प्रतिनिधि सभा में पश्चिम बंगाल में हिन्दू समाज की स्थिति और दुःखों पर प्रस्ताव पारित किया जाएगा

प्रतिनिधि सभा में पश्चिम बंगाल में हिन्दू समाज की स्थिति और दुःखों पर प्रस्ताव पारित किया जाएगा

कोयम्बटूर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की वार्षिक बैठक 19 मार्च, रविवार से सरकार्यवाह सुरेश भय्या जी जोशी की अध्यक्षता तथा पू, सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी…

गुरू गोविंद सिंह जी के समान पुरुषार्थ, साहस, त्याग और समर्पण की आवश्यकता – सुरेश भय्या जी जोशी

गुरू गोविंद सिंह जी के समान पुरुषार्थ, साहस, त्याग और समर्पण की आवश्यकता – सुरेश भय्या जी जोशी

सूरत, गुजरात (विसंकें). सर्वंशदानी गुरु गोविंद सिंह जी के 350वें प्रकाशवर्ष के अवसर 6 मार्च, रविवार को सूरत में आयोजित समागम कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्या…

समाज कार्य रूपी यज्ञ में तपस्या गुप्त सरस्वती की तरह सतत जारी रहनी चाहिये – डॉ. मोहन भागवत जी

समाज कार्य रूपी यज्ञ में तपस्या गुप्त सरस्वती की तरह सतत जारी रहनी चाहिये – डॉ. मोहन भागवत जी

चित्रकूट (विसंकें). चार दिवसीय विशाल ग्रामोदय मेले का समापन राष्ट्रऋषि नानाजी की सातवीं पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित जन संवाद कार्यक्रम के साथ हुआ. संवाद कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ…

हमें अपने दृष्टिकोण से भारत की सांस्कृतिक व बौद्धिक विरासत को देखना होगा – सुरेश सोनी जी

हमें अपने दृष्टिकोण से भारत की सांस्कृतिक व बौद्धिक विरासत को देखना होगा – सुरेश सोनी जी

भारतीय सभ्यता हमें मानवीय मूल्यों का पाठ पढ़ाती है – राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जी नई दिल्ली. भारतीय शिक्षण मंडल तथा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित अंतरराष्ट्रीय…

हिन्दुत्व अनुभव से, शास्त्र से, स्वभाव से भारत की राष्ट्रीयता है – दत्तात्रेय होसबले जी

हिन्दुत्व अनुभव से, शास्त्र से, स्वभाव से भारत की राष्ट्रीयता है – दत्तात्रेय होसबले जी

आज भारत से जात-पात, ऊँच-नीच, छुआछूत के भेद को मिटाने की आवश्यकता है नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि हिन्दुत्व अनुभव से,…

आर्थिक मॉडल में सामाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों को भी समाहित करने की आवश्यकता – दत्तात्रेय होसबले जी

आर्थिक मॉडल में सामाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों को भी समाहित करने की आवश्यकता – दत्तात्रेय होसबले जी

नई दिल्ली. भारत अपने शासन और नीतियों के बल पर प्रगति कर रहा है और भारतीय आर्थिक व सामाजिक विकास के वैश्विक कारकों के अनुसार आकार ग्रहण कर कार्यशील हो रहा है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक…

कोई भी काम और मनुष्य छोटा-बड़ा नहीं होता, सब समान होते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

कोई भी काम और मनुष्य छोटा-बड़ा नहीं होता, सब समान होते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

सेवाभारती के रजत जयंती वर्ष एवं संत रविदास जयंती के अवसर पर भोपाल में आयोजित श्रम साधक संगम में शामिल हुए सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक…

सहकारिता

सहकारिता का अर्थ है मिल जुलकर काम करना. हमारी संयुक्त परिवार व्यवस्था सहकारिता का एक अच्छा उदाहरण है. जब हम सहकारिता की बात करते हैं, तब हमारा उद्देश्य आर्थिक क्षेत्र में सहयोग करना होता है. हमारी सभी आवश्यक वस्तुएं सहयोग द्वारा ही जुटाई जाती हैं. आज के युग में कोई भी काम सहयोग के बिना पूरा नहीं हो सकता है. ह more ...

February 01, 2017 (0) comments

30 मार्च / जन्मदिवस – देशसेवा की कीमत वसूलने को पाप मानते थे अप्पा जी जोशी

नई दिल्ली. एक बार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार ने कार्यकर्ता बैठक में कहा कि क्या केवल संघकार्य किसी के जीवन का ध्येय नहीं बन सकता ? यह सुनकर हरिकृष्ण जोशी जी ने उन 56 संस्थाओं से त्यागपत्र दे दिया, जिनसे वे सम्बद्ध थे. यही बाद में ‘अप्पा जी जोशी’ के नाम से प्रसिद्ध हुए. 30 मार्च, 1897 को more ...

March 30, 2017 (0) comments
Scroll to top