समाज हित, राष्ट्र हित को सदैव प्राथमिकता में रखे मीडिया – डॉ. कुलदीप चंद अग्निहोत्री जी

समाज हित, राष्ट्र हित को सदैव प्राथमिकता में रखे मीडिया – डॉ. कुलदीप चंद अग्निहोत्री जी

चामुण्डा (हिमाचल प्रदेश). हिमाचल प्रदेश के चामुण्डा में उत्तर भारत के नवोदित पत्रकारों के लिए दस दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है. कार्यशाला का आयोजन केंद्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला,…

चित्र भारती फिल्मोत्सव के लिए अब तक 200 फिल्में पंजीकृत

चित्र भारती फिल्मोत्सव के लिए अब तक 200 फिल्में पंजीकृत

इन्दौर (विसंकें). सामाजिक सरोकार पर आधारित राष्ट्रीय फिल्मोत्सव 26 से 28 फरवरी 2016 इन्दौर में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, तक्षशिला परिसर में खंडवा रोड पर आयोजित होने जा रहा है. जिसकी…

23 जनवरी / जन्मदिन – नेता जी सुभाष चंद्र बोस : एक संघर्षमयी गाथा

23 जनवरी / जन्मदिन – नेता जी सुभाष चंद्र बोस : एक संघर्षमयी गाथा

नई दिल्ली. भारतीय स्वतंत्रता महानायक सुभाषचन्द्र के निष्काम कर्म का साक्षात दर्शन है. हालांकि भारतीय स्वतंत्रता का श्रेय महात्मा गांधी और जवाहर लाल नेहरू को दिया जाता है. लेकिन स्वतंत्रता…

सामाजिक समरसता व्यवहार की बात

सामाजिक समरसता व्यवहार की बात

हम सब जानते हैं सामाजिक व्यवस्था में ‘समता’ यह एक श्रेष्ठ तत्व है. भारत के संविधान में इसे प्राथमिकता दी गयी है. समानतायुक्त समाज रचना, विषमता निर्मूलन इन विषयों पर…

भारतीय मनीषियों के चिंतन का मूल तत्व है “एकात्म मानव दर्शन” – डॉ. मोहन भागवत जी

भारतीय मनीषियों के चिंतन का मूल तत्व है “एकात्म मानव दर्शन” – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि हृदय की करुणा और तपस्वी जीवन यही पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी का परिचय है. उनके द्वारा…

हिन्दू समाज ने हमेशा सभी को संरक्षण ही दिया है – सुरेश भय्या जी जोशी

हिन्दू समाज ने हमेशा सभी को संरक्षण ही दिया है – सुरेश भय्या जी जोशी

कर्णावती (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कर्णावती (गुजरात) में आयोजित सामाजिक सदभाव बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि हिन्दू समाज कभी भी विनाशकारी नहीं…

छात्र शक्ति को सीमित संसाधनों को ध्यान में रख अपनी भूमिका तय करनी होगी – दत्तात्रेय होसबले जी

छात्र शक्ति को सीमित संसाधनों को ध्यान में रख अपनी भूमिका तय करनी होगी – दत्तात्रेय होसबले जी

नई दिल्ली (इंविसंके). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि सक्रांति को परिवर्तन का काल माना जाता है, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की पत्रिका का…

सामाजिक समरसता व्यवहार की बात

हम सब जानते हैं सामाजिक व्यवस्था में ‘समता’ यह एक श्रेष्ठ तत्व है. भारत के संविधान में इसे प्राथमिकता दी गयी है. समानतायुक्त समाज रचना, विषमता निर्मूलन इन विषयों पर काफी लिखा जाता है, चर्चा होती है और इसी का आधार लेकर समाज में भेद भी निर्माण किये जाते हैं. समता तत्व को लेकर स्वामी विवेकानन्द जी के चिंतन में भ more ...

January 20, 2016 (0) comments

10 फरवरी / बलिदान दिवस – स्वतंत्रता सेनानी राजा बख्तावर सिंह

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश के धार जिले में विन्ध्य पर्वत की सुरम्य श्रृंखलाओं के बीच द्वापरकालीन ऐतिहासिक अझमेरा नगर बसा है. वर्ष 1856 में यहां के राजा बख्तावर सिंह ने अंग्रेजों से खुला युद्ध किया, पर उनके आसपास के कुछ राजा अंग्रेजों से मिलकर चलने में ही अपनी भलाई समझते थे. राजा ने इस स्थिति हताश न होते हुए तीन ज more ...

February 10, 2016 (0) comments
Scroll to top