हमें अपने दृष्टिकोण से भारत की सांस्कृतिक व बौद्धिक विरासत को देखना होगा – सुरेश सोनी जी

हमें अपने दृष्टिकोण से भारत की सांस्कृतिक व बौद्धिक विरासत को देखना होगा – सुरेश सोनी जी

भारतीय सभ्यता हमें मानवीय मूल्यों का पाठ पढ़ाती है – राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जी नई दिल्ली. भारतीय शिक्षण मंडल तथा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित अंतरराष्ट्रीय…

हिन्दुत्व अनुभव से, शास्त्र से, स्वभाव से भारत की राष्ट्रीयता है – दत्तात्रेय होसबले जी

हिन्दुत्व अनुभव से, शास्त्र से, स्वभाव से भारत की राष्ट्रीयता है – दत्तात्रेय होसबले जी

आज भारत से जात-पात, ऊँच-नीच, छुआछूत के भेद को मिटाने की आवश्यकता है नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि हिन्दुत्व अनुभव से,…

आर्थिक मॉडल में सामाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों को भी समाहित करने की आवश्यकता – दत्तात्रेय होसबले जी

आर्थिक मॉडल में सामाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों को भी समाहित करने की आवश्यकता – दत्तात्रेय होसबले जी

नई दिल्ली. भारत अपने शासन और नीतियों के बल पर प्रगति कर रहा है और भारतीय आर्थिक व सामाजिक विकास के वैश्विक कारकों के अनुसार आकार ग्रहण कर कार्यशील हो रहा है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक…

कोई भी काम और मनुष्य छोटा-बड़ा नहीं होता, सब समान होते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

कोई भी काम और मनुष्य छोटा-बड़ा नहीं होता, सब समान होते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

सेवाभारती के रजत जयंती वर्ष एवं संत रविदास जयंती के अवसर पर भोपाल में आयोजित श्रम साधक संगम में शामिल हुए सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक…

आदर्श व उन्नत खेती के लिए भी पांच 5 नियमों स्वच्छता, स्वाध्याय, तप, सुधर्म और संतोष का पालन करें – डॉ. मोहन भागवत जी

आदर्श व उन्नत खेती के लिए भी पांच 5 नियमों स्वच्छता, स्वाध्याय, तप, सुधर्म और संतोष का पालन करें – डॉ. मोहन भागवत जी

बनखेड़ी के समीप स्थित भाऊसाहब भुस्कुटे लोक न्यास के रजत जयंती समारोह में शामिल हुए सरसंघचालक, समग्र ग्राम विकास के प्रकल्पों का किया अवलोकन जल, जंगल और जमीन का विकास…

‘भारत माता की जय’ हमारे हृदय की भाषा है – डॉ. मोहन भागवत जी

‘भारत माता की जय’ हमारे हृदय की भाषा है – डॉ. मोहन भागवत जी

दुनिया भारत को विश्वगुरु की भूमिका में देख रही है - डॉ. मोहन भागवत जी भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि जब…

धर्म का मतलब केवल पूजा नहीं है – डॉ. मोहन भागवत जी

धर्म का मतलब केवल पूजा नहीं है – डॉ. मोहन भागवत जी

धर्म संपूर्ण सृष्टि को जोड़कर रखता है, जीवन सहित सृष्टि की उन्नति करता है - डॉ. मोहन भागवत जी जमशेदपुर (विसंकें). 68वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर बिष्टुपुर स्थित गुजराती…

सहकारिता

सहकारिता का अर्थ है मिल जुलकर काम करना. हमारी संयुक्त परिवार व्यवस्था सहकारिता का एक अच्छा उदाहरण है. जब हम सहकारिता की बात करते हैं, तब हमारा उद्देश्य आर्थिक क्षेत्र में सहयोग करना होता है. हमारी सभी आवश्यक वस्तुएं सहयोग द्वारा ही जुटाई जाती हैं. आज के युग में कोई भी काम सहयोग के बिना पूरा नहीं हो सकता है. ह more ...

February 01, 2017 (0) comments

21 फरवरी / पुण्यतिथि – कित्तूर की वीर रानी चेन्नम्मा

नई दिल्ली. कर्नाटक में चेन्नम्मा नामक दो वीर रानियां हुई हैं. केलाड़ी की चेन्नम्मा ने औरंगजेब से, जबकि कित्तूर की चेन्नम्मा ने अंग्रेजों से संघर्ष किया था. कित्तूर के शासक मल्लसर्ज की रुद्रम्मा तथा चेन्नम्मा नामक दो रानियां थीं. काकतीय राजवंश की कन्या चेन्नम्मा को बचपन से ही वीरतापूर्ण कार्य करने में आनंद आता more ...

February 21, 2017 (0) comments
Scroll to top