विश्व में ज्ञान के प्रसार के लिये भी भारतीय बलिदान देने से पीछे नहीं रहे – डॉ मोहन जी भागवत

विश्व में ज्ञान के प्रसार के लिये भी भारतीय बलिदान देने से पीछे नहीं रहे – डॉ मोहन जी भागवत

रोहतक (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन जी भागवत ने कहा कि भारत की गौरवशाली परंपरा रही है, इसी गौरवशाली परंपरा के कारण ही आज भारत का बड़ा…

संघ का कार्यकर्ता राष्ट्र के प्रति निष्ठावान : बजरंग लाल गुप्त

संघ का कार्यकर्ता राष्ट्र के प्रति निष्ठावान : बजरंग लाल गुप्त

रोहतक (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उत्तर क्षेत्र संघ चालक माननीय बजरंग लाल गुप्त ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पिछले 90 वर्षों से व्यक्ति निर्माण के कार्य में लगा…

सीमा पर रहने वाले भारतीय किसान हिन्दुस्तान की पहचान भी हैं

सीमा पर रहने वाले भारतीय किसान हिन्दुस्तान की पहचान भी हैं

नई दिल्ली. दूर-दूर तक रेत के पहाड़ और उनके बीच निःशब्दता को भंग करती सिंधु और उसकी सहायक नदियां – श्योक और जंस्कार. श्योक और जंस्कार को भी समृद्ध करने…

युवाओं को प्रेरणा देगी राष्ट्र गौरव, कर्तव्य बोध जागरण प्रदर्शनी : महंत चांदनाथ

युवाओं को प्रेरणा देगी राष्ट्र गौरव, कर्तव्य बोध जागरण प्रदर्शनी : महंत चांदनाथ

रोहतक  (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तरुणोदय 2015 शिविर के दृष्टिगत गुरुवार को शिविर स्थल बाबा मस्तनाथ विवि के इंजीनियरिंग परिसर में राष्ट्र गौरव एवं कर्तव्य बोध जागरण प्रदर्शनी का…

हिन्दू समाज के विभाजन के कारण देश विभाजित हुआ और विभाजित देश को गुलाम बनना पड़ा – संत शम्भूनाथ जी

हिन्दू समाज के विभाजन के कारण देश विभाजित हुआ और विभाजित देश को गुलाम बनना पड़ा – संत शम्भूनाथ जी

गुजरात (विसंकें). भारतीय समाज से अस्पृश्यता की कुरीति को दूर करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से प्रयास शुरू किया गया है. इसी के तहत धर्म जागरण…

देश को कभी कमजोर न होने देना ही शहीदों को सच्ची श्रद्धांजली – अनुज थापर

देश को कभी कमजोर न होने देना ही शहीदों को सच्ची श्रद्धांजली – अनुज थापर

गुजरात (विसंकें). गुजरात के आनंद शहर में 23 मार्च के दिन एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम की विशेषता यह रही कि इसमें तीनो शहीदों के परिवार के…

जीवन में नैतिक मूल्य जरूरी – प्रांत प्रचारक मुरलीधर जी

जीवन में नैतिक मूल्य जरूरी – प्रांत प्रचारक मुरलीधर जी

जोधपुर, 22 मार्च (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जोधपुर महानगर का वर्ष प्रतिपदा उत्सव स्थानीय उम्मेद स्टेडियम में मनाया गया. प्रान्त प्रचारक मुरलीधर जी कहा कि हिन्दू नववर्ष भारतीय काल गणना…

सीमा पर रहने वाले भारतीय किसान हिन्दुस्तान की पहचान भी हैं

नई दिल्ली. दूर-दूर तक रेत के पहाड़ और उनके बीच निःशब्दता को भंग करती सिंधु और उसकी सहायक नदियां – श्योक और जंस्कार. श्योक और जंस्कार को भी समृद्ध करने वाली छोटी नदियां नुब्रा, सरू, डोडा और लुंगनक और छोटी-बड़ी जलधाराएं. भारत के सीमांत पर उत्तर-पश्चिम का लद्दाख क्षेत्र है यह. इन नदियों ने अपने साथ लायी मिट्टी स more ...

March 27, 2015 (0) comments

26 मार्च – पेड़ों की रक्षा के लिये महिलाओं को प्रेरित करने वाली गौरादेवी

पूरी दुनिया लगातार बढ़ रही वैश्विक गर्मी से चिन्तित है. पर्यावरण असंतुलन, कट रहे पेड़, बढ़ रहे सीमेंट और कंक्रीट के जंगल, बढ़ते वाहन, एसी, फ्रिज, सिकुड़ते ग्लेशियर तथा भोगवादी पश्चिमी जीवन शैली इसका प्रमुख कारण है. हरे पेड़ों को काटने के विरोध में सबसे पहला आंदोलन पांच सितम्बर, 1730 में अलवर (राजस्थान) में इम more ...

March 26, 2015 (0) comments
Scroll to top