भारत  के ऋषि मुनियों का चिंतन चिरंतन और शाश्वत है – सुरेश भय्याजी जोशी

भारत  के ऋषि मुनियों का चिंतन चिरंतन और शाश्वत है – सुरेश भय्याजी जोशी

जयपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि हमारे ऋषि मुनियों के चिंतन की प्रासंगिकता पर कोई प्रश्न चिह्न नहीं लग सकता, क्योंकि उनका चिंतन…

संस्कारित समाज की रचना से ही सामाजिक परिवर्तन संभव – सुरेश भय्याजी जोशी

संस्कारित समाज की रचना से ही सामाजिक परिवर्तन संभव – सुरेश भय्याजी जोशी

25 फरवरी 2018 को होने वाले ‘राष्ट्रोदय’ कार्यक्रम के लिये भूमि पूजन मेरठ (विसंकें). मेरठ में ‘राष्ट्रोदय’ कार्यक्रम हेतू जागृति विहार एक्सटेंशन में तैयार किए गए संघ स्थान का विधिवत…

सर्वसमावेशी है भारतीय दर्शन – डॉ. कृष्णगोपाल जी

सर्वसमावेशी है भारतीय दर्शन – डॉ. कृष्णगोपाल जी

'ज्ञान संगम' में 'भारतीय जीवन दृष्टि - वर्तमान संदर्भ में व्याख्या' पर चिंतन-मंथन भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह एवं विचारक डॉ. कृष्ण गोपाल जी ने कहा कि…

अंग्रेजी पढ़ें व बोलें, पर जीवन पद्धति में पाश्चात्य संस्कृति का प्रवेश न होने दें – सुरेश भय्याजी जोशी

अंग्रेजी पढ़ें व बोलें, पर जीवन पद्धति में पाश्चात्य संस्कृति का प्रवेश न होने दें – सुरेश भय्याजी जोशी

देहरादून महानगर का शाखा दर्शन कार्यक्रम देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने परेड ग्राउण्ड देहरादून में आयोजित शाखा दर्शन कार्यक्रम में सम्बोधित किया. उन्होंने स्वयंसेवकों…

भारत भूमि पर विकसित सभी दर्शनों में सबके कल्याण का विचार – जे नंदकुमार जी

भारत भूमि पर विकसित सभी दर्शनों में सबके कल्याण का विचार – जे नंदकुमार जी

भोपाल (विसंकें). प्रज्ञा प्रवाह के राष्ट्रीय संयोजक जे. नंदकुमार जी ने कहा कि भारतीय दृष्टि समूची सृष्टि को ईश्वर ही मानती है. मनुष्य मात्र में ही नहीं, अपितु प्रकृति के प्रत्येक…

कर्त्तव्यनिष्ठा से उत्कृष्ट जीवन जीने की प्रेरणा देती है गीता – डॉ. मोहन भागवत जी

कर्त्तव्यनिष्ठा से उत्कृष्ट जीवन जीने की प्रेरणा देती है गीता – डॉ. मोहन भागवत जी

कहा, गीता का अनुसरण करते हुए समाज में लानी होगी एकता एवं आत्मीयता की भावना कुरुक्षेत्र (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि देश…

राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण हमारी आस्था का विषय है – डॉ. मोहन भागवत जी

राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण हमारी आस्था का विषय है – डॉ. मोहन भागवत जी

धर्म संसद में संतों ने दोहराया राम मंदिर निर्माण का संकल्प उडुपी. धर्मसंसद के प्रथम सत्र की अध्यक्षता करते हुए पेजावर पीठाधीश्वर पूज्य विश्वेशतीर्थ जी महाराज ने स्पष्ट घोषणा करते…

06 दिसम्बर / इतिहास स्मृति – राष्ट्रीय कलंक का परिमार्जन

नई दिल्ली. भारत में विधर्मी आक्रमणकारियों ने बड़ी संख्या में हिन्दू मन्दिरों का विध्वंस किया. स्वतन्त्रता के बाद सरकार ने मुस्लिम वोटों के लालच में ऐसी मस्जिदों, मजारों आदि को बना रहने दिया. इनमें से श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर (अयोध्या), श्रीकृष्ण जन्मभूमि (मथुरा) और काशी विश्वनाथ मन्दिर के सीने पर बनी मस्जिदें more ...

December 06, 2017 (0) comments

15 दिसम्बर / इतिहास स्मृति – राष्ट्रीय अपमान का बदला सांडर्स वध

नई दिल्ली. बात वर्ष 1928 की है. भारत माता की परतन्त्रता की बेड़ियां काटने के लिए जहां एक ओर आजादी के दीवाने जूझ रहे थे, वहीं दूसरी ओर शासन भारतीयों के दमन के लिए कठोर कानून ला रहा था. सरकार ने शिकंजे को मजबूत करने के लिए जॉन साइमन के नेतृत्व में एक आयोग नियुक्त किया, जो भारत में सब ओर प्रवास कर रहा था. इस आयो more ...

December 15, 2017 (0) comments
Scroll to top