मातृशक्ति अपनी संतान तथा समाज को देवत्व की ओर ले जाए – प्रमिला ताई

मातृशक्ति अपनी संतान तथा समाज को देवत्व की ओर ले जाए – प्रमिला ताई

नई दिल्ली. राष्ट्र सेविका समिति की संस्थापिका लक्ष्मीबाई केलकर जी की 112वीं जयंती के उपलक्ष्य में दीनदयाल शोध संस्थान नई दिल्ली में प्रबुद्ध भारत की संकल्पना विषय पर संगोष्ठी का…

आंकड़ों में गिनने की बात नहीं, अनुभूति का विषय है सेवा  – भय्याजी जोशी

आंकड़ों में गिनने की बात नहीं, अनुभूति का विषय है सेवा  – भय्याजी जोशी

निष्काम भाव से काम कर रहा है संघ – शिवराज सिंह चौहान भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि समाज के अपने बंधुओं की…

योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिये – दत्तात्रेय होसबाले जी

योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिये – दत्तात्रेय होसबाले जी

लखनऊ (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने कहा कि योग जीवन पद्धति है. योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिए. सह सरकार्यवाह जी…

विश्व कल्याण का काम भारत ही कर सकता है  – डॉ. मोहन भागवत जी

विश्व कल्याण का काम भारत ही कर सकता है  – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत में पंथ, भाषा, परंपरा, पर्यावरण में विविधता है, फिर भी यह एकता की भूमि है.…

गौमाता कृषि और किसान के आर्थिक विकास का आधार –  सुरेश भय्याजी जोशी

गौमाता कृषि और किसान के आर्थिक विकास का आधार –  सुरेश भय्याजी जोशी

प्रथम तथा द्वितीय वर्ष संघ शिक्षा वर्ग का पुणे में समापन पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्या जी जोशी ने कहा कि गौरक्षा केवल आस्था का विषय…

28 मई / जन्मदिवस – अप्रतिम क्रांतिकारी, कवि, इतिहासकार वीर विनायक दामोदर सावरकर

28 मई / जन्मदिवस – अप्रतिम क्रांतिकारी, कवि, इतिहासकार वीर विनायक दामोदर सावरकर

नई दिल्ली. अप्रतिम क्रांतिकारी, समर्पित समाज सुधारक, महान कवि और महान इतिहासकार वीर सावरकर. सावरकर भारत के पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य के केन्द्र लंदन में उसके विरूद्ध क्रांतिकारी…

सफल होने के साथ-साथ व्यक्ति का जीवन उद्देश्यपूर्ण भी होना चाहिए – डॉ. मोहन भागवत जी

सफल होने के साथ-साथ व्यक्ति का जीवन उद्देश्यपूर्ण भी होना चाहिए – डॉ. मोहन भागवत जी

नई दिल्ली (इंविसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि जीवन में सफल होने के साथ-साथ जीवन को उद्देश्यपूर्ण भी होना चाहिए. तभी मनुष्य को…

हिन्दू संस्कृति : व्यष्टि से परमेष्ठी की अविरल यात्रा

अपने देश को छोड़कर शेष दुनिया में समाज जीवन को संचालित करने का आधार कानून है, जबकि हमारे यहां धर्म संचालित समाज जीवन है. सृष्टि संचालन के नियमों को समझने में असफल पश्चिम ने समाज व्यवस्था के लिए कानून का सहारा लिया, जो कृत्रिम व्यवस्था है. रवींद्र नाथ ठाकुर कहते थे कि अपने घर में प्रकाश करने के लिए यदि दीपक जला more ...

June 29, 2017 (0) comments

12 जुलाई / पुण्यतिथि – संघव्रती, जुगल किशोर परमार जी

नई दिल्ली. मध्यभारत प्रांत की प्रथम पीढ़ी के प्रचारकों में से एक जुगल किशोर जी परमार का जन्म इंदौर के एक सामान्य परिवार में वर्ष 1919 में हुआ था. भाई-बहनों में सबसे बड़े होने के कारण घर वालों को उनसे कुछ अधिक ही अपेक्षाएं थीं, पर उन्होंने संघव्रत अपनाकर आजीवन उसका पालन किया. जुगल जी किशोरावस्था में संघ के सम् more ...

July 12, 2017 (0) comments
Scroll to top