल करेंगे. कार्यक्रम के अंतिम भाग में आयोजन स्थल ओल्ड कैंपियन क्रिकेट मैदान अरेरा कॉलोनी से विद्यार्थी घोष संचलन करते हुए सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय के सामने स्थित नेताजी सुभाष चन्द्र बोस प्रतिमा स्थल पर पहुंचेंगे और घोष वादन कर श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे. नेताजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया जाएगा और इसी के साथ कार्यक्रम का समापन होगा.

निखिलेश महेश्वरी ने बताया कि इतनी बड़ी संख्या में विद्यार्थी भैया-बहिनों के घोष दल का सामूहिक प्रदर्शन पहली बार हो रहा है.‌ गणमान्य नागरिक, सरस्वती शिशु मन्दिरों के विद्यार्थी भैया-बहिन, अन्य शासकीय एवं अशासकीय विद्यालयों के विद्यार्थी, आचार्य, अभिभावक, मातृशक्ति एवं नागरिकगण अद्भुत आयोजन के साक्षी बनेंगे. इसके लिए 7000 हजार लोगों के बैठने के लिए समुचित व्यवस्था की गई है.

समारोह का मंच पूरी तरह पर्यावरण मित्र (ईको फ्रेंडली) बनाया जा रहा है. इसे बनाने में टाट, सूत, गोबर, प्राकृतिक रंगों आदि का उपयोग किया जा रहा है. मंच पर भी संगीत के वाद्ययंत्रों की परिकल्पना दिखाई देगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.