You Are Here: Home » Posts tagged "Dr. hedgewar"

    डॉ. हेडगेवार स्मारक समिति व सेवा भारती द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन

    इंदौर (विसंकें). डॉ. हेडगेवार स्मारक समिति एवं सेवा भारती जगन्नाथ के तत्वाधान में आदर्श शिशु विहार बंगाली चौराहा पर सुरक्षित रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. इंदौर के चिकित्सालयों मे रक्त की कमी महसूस की जा रही थी, इसी विषय को ध्यान में रखते हुए समिति द्वारा यह द्वितीय सुरक्षित रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. समाज के सभी वर्ग विशेषकर मातृशक्ति, युवाओं एवं समस्त समाज ने बढ़ चढ़कर रक्तदान किया. रक्तदान शिविर ...

    Read more

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन जी भागवत का वर्ष प्रतिपदा (25 मार्च, 2020) के अवसर पर संदेश :

    वर्ष प्रतिपदा उत्सव संकल्प का दिवस आत्मीय स्वयंसेवक बन्धुगण, आप सभी को नववर्ष युगाब्द 5122 की अनेकों शुभकामनाएं. इस संवत्सर का आरंभ ही ऐसे समय में हो रहा है, जब सारा विश्व एक वैश्विक संकट से जूझने में लगा है. सारे विश्व के साथ उस युद्ध में भारत भी लगा है. और इसलिए, स्वयंसेवकों का दायित्व भी है. यह उत्सव संकल्प दिवस है, परंपरा में अपने संकल्प का दिवस माना जाता है. कोरोना नामक विषाणु को परास्त करने के लिए जो ...

    Read more

    युवा संकल्प शिविर में स्वदेशाभिमान प्रदर्शनी का शुभारंभ

    गुना में आयोजित युवा संकल्प शिविर 2020 में आयोजित स्वदेशाभिमान प्रदर्शनी का गुरुवार को लोकार्पण हुआ. मुख्य अतिथि पंचमुखी हनुमान मंदिर के प्रमुख सियाराम जी दास महाराज एवं गुना के समाजसेवी उद्योगपति दर्शन सिंह जी बग्घा, सरदार बख्तावर सिंह, संघ के क्षेत्र सेवा प्रमुख अशोक अग्रवाल जी ने शुभारंभ किया. युवा संकल्प शिविर के निमित्त आयोजित प्रदर्शनी में 8  विषयों पर आधारित 250 से ज्यादा पेंटिंग्स प्रदर्शित की गई है ...

    Read more

    23 जनवरी – ब्रिटिश साम्राज्य पर अंतिम निर्णायक प्रहार करने वाले नेता जी सुभाष चंद्र बोस

    यह एक ऐतिहासिक सच्चाई है कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस के नेतृत्व में आजाद हिन्द फौज ने ब्रिटिश साम्राज्यवाद पर अंतिम निर्णायक प्रहार किया था. 21 अक्तूबर, 1943 को नेता जी द्वारा सिंगापुर में गठित आजाद हिन्द सरकार को जापान और जर्मनी सहित नौ देशों ने मान्यता दे दी थी. अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर इस सरकार ने 30 दिसंबर को भारत का राष्ट्रध्वज तिरंगा फहरा कर आजाद भारत की घोषणा कर दी थी. अंडमान और निकोबार के नाम बद ...

    Read more

    विनम्र श्रद्धांजलि – वनयोगी बालासाहब देशपाण्डे

    रमाकान्त केशव (बालासाहब) देशपांडे जी का जन्म अमरावती (महाराष्ट्र) में केशव देशपांडे जी के घर में 26 दिसम्बर, 1913 को हुआ था. अमरावती, अकोला, सागर, नरसिंहपुर तथा नागपुर में पढ़ाई पूरी करने के 1938 में वे राशन अधिकारी के पद नियुक्त हुए. उन्होंने एक बार एक व्यापारी को गड़बड़ करते हुए पकड़ लिया; पर बड़े अधिकारियों के साथ मिलीभगत के कारण वह व्यापारी छूट गया. इससे बालासाहब का मन खिन्न हो गया और उन्होंने नौकरी छोड ...

    Read more

    12 नवम्बर / प्रेरक प्रसंग – मस्जिद में खाकी निक्कर व भगवा पट्टी का सम्मान

    नई दिल्ली. विमान यात्रा सुखद तो है, पर उसकी दुर्घटनाएं बहुत दुखद होती हैं. ऐसा ही एक दुखद प्रसंग 12 नवम्बर, 1996 को घटित हुआ, जब हरियाणा में भिवानी के पास चरखी दादरी गांव के ऊपर दो विमान टकरा गये. इनमें से एक सऊदी अरब का तथा दूसरा कजाक एयरवेज का था. दोनों में आग लग गयी और वे ढाणी फोगाट, खेड़ी सनवाल तथा मालियावास गांवों के खेतों में आ गिरे. सऊदी विमान के कुल 312 लोगों में से 42 हिन्दू, 12 ईसाई तथा शेष सब मुस ...

    Read more

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

    कार्यप्रणाली राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एक कार्यप्रणाली अथवा मैथेडोलाजी है. जिसमें व्यक्ति निर्माण का काम किया जाता है. क्योंकि समाज के आचरण में कई प्रकार के परिवर्तन आज भी हम चाहते हैं. जैसे भेद मुक्त समाज, समता युक्त समाज, शोषण मुक्त समाज और स्वार्थ रहित समाज. संघ की योजना है कि प्रत्येक गांव और जिले में अच्छे स्वयंसेवक खड़े करना. अच्छे स्वयंसेवक का मतलब है ‘जिसका अपना चरित्र विश्वासास्पद और शुद्ध है. वह सम्प ...

    Read more

    महात्मा गाँधी की जीवनदृष्टि का अनुसरण करें

    डॉ. मोहन भागवत भारत देश के आधुनिक इतिहास तथा स्वतंत्र भारत के उत्थान की गाथा में जिन विभूतियों के नाम सदा के लिये अंकित हो गये हैं, जो सनातन काल से चलती आयी भारत की इतिहास गाथा के एक पर्व बन जायेंगे, पूज्य महात्मा गांधी का नाम उनमें प्रमुख है। भारत आध्यात्मिक देश है और आध्यात्मिक आधार पर ही उसका उत्थान होगा, इसे आधार बना कर भारतीय राजनीति को आध्यात्मिक नींव पर खड़ा करने का प्रयोग महात्मा गांधी ने किया। गांध ...

    Read more

    सेवा कार्य के आग्रही के. सूर्यनारायण राव

    संघ में ‘सुरुजी’ के नाम से प्रसिद्ध वरिष्ठ प्रचारक श्री के. सूर्यनारायण राव का जन्म 20 अगस्त, 1924 को कर्नाटक के मैसूर नगर में हुआ था. वैसे यह परिवार इसी राज्य के ग्राम कोरटगेरे (जिला तुमकूर) का मूल निवासी था. उनके पिता श्री कोरटगेरे कृष्णप्पा मैसूर संस्थान में सहायक सचिव थे. उन्होंने पूज्य गोंडवलेकर महाराज से तथा उनकी पत्नी श्रीमती सुंदरप्पा ने ब्रह्मानंदजी से दीक्षा ली थी. अतः धर्म के प्रति प्रेम सुरुजी क ...

    Read more

    अज्ञात स्वतंत्रता सेनानी : डॉक्टर हेडगेवार – 13  

    नरेंद्र सहगल भारतवर्ष की सर्वांग स्वतंत्रता के लिए चल रहे सभी आंदोलनों/संघर्षों पर डॉक्टर हेडगेवार की दृष्टि टिकी हुई थी,यही वजह रही कि डॉक्टर हेडगेवार ने अस्वस्थ रहते हुए भी अपनी पूरी ताकत संघ की शाखाओं में लाखों की संख्या में स्वयंसेवकों अर्थात् स्वतंत्रता सेनानियों के निर्माण कार्य में झोंक दी.भविष्य में होने वाले द्वितीय विश्वयुद्ध के समय ब्रिटिश साम्राज्यवाद की होने वाली पतली हालत को उन्होंने भांप लिया ...

    Read more

    हमारे न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करें

    VSK Bharat नवीनतम समाचार के बारे में सूचित करने के लिए अभी सदस्यता लें

    Scroll to top