करंट टॉपिक्स

सेवा का व्रत धारा – “देर रात पुलिस और सेना के साथ स्वयंसेवक भी सहयोग में जुटे”

Spread the love

धामनोद, धार. धामनोद के पास कारम डैम में दरार के कारण संभावित त्रासदी को देखते हुए शुक्रवार सुबह से ही संघ और सेवा भारती के स्वयंसेवक मोर्चा संभाले हुए हैं.

रात्रि में जैसे ही पुनः सूचना मिली, वैसे ही करीब 150 से ज्यादा स्वयंसेवक अपने घर से टॉर्च और दंड लेकर प्रभावित क्षेत्र में पहुंच गए. सभी स्वयंसेवकों ने अलग-अलग गावों में पहुंच कर मोर्चा संभाल लिया. स्वयंसेवकों ने रात में ही सभी गांव खाली कराने का एवं लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने का कार्य किया तथा धामनोद स्थित राहत स्थलों की व्यवस्था भी बनाई.

ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही भोजन, पानी की व्यवस्था में जुटे स्वयंसेवक

मालवा में मानसून अपने चरम पर है. इसी बीच एक चिंताजनक समाचार मिला. इंदौर के मानपुर घाट के आगे और खलघाट के बीच गुजरी ग्राम स्थान पर अत्यधिक बारिश के कारण निर्माणाधीन कारम डैम में दरार आ गई है और इसके कारण पानी का रिसाव आरंभ हो गया है. स्थिति की गंभीरता को भांपते हुए प्रशासन ने राष्ट्रीय राजमार्ग 03 के संवेदनशील हिस्से को हाई-अलर्ट पर रखते हुए चेतावनी जारी कर दी. और गांवों को खाली करवाना आरंभ कर दिया.

यहां स्थिति इतनी गंभीर है कि यदि और बरसात होती है और इससे डैम की दीवार टूटती है तो 11 गांवों में पानी भर जाएगा, पूरा ग्रामीण जनजीवन प्रभावित होगा. इसी आशंका को देखते हुए विषम परिस्थिति में समाजजनों की सहायता के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता भी सक्रिय हो गए. जैसे ही प्रशासन के माध्यम से स्वयंसेवकों को सूचना मिली, वे प्रशासन के साथ मिलकर गाँव खाली करवाने के अभियान में लग गए. साथ ही, ग्रामवासियों के लिए भोजन-पानी, उनके रहने के लिए स्थान, प्राथमिक उपचार के साथ-साथ यातायात व्यवस्था को सुगम्य बनाए रखने जैसी महत्वपूर्ण आवश्यकताओं को भी टोलियों के माध्यम से पूरा कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.